टुडे न्यूज़ताजा खबरहरियाणाहिसार

टिकट घोषणा में देरी से ‘कुलदीप बिश्नोई-भव्य’ को सीधा नुकसान

बस यात्रा में डींगे हांकने वाले कांग्रेस नेता हुए मैदान से गायब

Hisar Today 

  • चुनावी समर में भी कांग्रेस के दफ्तर में छाया सन्नाटा

महेश मेहता | हिसार
कांग्रेस पार्टी जिस प्रकार से भाजपा को हरियाणा की हर सीट से नहले पर दहला देने की कोशिश कर रही है। उसके तहत उसने अपने कुछ प्रत्याशियों के नाम की घोषणा के साथ उन्हें चुनावी मैदान में प्रचार के लिए तैयार कर दिया है। कांग्रेस के दिग्गज इन तैयारियों में व्यस्त हैं और अब मुश्किल से लोकसभा चुनाव प्रत्याशियों के नामांकन के लिए महज कुछ दो दिन ही शेष बचे है मगर अभी तक कांग्रेस कुछ सीटों में अपना प्रत्याशी तय नहीं कर पा रही है।
राहुल प्रधानमंत्री बनने के फिराक में गठबंधन की कोशिशों में थे, मगर कांग्रेस के ही कुछ नेताओं की नासमझी के कारण महागठबंधन परवान नहीं चढ़ा। इतना ही नहीं हरियाणा के कांग्रेसी नेता पार्टी हाईकमान को यह सन्देश दे चुके हैं कि वह इस बार खुद मैदान पर नहीं उतरेंगे। इतना ही नहीं हिसार लोकसभा सीट से भी कुलदीप ने अपने बेटे भव्य की टिकट की मांग कर कांग्रेस वरिष्ठ नेता और हाईकमान को सरदर्द दे रखा है यही कारण है कि कांग्रेस हाईकमान ने अभी तक सबसे हॉट और बहुचर्चित सीट माने जाने वाले हिसार लोकसभा सीट से अपना कोई प्रत्याशी खड़ा नहीं किया है। पार्टी हाईकमान कुलदीप की बातों से सहमत नहीं है। वह नहीं चाहते कि भव्य को सीधे लोकसभा चुनाव लड़ाया जाए। यही कारण है कि पार्टी ने टिकट की घोषणा में देरी करके हिसार लोकसभा का चुनाव लड़ने से पहले हार मानने का काम किया है। क्योंकि इससे सन्देश कुलदीप के खिलाफ जा रहा है और खुद की फजीहत के डर से कांग्रेस नेता भी हिसार से अचानक गायब हो चुके हैं।

कुलदीप ने कहा कि राहुल गांधी ने कहा “भव्य की टिकट फाइनल”
कुलदीप बिश्नोई ने हाल में मीडिया में दिए बयान में इस बात का खुलासा किया था कि राहुल गांधी ने उन्हें कह दिया है कि भव्य ही लड़ेगा चुनाव, इसलिए वह प्रचार में व्यस्त हैं। भले ही कुलदीप यह कह रहे हों, मगर अगर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपने विचारो में इतने स्पष्ट है तो फिर सवाल यह उठ खड़ा होता है कि अगर नाम तय है तो घोषणा में देरी क्यों ? जानकारों का मानना है की अपने बेटे के लिए कुलदीप इतना दबाव बना रहे हैं हो सकता है कि पार्टी उनको टिकट ही न दे।

चुनाव के पहले ही हार मान चुकी कांग्रेस ?
हिसार लोकसभा चुनाव में महज गीतियो के दिन बचे है मगर अभी तक प्रत्याशी की घोषणा ही नहीं होने से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि हिसार लोकसभा चुनाव के पहले ही कांग्रेस अपनी हार मान चुकी है। हिसार की जनता जब चर्चा करती है तो नुक्कड़ सभाओं व अन्य चर्चाओं में जजपा और भाजपा की बात चल रही है, जबकि कांग्रेस अब चर्चा से ही बाहर हो चुकी है। गिनती के दिन में कांग्रेस प्रत्याशी हिसार जिले में खुद को कैसे स्थापित कर पायेगा, जनता से कैसे मिल पायेगा यह भी एक सवाल बना हुआ है। हिसार शहर ने तो अब तक कुलदीप और भव्य की शक्ल नहीं देखी। उनकी शकल सिर्फ उनके बंगलो में दिखाई देती है। उनका प्रचार कार्यक्रम भी हिसार में बेहद कम नजर आ रहा है।

असमंजस में कांग्रेस
हिसार लोकसभा चुनाव के पहले तक बस यात्रा करने वाले कांग्रेस के दिग्गज बड़े जोश में कहते थे कि भाजपा जो खुद को पुरानी पार्टी कहती है उसके पास कोई उम्मीदवार ही नहीं जो वो हिसार से खड़ा कर सके, मगर आज उन्ही भाजपा पर आरोप लगाने वाली कांग्रेस की खुलेआम फजीहत हो रही है, जब भाजपा के ही प्रत्याशी बृजेन्द्र सिंह यह कटाक्ष कर रहे हैं कि सबसे पुरानी पार्टी ही आज असमंजस में है कि चुनाव में किसे खड़ा करे क्योंकि वह अब भाजपा के समक्ष अपना उम्मीदवार खड़े करने से डर रही है।

कांग्रेस नेता गायब, चुनाव में भी “कांग्रेस कार्यालय में सन्नाटा”
एक तरह भाजपा, जाननायक जनता पार्टी के कार्यकर्ता एक्टिव मोड़ में नजर आ रहे हैं, मगर दूसरी तरफ सीटों की घोषणा में हो रही देरी के कारण कांग्रेस नेता अचानक चुनावी माहौल में गायब नजर आ रहे हैं। वह न ही भव्य और कुलदीप के प्रचार सभाओं में दिख रहे हैं और न ही मीडिया के सामने आने की जुर्रत कर रहे हैं। वैसे जाए भी तो जाएं किस मुंह से, क्योंकि अभी तक न पार्टी का कुछ पता है, न उम्मीदवार का ? गुलाम नबी आजाद भी गायब हैं। हिसार कांग्रेस के दफ्तर में भी सन्नाटा पसरा है। कांग्रेस के हालत देखकर लगता ही नहीं कि हिसार लोकसभा सीट से कांग्रेस चुनाव में खड़ी है।

टिकट घोषणा में हो रही देरी से कुलदीप के खिलाफ जा रहा संदेश
हिसार लोकसभा चुनाव में सीटों की घोषणा में किये जा रहे देरी के कारण सबसे बड़ी मुसीबत इन दिनों कांग्रेस पार्टी से चुनावी मैदान में अपने बेटे को उतारने की स्वयं घोषणा कर चुके कुलदीप बिश्नोई और उनके परिवार को आ रही है। टिकट घोषणा में हो रही देरी के लिए हिसार की जनता और विपक्ष सीधे कांग्रेस का चटकारे लेकर खिल्लियां उड़ा रहे हैं। विपक्ष तो सीधे तौर पर आरोप लगा रहा है कि कुलदीप बिश्नोई अपने पुत्र मोह में पड़े हैं और पार्टी बेटे को टिकट नहीं देना चाहती। इतना ही नहीं आम जनता में भी यह धारणा बन गयी है कि कांग्रेस के नेता ही नहीं आते, नहीं दिखते, लोग तो अब यह सवाल करने लगे हैं कि चुनाव लड़ कौन रहा है कुलदीप या उनका बेटा ?

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close