टुडे न्यूज़धर्मकर्म

हिन्दू धर्म को क्यों संसार का सबसे वैज्ञानिक धर्म माना जाता है, जानिए

इतिहास इस बात का साक्षी है कि हिन्दू धर्म विश्व का प्राचीनतम धर्म है. वेदों पर आधारित होने के कारण यह वैदिक धर्म भी कहलाता है। संसार के बीस बड़े देशों में हिन्दू धर्म की जड़ें फैली हुई हैं। हि

हिसार टुडे।

इतिहास इस बात का साक्षी है कि हिन्दू धर्म विश्व का प्राचीनतम धर्म है. वेदों पर आधारित होने के कारण यह वैदिक धर्म भी कहलाता है। संसार के बीस बड़े देशों में हिन्दू धर्म की जड़ें फैली हुई हैं।

हिन्दू धर्म का इतिहास

हिन्दू धर्म के इतिहास पर दृष्टि डालें तो सर्वसम्मति से और विभिन्न साक्ष्यों और प्रमाणों से यह सिद्ध होता है कि हिन्दू धर्म का आरंभ सिंधु घाटी की सभ्यता से जुड़ा हुआ है। सिंधु घाटी सभ्यता में मिली पशुपतिनाथ की मूर्ति, जर्मनी में 1939 में मिली नरसिंह की मूर्ति इस बात के ठोस प्रमाण हैं। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि हिन्दू धर्म का जन्म वेदों से ही हुआ है इसलिए इसे वैदिक धर्म भी कहा जाता है। वेदों की संरचना का साथ ही मंत्रों का जन्म हुआ और हिन्दू धर्म के दार्शनिक और वैज्ञानिक पक्ष का विकास हुआ। इसी समय योग, सांख्यिकी और वेदान्त और उसके बाद पुराणों की रचना हुई जिनमें धर्म, ज्ञान विज्ञान और इतिहास का वर्णन मिलता है।

हिन्दू धर्म और विज्ञान

हिन्दू धर्म विज्ञान आधारित धर्म कहा जाता है. प्राचीन काल में शिक्षा का प्रचार प्रसार न होने के कारण, हिन्दू धर्म में ज्ञान विज्ञान की शिक्षा धर्म से जोड़कर और परम्पराओं और मान्यताओं में बांधकर सिखाने का प्रयास किया गया। कहते हैं जो वैज्ञानिक नियमों के अनुसार अपना विकास करता है वही शाश्वत होता है, इसी कारण हिन्दू धर्म को सनातन धर्म भी कहा जाता है। इस धर्म की नींव भी वैज्ञानिकता पर ही आधारित है. इसका प्रमाण सबसे पहले मिलता है प्राचीन काल के कार्यानुसार किए गए वर्ण विभाजन से, जहां व्यक्ति के कार्य के अनुसार उसके वर्ण को विभाजित किया गया था। सभी वर्णों में आपसी प्रेम और समन्वय था। इसके अलावा हमारे पूर्वजों ने अनेक धार्मिक परम्पराएँ और मान्यताएँ निर्धारित की हैं लेकिन जब उन्हें वैज्ञानिक कसौटी पर कसा जाता है तो वे खरी उतरती हैं. इससे यह पता चलता है कि हिन्दू धर्म पूरी तरह वैज्ञानिक है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close