राजनीतिहरियाणा

सरकार निजी फर्मों में प्रदेश के युवाओं के लिए 50 प्रतिशत रोजगार आरक्षित करे: दुष्यंत चौटाला

Today News

रोजगार की मांग को लेकर प्रदेश भर के युवा वीरवार को सड़कों पर उतर आए। रोजगार न मिलने से हताश हजारों युवाओं ने इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला के नेतृत्व में आज जम कर प्रदर्शन किया और सरकार विरोधी नारे लगाए। प्रदेश के कोनों-कोनों से पहुंचे बेरोजगार सरकार से रोजगार की मांग कर रहे थे। सांसद दुष्यंत चौटाला ने युवाओं की ओर से उपायुक्त को एक ज्ञापन भी सौंपा। दुष्यंत चौटाला ने सरकार से सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों पर युवाओं को नियमित भर्ती करने, हरियाणा की जमीन पर स्थापित होने वाली निजी कंपनियों में प्रदेश के युवाओं के लिए 50 प्रतिशत नौकरियां आरक्षित करने करने सहित अन्य मांगें की।

इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने रोजगार मेरा अधिकार मुहिम के तहत आयोजित इस प्रदर्शन में भाग लेने के लिए आज सुबह से ही युवा ताऊ देवीलाल स्टेडिय में एकत्रित होना शुरू हो गए थे। दोपहर तक यहां भारी संख्या में युवा एकत्रित हो चुके थे। इसके बाद वेे दुष्यंत चौटाला के नेतृत्व में रोजगार मेरा अधिकार और सरकार विरोधी नारे लगाते हुए डीसी कार्यलय पहुंचे। इस दौरान गुडग़ांव की सड़कों पर यातायात बाधित हो गया और कई स्थानों पर कई किलोमीटर लंबा जाम लग गया। यातयात को सुचारू रखने के लिए पुलिस को भारी मशक्त करनी पड़ी परन्तु वाहनों चालकों को लंबा इंतजार करना पड़ा।

सांसद दुष्यंत चौटाला ने युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि मनोहर लाल खट्टर सरकार ने युवाओं को रोजगार के नाम पर युवाओं को धोखा दिया है। भाजपा ने सत्ता में आने से पूर्व लाखों युवाओं का रेाजगार देने का वायदा किया था। परन्तु सत्ता में आने के बाद भाजपा युवाओं को रेाजगार देने में पूरी तरह से विफल रही और प्रदेश का युवा हताश व निराश हो गया। उन्होंने सरकारी आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि पिछले तीन वर्षों में सरकार ने आवेदनों के नाम पर करोड़ों रूपये से सरकारी खजाने को भर लिया परन्तु एचपीएससी के माध्यम से रोजगार केवल 209 को मिला। उन्होंने कहा कि इसी नक् शेकदम पर हरियाणा स्टाफ सर्विस कमीशन काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि इन दोनों सवैंधानिक संस्थाओं की आरटीआई के तहत मिली जानकारी के अनुसार लाखों लोगों के आवेदन मांगे गए परन्तु रोजगार मुठ्ठी भर लोगों को ही मिला।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि प्रदेश में 7 करोड़ 23 लाख युवा रोजगार की तलाश में दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं और मनोहर लाल खट्टर सरकार ठेके के लिए अधिकृत कंपनियों को लाभ देने के लिए विज्ञापित पदों को रद्द कर देती है। उन्हेांने कहा कि सरकार नौकरियों के नाम मोटी फीस वसूल कर उनके बेरोजगारी के दर्द को और बढ़ा देती है।

सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि गुडग़ांव में ही निजी कंपनियों में लाखों युवाओं के रोजगार है। इन कंपनियों को सड़कें, जमीन, बिजली पानी हरियाणा से मिलता है और रोजगार किसी अन्य राज्यों के युवाओं को दिया जाता है। उन्होंने सरकार से मांग की कि इसके लिए कानून बनाए कि प्रदेश में लगने वाले हर फर्म-कंपनी में प्रदेश के युवाओं के लिए 50 प्रतिशत रोजगार आरक्षित होगा। उन्होंने कहा कि सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों का बैकलॉग सरकार जल्द से जल्द भरे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close