टुडे न्यूज़

जीवन को सुन्दर व सफल बनाने का एकमात्र उपाय है सुन्दरकाण्ड : स्वामी परमात्मानन्द

हांसी में भक्तों को करवाया सुन्दरकाण्ड का अमृतपाठ

हिसार टुडे | 

जीवन को सुन्दर बनाने तथा सफलता के सूत्र पाने का एकमात्र उपाय सुन्दर कांड है। सुन्दर कांड ही एकमात्र ऐसा काण्ड है जो श्रीराम जी के भक्त हनुमान जी की विजय का काण्ड है।

उक्त उद्गार आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी परमात्मानन्द सरस्वती महाराज ने हांसी सैक्टर 6 में बिनू शर्मा के आवास पर आयोजित सुन्दर कांड के दौरान प्रवचन करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति के जीवन में सुख और दुख तो लगे ही रहते हैं, पर जब आप खुद को बहुत हैरान और परेशान पा रहे हों, कोई भी काम आपका नहीं बन पा रहा हो, आत्मविश्वास की कमी हो तो आप जरूर सुन्दरकाण्ड का पाठ करें तथा चमत्कार देखें। दुख की घटा झट से छट जाएगी और खुशहाली आपके पास दौड़ी चली जाएगी।

स्वामी जी ने बताया कि सर्व देवों में केवल हनुमान जी को ही अनिष्ट शक्तियां कष्ट नहीं दे सकती। लंका में लाखों राक्षस थे तब भी वे हनुमान जी का कुछ नहीं बिगाड़ पाए। भूतों के तो वे स्वामी हैं, ‘भूत पिशाच निकट नहीं आवे, महावीर जब नाम सुनावे’। उन्होंने कहा कि एक-एक युग में एक-एक देवता आए पर हनुमान चारों युगों में यानि सतयुग, त्रेता, द्वापर और कलियुग में विद्यमान हैं। ‘चारों युग प्रताप तुम्हारा, है प्रसिद्ध जगत उजियारा’।

हनुमान जी इस कलयुग में सबसे ज्यादा जागृत और साक्षात हैं। कलियुग में हनुमान जी की भक्ति लोगों को दुख और संकट से बचाने में सक्षम है। वे क्यों प्रमुख देव हैं, इसके चार कारण हैं। पहला यह कि वे वे रियल सुपर मैन हैं, दूसरावे पावरफुल होने के बावजूद ईश्वर के प्रति समर्पित हैं, तीसरो वे अपने भक्तों पर अपार कृपा करते हैं तथा चौथा वे आज भी सशरीर हैं यानि विद्यमान हैं। इस ब्रह्माण्ड में ईश्वर के बाद कोई शक्ति हैं तो वह हनुमान जी के रूप में ही है। वे सब कुछ देने में समर्थ हैं, ‘अष्ट सिद्धि नवनिधि के दाता’।
अंत में स्वामी जी ने भजन सुनाकर भक्तों को भाव विभोर किया। इस अवसर पर दिनेश कौशिक दिल्ली, मदन शर्मा चण्डीगढ़, बृजमोहन शर्मा खरखडा, धर्मपाल, नरेश शर्मा जुलाना व अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close