टुडे न्यूज़हिसार

कानून व्यवस्था का पिटा दिवाला: कमल हांडा

एक माह में नहीं हुआ आवारा पशुओं की समस्या का निदान तो अधिकारियों व विधायक के कार्यायल के बाहर बांधेंगे आवारा पशु

हिसार टुडे

समाजसेवी कमल हांडा भारतीय ने कहा है कि शहर को आवारा पशुओं से निजात दिलाने वाले पार्षद अमित ग्रोवर पर अज्ञात हमलावरों द्वारा हमला करना बताता है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था का दिवाला पिट गया है। ऐसे में न आम नागरिक सुरक्षित हैं, और ना ही जन प्रतिनिधि। उन्होंने नगर पार्षद अमित ग्रोवर व आवारा पशुओं की समस्या से शहर को निजात दिलाने वाले प्रत्येक व्यक्ति को पुलिस सुरक्षा देने की वकालत की है।

श्री हांडा के अनुसार हिसार जिले विशेषकर हिसार शहरवासियों के लिए ये आवारा पशु साक्षात यमराज का रुप धारण किए हुए हैं। शहर की सडक़ों, पार्क, मौहल्लों में हर जगह इन आवारा पशुओं का राज है। जिनके चलते शहर के कई लोगों की जहां मौत हो चुकी है, वहीं हर दूसरा सडक़ा हादसा इनके कारण होता है। उन्होंने कहा कि सरकार की कमजोर इच्छा शक्ति व मामले में लंबे समय तक टालने की रणनीति का ही परीणाम है कि इस प्रकार आवारा पशुओं से जुड़े लोगों ने माफिया का रुप धारण कर लिया है। उन्होंने कहा कि यदि प्रदेश सरकार ने शहर को आवारा पशुओं से निजात नहीं दिलाई तो आने वाले विधानसभा चुनावों में कमजोर प्रतिनिधियों की जनता कुर्सी से मुक्त कर देगी। उन्होंने कहा है कि आवारा पशुओं की समस्या आज शहर की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक समस्या बन चुका है। ऐसे में इस समस्या के समाधान के लिए सरकार व जिला प्रशासन को व्यापक रणनीति बनानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि यदि आने वाले एक माह में जिला प्रशासन व यहां के जन प्रतिनिधियों ने शहर को आवारा पशुओं से मुक्त नहीं किया तो उनके कार्यालय के बाहर आवारा पशुओं को बांध कर वे अपना विरोध जताएंगे। उन्होंने स्पष्ट चेतावनी दी है कि जब शहर की मुख्य समस्याओं आवारा पशु हैं तो सरकार इस दिशा में ध्यान क्यों नहीं दे रही है। उन्होंने घायल पार्षद अमित ग्रोवर से मुलाकात कर इस मामले में उन्हें हर संभंव सहयोग देने का आश्वासन भी दिया।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close