खेलकूदटुडे न्यूज़

‘लीडरशिप’ का स्तर ऊंचा कर रहे हैं कैप्टन विराट कोहली

लीडरशिप कवालिटी क्या होती है

हिसार टुडे।

लीडरशिप कवालिटी क्या होती है यह टीम इंडिया के कैप्टन विराट कोहली से सीखा जा सकता है। मुश्किल वक्त में कैसे हंसते हुए मैदान में रणनीति को अमल में लाया जाए और फिर उससे परिणाम हासिल किया जाए यह कैप्टन कोहली की विराट कला बन गई है। भारत और चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के बीच ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर रविवार को वर्ल्ड कप मैच में एक वाक्या कैमरे में कैप्चर नहीं हुआ।

राष्ट्रगान के बाद टीम इंडिया के कैप्टन विराट कोहली जल्दी से लोकेश राहुल के पास पहुंचे और उनके कंधे पर हाथ रखा। करीब 30 सेैकंड तक दोनों के बीच कुछ बातचीत हुई और फिर रोहित शर्मा के साथ लोकेश राहुल ओपनिंग करने उतरे।

टॉस से पहले भी कैप्टन कोहली और कोच रवि सास्त्री के बीच चर्चा हुई। दोनों पिच के पास काफी देर तक विचार-विमर्श करते नजर आए। इस बीच रमीज राजा ने कैप्टन कोहली को बताया कि टॉस के लिए सब तैयारी हो चुकी है। टॉस जीतने के बाद भी कैप्टन और कोच ड्रेसिंग रूम में भी चर्चा करते नजर आए। टॉस से पहले और बाद की बातचीत मैच के लिए काफी अहम रही। ड्रेसिंग रूम में यह कहा जाता है कि विराट अपने टीम साथियों से साफ तौर पर बता देते हैं कि उन्हें क्या उम्मीद है। उन्होंने कुलदीप यादव को टीम में शामिल किया जिनका आईपीएल सीजन काफी खराब रहा। इस चाइनामैन गेंदबाज ने पाकिस्तान के खिलाफ दमदार प्रदर्शन किया। विराट ने मैच के बाद उनकी और लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल की तारीफ भी की।

हफीज को जाल में फंसाया

पाकिस्तान की पारी के करीब 2 घंटे बीत जाने के बाद कोहली ने विजय शंकर से डीप-स्क्वायर लेग में जाकर फील्डिंग संभालने को कहा। हार्दिक पंड्या ने लंबी गेंद फेंकी और विजय शंकर ने आसानी से मोहम्मद हफीज का कैच लपक लिया। ऐसा लगा जैसे कप्तान, गेंदबाज और फील्डर ने बल्लेबाज के लिए एक जाल बिछाया जिसमें हफीज फंस गए।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close