टुडे न्यूज़राष्ट्रीय

कुंभ सफाईकर्मियों के लिए पीएम मोदी ने निजी बचत से दान किए 21 लाख

पीएम मोदी ने कुंभ में जाकर वहां के सफाई अभियान की तारीफ की थी। पीएम ने कहा था कि 22 करोड़ लोगों के बीच सफाई बड़ी जिम्मेदारी थी और अपने साबित किया कि दुनिया में नामुमकिन कुछ भी नहीं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अपने निजी बैंक अकाउंट से 21 लाख रुपये कुंभ के सफाई कर्मचारियों के लिए बने फंड में दान किए। पीएम मोदी ने कुंभ 2019 के ‘शानदार’ आयोजन के लिए उत्तर प्रदेश को बधाई दी और कहा कि इसने संस्कृति और आध्यात्मिकता को बेहतरीन तरीके से दर्शाया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में पूरे प्रशासन द्वारा किए गए कार्यों की सराहना करते हुए मोदी ने ट्वीट किया, ‘उत्तर प्रदेश, खासकर प्रयागराज के लोगों को बधाई।’ उनकी टिप्पणी 50 दिवसीय धार्मिक, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक कुंभ मेले के समापन के एक दिन बाद आई है। प्रयागराज कुंभ के बारे में उन्होंने कहा, ‘इस कुंभ ने हमारी संस्कृति, आध्यात्मिकता को शानदार तरीके से दर्शाया और इसे आने वाले कई वर्षों तक याद रखा जाएगा।’ 

पीएम मोदी ने एक ही स्थान पर ढेर सारे लोगों की भीड़ को अच्छे से संभालने के मामले में प्रौद्योगिकी के उपयोग की सराहना की। उन्होंने कहा, ‘सबसे अधिक संख्या में लोगों द्वारा सफाई करने का रेकॉर्ड कायम किया गया। परिवहन और कला के क्षेत्र में भी रेकॉर्ड बनाए गए। कुंभ के व्यवस्थित रूप से आयोजन में प्रौद्योगिकी का उपयोग सराहनीय था।’ 
इससे पहले 24 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रयागराज पहुंचे थे और कुंभ मेले में शामिल होते हुए त्रिवेणी संगम में आस्था की डुबकी लगाई थी। गंगा स्नान के बाद पीएम ने पांच स्वच्छाग्रहियों (तीन पुरुष, दो महिलाओं) यानी सफाईकर्मियों के पैर धोकर, उनका आशीर्वाद भी लिया थी। सफाई कर्मचारियों के पैर धो कर पीएम मोदी ने उनके पैर पोछे थे और उन्हें एक शॉल भी भेंट की थी। 

पीएम मोदी ने कुंभ में सफाई अभियान की तारीफ करते हुए कहा था, ’22 करोड़ लोगों के बीच सफाई बड़ी जिम्मेदारी थी, अपने साबित किया कि दुनिया में नामुमकिन कुछ भी नहीं। ये सफाईकर्मी बिना किसी की प्रशंसा के चुपचाप अपना काम कर रहे थे। लेकिन इनकी मेहनत का पता मुझे दिल्ली में लगातार मिलता रहता था। लोग कुंभ की भूरि-भूरि प्रशंसा कर रहे हैं। इस प्रशंसा के हकदार आप हैं।’ 

पीएम मोदी ने सफाईकर्मियों के लिए स्वच्छ सेवा कोष की घोषणा करते हुए कहा, ‘आज स्वच्छ सेवा कोष की भी घोषणा की गई है। इस कोष से आपके परिवार को विशेष परिस्थितियों में मदद सुनिश्चित हो पाएगी। यह देशवासियों की तरफ से आपका आभार है। इस बार कुंभ की पहचान स्वच्छ कुंभ के तौर पर हुई तो केवल सफाई कर्मचारियों के कारण यह संभव हो सका।’ 

नमामि गंगे और बेटियों की पढ़ाई के लिए किया था डोनेट 
कुंभ सफाईकर्मियों के लिए 21 लाख रुपये दान करने से पहले भी पीएम मोदी इस तरह की दरियादिली दिखा चुके हैं। हाल ही में सियोल शांति पुरस्कार के तौर पर मिली एक करोड़ 30 लाख रुपये की राशि को पीएम मोदी ने गंगा की सफाई के लिए चल रहे नमामि गंगे प्रॉजेक्ट को दान कर दी थी। इसके अलावा पीएम के तौर पर उनके कार्यकाल के दौरान उन्हें मिले स्मृति चिह्नों की नीलामी से प्राप्त 3.40 करोड़ रुपये की राशि भी उन्होंने नमामि गंगे प्रॉजेक्ट को दान दे दी थी। 2015 में भी उन्हें मिले उपहारों की नीलामी की गई थी, इससे मिले 8.33 करोड़ रुपये उन्होंने नमामि गंगे मिशन को दान कर दिए थे। 

इसके अलावा गुजरात के मुख्यमंत्री रहने हुए मोदी ने अपनी निजी बचत से 21 लाख रुपये गुजरात के सरकारी कर्मचारियों की बेटियों की पढ़ाई के लिए दान किए थे। साथ ही मुख्यमंत्री के तौर पर उन्हें मिले उपहारों की नीलामी करके प्राप्त 89.96 करोड़ रुपये उन्होंने कन्या केलावनी फंड में दान किए थे। इस पैसे का इस्तेमाल लड़कियों की शिक्षा के लिए किया जाता है। 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close