टुडे न्यूज़राष्ट्रीय

SC में बोली मोदी सरकार- रक्षा मंत्रालय से चोरी हुए राफेल के सीक्रेट पेपर

बहुचर्चित राफेल विमान सौदा आज एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट के दर पर पहुंचा है. बीते दिनों SC ने जो इस मुद्दे पर फैसला सुनाया था उसपर कई पुनर्विचार याचिका दायर की गई थीं.

लोकसभा चुनाव से पहले एक बार फिर राफेल विमान सौदे का मामला चर्चा में आया है| सुप्रीम कोर्ट में आज फिर राफेल विमान सौदे की सुनवाई हुई. सरकार की ओर से पेश अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कोर्ट को बताया कि मंत्रालय से कुछ कागजात चोरी किए गए है, जिसके हवाले से अखबार ने रिपोर्ट छापी है| इस पर जांच जारी है|

इसके अलावा AG ने कहा है कि जिन गोपनीय कागजों को अखबार ने छापा है उसको लेकर कार्रवाई होनी चाहिए| अटॉर्नी जनरल ने कहा कि कुछ डॉक्यूमेंट को रक्षा मंत्रालय से चोरी किया गया और आगे बढ़ाए गए| उन्होंने कहा कि ये केस काफी अहम है| अखबार ने कुछ गोपनीय जानकारी सार्वजनिक कर दी हैं|

सुनवाई की शुरुआत में पुर्नविचार याचिका दायर करने वाले प्रशांत भूषण ने 8 पेज का नोट कोर्ट को दिखाया| हालांकि, कोर्ट की ओर से कहा गया है कि वह इस मामले में कोई नया सबूत नहीं लेंगे, जो चीज़ें उपलब्ध हैं उन्हीं पर बात होगी|

केके वेणुगोपाल ने कहा कि राफेल सौदे पर अगर न्यायिक समीक्षा होती है तो भविष्य की खरीद पर असर पड़ सकता है| उन्होंने कहा कि विदेशी कंपनियों को इस बारे में विचार करना पड़ेगा| उन्होंने समझाया कि अभी हमें संसद, मीडिया और कोर्ट की कार्रवाई को पार करना पड़ता है| उन्होंने कहा कि मीडिया की तरफ से कोर्ट को प्रभावित किया जा रहा है|

बीते साल 13 दिसंबर, 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने राफेल विमान सौदे में फैसला सुनाया था और कहा था कि इस सौदे में किसी तरह की गड़बड़ी नहीं है| हालांकि, तब कुछ लोगों ने सवाल उठाया था कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के सामने सही कागजात पेश नहीं किए इसलिए फैसले पर पुनर्विचार किया जाना चाहिए|

फैसला आने के फौरन बाद केंद्र सरकार ने संशोधन याचिका दाखिल की थी|  इसके बाद प्रशांत भूषण ने याचिका दाखिल कर मांग की कि सरकार के दिए नोट में अदालत को गुमराह करने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए| 26 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया कि राफेल मामले को लेकर दिए अपने फैसले पर खुली अदालत में फिर से विचार होगा|

आपको बता दें कि वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण, बीजेपी के बागी नेता यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी, आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह और वकील एम एल शर्मा ने पुनर्विचार याचिका में अदालत से राफेल आदेश की समीक्षा करने के लिए अपील की है|

अपील में कहा गया कि सरकार ने राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए निर्णय लेने की सही प्रक्रिया का पालन नहीं किया है| मोदी सरकार ने 3 P यानी Price, Procedure, Partner के चुनाव में गफलत बनाए रखी और अनुचित लाभ लिया है|

वहीं, केंद्र सरकार की अपील में कहा गया है कि कोर्ट अपने फैसले में उस टिप्पणी में सुधार करे जिसमें CAG रिपोर्ट संसद के सामने रखने का ज़िक्र है| केंद्र का कहना है कि कोर्ट ने सरकारी नोट की गलत व्याख्या की है|

प्रशांत भूषण की एक याचिका जो सरकार द्वारा गए नोट में अदालत को गुमराह करने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई चाहती है| इसमें लिखा गया कि CAG ने राफेल पर संसद को अपनी रिपोर्ट सौंपी|

आपको बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरते रहे हैं| राहुल ने इस मुद्दे पर कई बार प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कहा कि पीएम मोदी ने अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने के लिए राफेल डील में गड़बड़ी की है|

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close