टुडे न्यूज़सिरसा

फसल बीमा योजना की आड़ में किसानों को लूट रहे बैंक: कर्ण

जिलाभर से आज सैंकड़ों किसान बैंकों की कार्यशैली के खिलाफ लामबंद हुए और उन्होंने शहर के अनेक बैंकों के बाहर धरना दिया

हिसार टुडे | सिरसा

जिलाभर से आज सैंकड़ों किसान बैंकों की कार्यशैली के खिलाफ लामबंद हुए और उन्होंने शहर के अनेक बैंकों के बाहर धरना दिया। इस धरने का नेतृत्व कर्जा निपटारा समिति के अध्यक्ष कर्ण चाड़ीवाल ने किया।

सर्कुलर रोड स्थित एचडीएफसी बैंक के बाहर धरनारत् किसानों के साथ अपने संबोधन में चाड़ीवाल ने कहा कि सरकार किसान हितैषी होने का ढिढोंरा पीट रही है जबकि सत्यता यहीं है कि किसानों को सरकार द्वारा मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है। फसल बीमा योजना के तहत बैंकिंग क्षेत्र जमकर किसानों का शोषण कर रहे है। चाड़ीवाल ने बताया कि वर्ष 2017-18 में किसानों की फसल बर्बाद हो गई थी और उस फसल का बीमा किया हुआ था लेकिन एचडीएफसी बैंक ने फसल का बीमा क्लेम देने की बजाए बीमा प्रीमियम ही किसान के खाते में ट्रांसफर कर दिया और क्लेम देने से इन्कार कर दिया।

इससे किसानों में रोष है। उन्होेंने कहा कि किसानों का यह संघर्ष अब रूकेगा नहीं और समय रहते अगर बैंक ने क्लेम एवं मुआवजा नहीं दिया तो किसानों का यह संघर्ष उग्र रूप लेगा जिसके लिए प्रशासन, सरकार व बैंक जिम्मेदार होंगे। इस माैके पर बकरियावाली सरपंच कुलदीप बाना, जसवीर भट्‌टी डबवाली, संतलाल ढिल्लाें, अनिल भिडासरा, प्रदीप भांभू, सुरजीत बाना, रामकुमार ढिल्लों, प्रहलाद जमाल, हनुमान जाखड़, अनिल ढिल्लों, अशोक ढिल्लों, राजेंद्र टांटी, हरिसिंह ढिल्लों सहित सैंकड़ाें किसान मौजूद थे।

फसल बीमा योजना किसानों के साथ धोखा

किसान नेता ने कहा कि अगर किसानों को उसकी बर्बाद फसल का मुआवजा देना ही नहीं है तो सरकार फसल बीमा योजना का ढिंढोरा क्यों पीट रही है। यह किसानों के साथ सरासर अन्याय है जिसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। िकसान नेता एवं बकरियावाली सरपंच कुलदीप बाना ने यह भी कहा कि एक तरफ जहां गरीब किसान आत्महत्या करने पर मजबूर हो रहे है, वहीं दूसरी तरफ सरकार द्वारा किसान कल्याण के खोखले दावे किए जा रहे है। इससे प्रतीत होता है कि मौजूदा सरकार व बैंकों के लिए एक जीवित जवान व किसानाें की कहीं कोई कीमत नजर नहीं आती है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close