खेलकूद

गलतफहमी में हैं विराट और शास्त्री की जोड़ी, यह नहीं है विदेशों में सर्वश्रेष्ठ टीम

Today News

लंदन । भारत और इंग्लैंड सीरीज की बात की जाए तो इस पूरे दौरे में चार हार और एक जीत के बाद भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री यह कहने से नहीं चूके कि यह वर्तमान समय में विदेशी दौरे करने वाली सर्वश्रेष्ठ टीम (बेस्ट टूरिंग टीम) है। पांचवें टेस्ट से पहले उन्होंने यह तक कहा कि पिछले 10-15 वर्षो में विदेश जाने वाली यह भारत की ‘सर्वश्रेष्ठ टूरिंग
टीम’ है।

विराट कोहली ने कहा हमने इंग्लैंड को कड़ी चुनौती दी। उन्होंने टैस्ट सीरीज 1-4 से हारने के बाद कहा कि कोई दूसरी टीम होती तो आसानी से मैच छोड़ देती, लेकिन इस टीम ने ऐसा नहीं किया। विराट और शास्त्री को समझना होगा कि वह अफगानिस्तान या केन्या की टीम का नेतृत्व नहीं कर रहे। वह दुनिया की नंबर वन टीम का नेतृत्व कर रहे हैं उनसे इस तरह के बहानों की अपेक्षा नहीं की जाती। तथ्य कोच की बातों से मेल नहीं खाते।

हालांकि, तथ्य कोच की बातों से मेल नहीं खाते। सौरव गांगुली की अगुआई में भारत ने इंग्लैंड (2002) और ऑस्ट्रेलिया (2003-04) में सीरीज ड्रॉ करवाई और वेस्टइंडीज में टीम टेस्ट मैच और पाकिस्तान में सीरीज जीतने में सफल रही। राहुल द्रविड़ के नेतृत्व में भारत ने वेस्टइंडीज में 2006 और इंग्लैंड में 2007 में सीरीज जीती व दक्षिण अफ्रीका में भी टीम एक टेस्ट जीतने में सफल रही।

अनिल कुंबले की अगुआई में भारत ने पर्थ के उछाल भरे विकेट पर पहली बार टेस्ट जीता, जबकि महेंद्र सिंह धौनी के नेतृत्व में न्यूजीलैंड में सीरीज जीती और पहली बार दक्षिण अफ्रीका में सीरीज ड्रॉ कराने में सफल रही। विराट की कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में लगातार दो सीरीज गंवाने के बाद विदेशी दौरे पर अच्छा प्रदर्शन करने वाली टीम का मिथक टूट गया है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close