टुडे न्यूज़हिसार

पंचायती जमीन बचाने के लिए गांव बालावास के ग्रामीणों का बेमियादी धरना

 गांव बालावास की पंचायती जमीन को बचाने के लिए ग्रामीणों का चल रहा बेमियादी धरना आज 61वें दिन में प्रवेश कर गया है।

हिसार टुडे।
गांव बालावास की पंचायती जमीन को बचाने के लिए ग्रामीणों का चल रहा बेमियादी धरना आज 61वें दिन में प्रवेश कर गया है। गांव के सरपंच सुरेश कुमार ने प्रेस को जारी विज्ञप्ति में कहा है कि ग्राम पंचायत की जोहड़, कुंए, श्मशान घाट व कब्रिस्तान आदि की जमीन को भूमाफिया को फर्जी रजिस्ट्रियों द्वारा बेचे जाने व वन विभाग द्वारा लगाए गए तीन हजार पेड़ों को काटकर बेचने के विरोध में कइ बार जिला उपायुक्त से मिलने के बाद भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है जिससे गांव वासियों में रोष बढ़ता ही जा रहा है। सरपंच ने बताया कि 25 जून को भाजपा के जिला प्रधान सुरेन्द्र पुनिया व महामंत्री सुजीत कुमार धरनास्थल पर आए थे व 3-4 दिनों में समस्या का समाधान कराने की आश्वासन देकर गए थे किंतु दोनों नेताओं की ओर से अभी तक कोई सूचना नहीं है।
गांव के सरपंच सुरेश कुमार व पंच उमेद सिंह ने बताया कि भूमाफिया द्वारा एक विशेष जाति का नाम लिखकर कहा जा रहा है कि जोहड़ व कुंए पर पानी नहीं भरने दिया जा रहा है। उन्होंने स्पष्ट किया कि ऐसी गांव में किसी तरह की कोई बात नहीं है। 11 दिसम्बर 2017 को इस पूरी जमीन काइंतकाल पंचायत के नाम हो चुका है और कब्जा पंचायत का है। इसी जमीन पर वन विभाग ने पांच हजार पेड़ लगा थे। सरपंच व पंच ने कहा कि भूमाफिया चाहता है कि किसी भी तरह की जांच न हो और वो आगे भी इसी तरह से नये हथकंडे अपनाते रहे। उन्होंने मांग की है कि मामले की जांच की जाए और झूठी अफवाह फैलाने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए। सर्व कर्मचारी संघ के प्रदेशाध्यक्ष धर्मबीर फौगाट ने धरनास्थल पर पहुंचकर गांव वासियों की मांगों का समर्थन करते हुए सरकार से तुरंत समस्या का समाधान करने की पुरजोर अपील की है।
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close