खेलकूदटुडे न्यूज़

‘खेल रत्न’ पुरस्कार को लेकर हरियाणा के रैसलर बजरंग पुनिया के साथ अन्याय, कोहली का होगा विकेट गुल

Today News

चंडीगढ़ :राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए इस साल भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और वेट लिफ्टर मीराभाई चानू चयनित हुए हैं। लेकिन इस बीच कॉमनवैल्थ के बाद एशियाई गेम्स की रैसलिंग प्रतिस्पर्धा में भारत को गोल्ड मैडल लाकर सम्मान बढ़ाने वाले बजरंग पुनिया इस चयन प्रक्रिया से नाराज हो गए हैं। बजरंग ने खेल रत्न पर अपना दावा पेश किया है। बजरंग का कहना है कि उनकी उपलिब्धयां बाकी प्लेयर्स से ज्यादा हैं, ऐसे में उन्हें ही यह प्रतिष्ठित अवॉर्ड मिलना चाहिए। बजरंग का यह दावा तब और मजबूत हो जाता है जब हम इस अवॉर्ड के लिए जरूरी नियम व शर्तें पर ध्यान देते हैं। दरअसल, राष्ट्रीय अवॉर्ड के लिए हर प्लेयर को विभिन्न बड़े गेम्स में प्रदर्शन के हिसाब से रेटिंग प्वाइंट मिलते हैं। अगर यह रेटिंग प्वाइंट एक निश्चित आंकड़े को पार कर जाते हैं तो उक्त खिलाडिय़ों को रेटिंग अनुसार सम्मान मिलता है। बजरंग के इस मामले में 80 प्वाइंट थे, यानी सबसे ज्यादा।

विराट कोहली के हैं ‘0’ प्वाइंट फिर भी मिल रहा खेल रत्न

कोहली को खेल रत्न मिलने पर सबसे बड़ा सवाल इसलिए उठ रहा है क्योंकि कोहली जिस खेल से यानी क्रिकेट से आते हैं, उसमें अवॉर्ड आदि के लिए कोई प्वाइंट सिस्टम लागू नहीं है। क्रिकेट बोर्ड खेल मंत्रालय के साथ आपसी सहमति से किसी खिलाड़ी को इस अवॉर्ड के लिए नामांकित करता है। ऐसे में अगर देखा जाए तो क्रिकेट में इस अवॉर्ड के लिए कोई क्राइटेरिया नहीं है जिसमें कोहली ने अपनी प्वाइंट रेटिंग बनाई हो। अब अगर यह मामला बजरंग के गुस्से के बाद अदालत में चल गया तो यकीनन जज आपसी सहमति की बजाय अवॉर्ड के लिए तय नियम को ही प्राथमिकता देंगे। अगर ऐसा हो गया तो कोहली का पुरस्कार छीनना तय है।

विनेश फोगाट, दीपा मलिक, मनिका बत्रा का भी था दावा मजबूत

अगर अवॉर्ड के लिए निर्धारित प्वाइंट सिस्टम को फॉलो करें तो बजरंग के साथ रैसलर विनेश फोगाट और पैरा-एथलीट दीपा मलिक भी इस अवॉर्ड के लिए अपना दावा पेश कर सकते हैं। विनेश के 80 तो दीपा के नाम 78.4 प्वाइंट दर्ज हैं। इसी तरह टैबल टेनिस प्लेयर मणिका बत्रा 65, बॉक्सर अभिषेक वर्मा 55.3 तो विकास कृष्णन भी 52 प्वाइंट बनाकर बैठे हैं। वहीं, खेल रत्न अवॉर्ड के लिए अधिकृत मीराभाई चानू के नाम भी 44 प्वाइंट हैं। अगर मीराबाई को 44 प्वाइंट पर भी अवॉर्ड मिल सकता है तो इसका मतलब है कि बजरंग, विनेश, दीपा, मणिका, अभिषेक और विकास का दावा भी इस प्रतिष्ठित अवॉर्ड के लिए सही बैठता है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close