टुडे न्यूज़हरियाणा

ईवीएम के मतों की गणना के बाद होगी वीवीपैट की पर्चियों की गिनती : उपायुक्त

जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त अशोक कुमार मीणा तथा अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान ने मतगणना की जिम्मेदारी निभाने वाले 710 कर्मचारियों को दिया सघन प्रशिक्षण
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त अशोक कुमार मीणा ने कहा कि 23 मई को लोकसभा चुनाव की मतगणना के लिए पहले पोस्टल बैलेट व ईवीएम की कंट्रोल यूनिट के मतों की गणना करवाई जाएगी। इसके पश्चात प्रत्येक विधानसभा सेग्मेंट की 5-5 वीवीपैट मशीनों का रेंडमली चयन करके उनकी पर्चियों की गिनती की जाएगी।
उपायुक्त अशोक कुमार मीणा ने यह बात आज गुरु जंभेश्वर विश्वविद्यालय के सभागार में आयोजित एक प्रशिक्षण शिविर के दौरान मतगणना की जिम्मेदारी निभाने वाले काउंटिंग सुपरवाइजर, काउंटिंग असिस्टेंट तथा माइक्रो ऑब्जर्वर के प्रशिक्षण शिविर को संबोधित करते हुए कही। प्रशिक्षण शिविर में 710 कर्मचारियों ने भागीदारी की। उपायुक्त अशोक कुमार मीणा व अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान ने इन्हें मतगणना कार्य की प्रत्येक बारीकी के संबंध में सघन जानकारी देते हुए इनकी जिज्ञासाओं का भी समाधान किया।
उपायुक्त ने लोकतंत्र के पर्व में भूमिका निभाने वाले सभी कर्मियों को बधाई देते हुए बताया कि हमने लोकसभा चुनाव की अब तक हुई प्रक्रिया को शांति व सफलता के साथ पूर्ण कर लिया है। अब चुनाव का सर्वाधिक व अंतिम महत्वपूर्ण कार्य मतगणना का होगा जो 23 मई को करवाया जाना है। इस कार्य में संसदीय क्षेत्र की सभी 9 विस सेग्मेंट व पोस्टल बैलेट की गणना के लिए 10 मतगणना केंद्र बनाए गए हैं। 
उन्होंने बताया कि प्रत्येक मतगणना केंद्र पर 14 टेबल लगाई जाएंगी जिन पर एक काउंटिंग सुपरवाइजर, एक काउंटिंग असिस्टेंट तथा एक माइक्रो ऑब्जर्वर नियुक्त होगा। आज प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले कर्मचारियों को मतगणना से एक दिन पहले एसएमएस से पता लगेगा कि उनकी ड्यूटी किस विस सेग्मेंट के मतगणना केंद्र पर लगी है। सभी कर्मचारी 23 मई को सुबह 5.30 बजे अपने-अपने मतगणना केंद्र पर पहुंचेंगे। उन्होंने हिदायत दी कि कोई भी कर्मचारी पहचान पत्र के बिना ड्यूटी पर न आए, क्योंकि वैध पहचान पत्र के बिना कोई भी व्यक्ति मतगणना केंद्र में प्रवेश नहीं कर पाएगा।
उपायुक्त ने बताया कि मतगणना के लिए टेबल पर पहले केवल सीयू (कंट्रोल यूनिट) ही लाई जाएगी। प्रत्येक राउंड का परिणाम प्राप्त होने के बाद इसे पहले सुविधा पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। इसके पश्चात इसकी विधिवत् रूप से घोषणा की जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रत्येक सीयू के परिणाम प्राप्त होने केे बाद इसे सभी काउंटिंग एजेंट को दिखाकर उनकी तसल्ली करवाई जाए और इसके उपरांत परिणाम शीट पर काउंटिंग एजेंट्स के हस्ताक्षर करवाए जाएं। 
उन्होंने बताया कि ईवीएम के बाद प्रत्येक विस सेग्मेंट के 5-5 मतदान केंद्रों की वीवीपैट मशीनों की पर्चियों की गणना की जाएगी। वीवीपैट का चयन रेंडमली आधार पर लॉटरी प्रणाली के माध्यम से किया जाएगा। वीवीपैट की पर्चियों की गणना का कार्य टेबल नंबर 1 पर बने केबिन में किया जाएगा। उपायुक्त मीणा ने सर्विस वोटर्स द्वारा भेजे गए पोस्टल बैलेट की गणना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इसके लिए 20 सुपरवाइजर लगाए गए हैं जो पोस्टल बैलेट के क्यूआर कोड को स्कैन करेंगे। पोस्टल बैलेट के लिए नियुक्त किए गए कर्मियों को पुन: प्रशिक्षण दिया जाएगा तथा पूरी प्रक्रिया का ड्राई रन भी करवाया जाएगा ताकि वे अपने कार्य में पारंगत हो सकें।
अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान ने बताया कि मतगणना में सभी कर्मचारी निष्पक्ष रूप से अपनी जिम्मेदारी निभाएं। हमारे लिए सभी 26 प्रत्याशी और नोटा एक समान हैं। हमें किसी के साथ भेदभाव नहीं करना है। कर्मियों की हर गतिविधि की वीडियो रिकॉर्डिंग होगी, इसलिए उनकी कोई भी लापरवाही अथवा गलती छिप नहीं सकेगी। जो कर्मचारी नियमों के अनुसार कार्य नहीं करेगा उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी। मतगणना करने वाले कर्मचारी कंट्रोल यूनिट के कुल वोट का मिलान मतदान के दिन पीठासीन अधिकारी द्वारा भरे गए फार्म 17सी से करें। 
उन्होंने बताया कि मतगणना हॉल में पैन, पेंसिल, मोबाइल फोन, चाबी-छल्ला, चाकू या बीड़ी-माचिस अथवा कोई भी इलेक्ट्रोनिक्स उपकरण या अन्य वस्तुएं लेकर जाना प्रतिबंधित रहेगा। मतगणना केंद्र में प्रवेश से पूर्व ये वस्तुएं बाहर की रखवा ली जाएंगी। कर्मचारियों को सभी आवश्यक वस्तुएं मतगणना केंद्र के भीतर ही दी जाएंगी। उन्होंने कहा कि मतगणना में किसी प्रकार की जल्दबाजी या हड़बड़ी नहीं करनी है। आराम से कार्य करते हुए, तथ्यों को वेरीफाई करके व काउंटिंग एजेंट्स की तसल्ली करवाते हुए मतगणना का कार्य आगे बढ़ाना है। प्रत्येक टेबल पर नियुक्त कर्मचारियों को बताया जाएगा कि उनकी टेबल पर किन बूथों की कंट्रोल यूनिट आएगी, उन्हें केवल वही कंट्रोल यूनिट स्वीकार करनी हैं।
प्रशिक्षण शिविर में भिवानी के अतिरिक्त उपायुक्त मनोज कुमार, हांसी के एसडीएम विरेंद्र सहरावत, हिसार के एसडीएम परमजीत सिंह, नारनौंद के एसडीएम सुरेंद्र कुमार, बरवाला के एसडीएम सुशील कुमार, रोडवेज जीएम विकास यादव, डीआरओ राजबीर धीमान व बिजेंद्र भारद्वाज, डीडीपीओ अश्वीर सिंह, डीआईओ एमपी कुलश्रेष्ठ, अतिरिक्त डीआईओ अखिलेश कुमार व चुनाव नायब तहसीलदार हनुमान सिंह सहित अन्य विभागों के अधिकारी भी मौजूद थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close