ताजा खबरराजनीतिहरियाणा

मोदी की रैली ने भाजपा की हार का दिया संकेत

> किसानों का नाम का इस्तेमाल करते हुए खुद को किसान हितैशी दिखाते आये नजर
> जाटलैंड पर सभा आयोजित कर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा का गढ़ भेदने की कोशिश

अर्चना त्रिपाठी | Hisar Today

दिल्ली में किसानों पर हुए लाठीचार्ज और हरियाणा में फसल बीमा योजना के नाम पर किसानों के साथ हो रहे धोखाधड़ी और प्रदेश में कर्ज के बोझ तले किसानों की बढ़ती आत्महत्या के प्रमाण ने प्रदेश में भाजपा के खिलाफ हवा तेज कर दी थी। इसलिए नाजुक दौर में जब प्रदेश का किसान भाजपा सरकार को कोस रहा हो, तब ऐसे समय में सांपला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली को लेकर सभी किसान यह आशा जगाकर बैठे थे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके लिए कुछ घोषणा करेंगे। मगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कि इस रैली के साथ किसानों की बची-कूची उम्मीद भी टूट गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस सभा में उपस्थित होकर दीनबंधु सर छोटूराम के लिए किसानों के मसीहा का शब्द अधिक इस्तेमाल करके यह जताने की कोशिश की, कि वह किसानों के हितैशी हैं। मगर इस सभा में उन्होंने किसानों के लिए कोई खास घोषणा न करके फिर एक बार और प्रदेश के किसानों को निराश कर दिया। बता दें कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विरोध करते हुए किसान काला दिवस मना रहे हैैं।

आज देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सर छोटूराम की मूर्ति का अनावरण करने के लिए हरियाणा के रोहतक जिले में गढ़ी सांपला पहुंचे थे। यहां पहुंचते ही उन्होंने सर छोटू राम की 64 फीट ऊंची मूर्ति का अनावरण किया। पीएम मोदी ने मूर्ति अनावरण के साथ ही सर छोटू राम को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने विजिटर बुक में सर छोटूराम के बारे में अपनी तरफ से एक संदेश लिखा।बता दें कि गन्नौर के बड़ी में 172 एकड़ में लगने वाली रेल कोच रिपेयर फैक्ट्री का शिलान्यास भी प्रधानमंत्री मोदी के हाथो संम्पन हुआ। केंद्र सरकार ने इस कार्य के लिए रेलवे को 482 करोड़ रुपये के ग्रांट ऑन डिंमांड बजट को मंजूरी दी है। हरियाणा सरकार का दावा है कि रेल कोच फैक्ट्री गन्नौर व सोनीपत जिला के लोगों के लिए विकास के नए रास्ते खोलेगी। यह हरियाणा में रेलवे का सबसे बड़ा व पहला प्रोजेक्ट होगा। इस कार्यकर्म में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक, हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत के साथ मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, केंद्रीय इस्पात मंत्री बीरेंद्र सिंह व फरीदाबाद से केन्द्रीय मंत्री कृष्णपाल गुज्जर मौजूद थे। इस दौरान प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला ने उन्हें किसानों का प्रतीक हल प्रदान किया। इतना ही नहीं बीरेंद्र सिंह ने नरेंद्र मोदी को पगड़ी कहना कर उनका सम्मान किया।

इस दौरान सभा में 2014 में मोदी लहर को रोकने वाले पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा के बेटे दीपेंद्र हुड्डा मौजूद थे। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा खास तौर पर जाट लैंड अर्थात भूपेंद्र हुड्डा के गढ़ में आयोजित की गयी थी। इसी कारणवश इस रैली को जाटों को लुभाने की कोशिश के तौर पर भी देखा जा रहा था। बता दें कि प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी का हरियाणा में यह छठा दौरा था। इससे पहले वे कैथल, पानीपत, गुड़गांव और दो बार सोनीपत में आ चुके हैं। भाजपा में कैप्टन अभिमन्यु और ओपी धनखड़ जाट नेता हैं। वहीं बीरेंद्र सिंह पार्टी में अपना कद बढ़ाना चाहते हैं। वैसे रैली में जितनी भीड़ की उम्मीद की जा रही थी उतनी दिखाई नहीं दी। कोई खास घोषणा दिखाई नहीं दी। सिर्फ किसानों के नाम का इस्तेमाल करते मोदी और उनके मंत्री दिखाई दिए। उसे देखकर लग रहा था कि कहीं न कहीं मोदी की यह रैली उनके प्रदेश में उनकी हार का संकेत तो नहीं दे रही।

‘पुलिस ने बल प्रयोग कर किया गिरफ्तार’

दिग्विजय चौटाला
दिग्विजय चौटाला

हम जब संघर्ष समिति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ज्ञापन सौपने जा रहे थे, तभी पुलिस ने बल प्रयोग कर हमें गिरफ्तार कर किसी अनजान जगह ले गए है। पीएम कहते थे कि सबका साथ सबका विकास की बात करते है, इसलिए हम उनके पास जा रहे थे मगर पीएम से मिलने के पहले ही पुलिस ने हमें गिरफ्तार कर लिया। मगर हम डरेंगे नहीं, घबराएंगे नहीं बल्कि और तीव्र तरीके से छात्र संघ चुनाव का विरोध करेंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा “देश का नाम, स्वाभिमान बढाण में सबतै आगे रहण में हरियाणवियों का कोए मुकाबला नहीं सै…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणवी में कही ये बात… पीएम ने कहा देश का नाम, स्वाभिमान बढाण में सबतै आगे रहण में हरियाणवियों का कोए मुकाबला नहीं सै। प्रधानमंत्री रोहतक के सांपला में सर छोटूराम की 64 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण करने के बाद एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान प्रधानमंत्री ने अपने भाषण की शुरुआत हरियाणवी में की। प्रधानमंत्री ने हरियाणवी में कहा कि देश की सीमा पै रक्षा करण में सबतै घणै जवान, देश की करोडों आबादी का पेट भरण में सबते आग्गे किसान, अर खेलां में सबते ज्यादा मैडल जीतण आलैं खिलाड़ी देण आली हरियाणे की धरती नैं मैं प्रणाम करूं हूं। सांपला में बोले पीएम मोदी, देश का नाम आगे रखने में हरियाणवियों का मुकाबला नहीं। प्रधामंत्री ने कहा देश का नाम, स्वाभिमान बढाण में सबतै आगे रहण में हरियाणवियों का कोए मुकाबला नहीं सै।

मोदी ने कहा कि उन्होंने कहा देश की सेवा में सबसे ज्यादा, देश की सुरक्षा में सबसे ज्यादा, खेल में देश का नाम रोशन करने वालों में सबसे ज्यादा हरियाणा की धरती को नमन करता हूं। उन्होंने कहा कि सर छोटूराम ने किसान और देश में काफी अहम योगदान है। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि सरदार पटेल ने सर छोटूराम के बारे में कहा था कि अगर आज वो जीवित होते तो मुझे तो बंटवारे के बाद उस बंटवारे के समय मुझे पंजाब की चिंता ना करनी पड़ती, छोटूराम संभाल लेते। प्रधानमंत्री ने कहा ये सर छोटूराम के सामर्थ का परिचय है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सर छोटू राम ने किसानों, खेत में काम करने वाले मजदूरों जैसे लोगो के लिए ऐसे कानून बनाये जिसका अनुसरण आज भी किया जाता है।
उन्होंने कहा कि सर छोटूराम से अंग्रेजी शासक भी डरते थे और उनकी बातों को टालने की हिम्‍मत नहीं करते थे। छोटूराम जी का प्रभाव इतना था कि अंग्रेज सरकार भी उनकी बात ठुकराने से पहले सौ बार सोचती थी। शायद ही किसी को पता हो कि भाखड़ा डैम की कल्पना सर छाेटूराम ने ही की थी। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि चौधरी देश के उन समाज सुधारकों में थे जिन्होंने भारत के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह गरीबों व वंचितों की बुलंद आवाज थे। वह कृषि से जुड़ी समस्याओं व छोटे उद्यमियों को आने वाली चुनौती को उन्होंने करीब से देखा और उन्हें कम करने का प्रयास किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस रेल कोच मरम्मत फैक्टरी में हर साल 500 डिब्बों का निर्माण किया जाएगा।

इस फैक्टरी में 250 पैसेंजर ट्रेनों के डिब्‍बों की मरम्मत हाेगी। उन्होंने कहा यह कारखाना हरियाणा के औद्योगिक विकास को बढ़ाने में मदद करेगा। कोच की मरम्मत के लिए जो भी सामान चाहिए होगा उससे यहां के छोटे-छोटे उद्यमियों को फायदा मिलेगा। वह इसके लिए सामान मुहैया कराएंगे, इस कारखाने से रोजगार मिलेगा। यहां के इंजीनियरों को इस कारखाने की वजह से एक अलग तरह की विशेषज्ञता हासिल होगी। पीएम मोदी ने कहा कि छोटूराम एग्रो इंडस्ट्री को बढ़ाने के पक्षधर थे। उनकी इस दूरदर्शी सोच को देखते हुए डॉ. राजगोपालाचारी ने भी उनकी तारीफ की थी। उन्होंने कहा कि उन्हें हैरानी है कि इतनी उपलब्धियों के बावजूद छोटूराम जी को इतने वर्षों तक वो सम्मान नहीं दिया गया। पीएम ने कहा कि छोटूराम जी ने जिस प्रकार किसानों मजदूरों के लिए सोचा उसी प्रकार हमारी सरकार भी किसान हितों के लिए काम कर रही है।

सर छोटू राम की प्रतिमा में श्रेय लेने की होड़
इस समारोह को लेकर पूरे हरियाणा की नजर सांपला पर टिकी हुई है, क्योंकि चौधरी छोटूराम के नाम पर सभी राजनैतिक दलों में श्रेय लेने की होड़ मची हुई है। गौरतलब है कि 2004 में तत्कालीन मुख्यमंत्री इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने पाकिस्तान के लाहौर से चौ. छोटूराम से जुड़े सामान गढी-सांपला लेकर आए थे और यहां पर उनकी याद में एक संग्रहालय का निर्माण कराया था। इसके बाद कांग्रेस सरकार आई तो तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेन्द्र हुड्डा ने संग्रहालय का नवीनीकरण कराया गया और इसका विस्तार किया। अब भाजपा सरकार ने भी चौधरी छोटूराम की 64 फिट उची प्रतिमा का अनावरण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों करवाया।

मोदी की सांपला रैली रही विफल
मोदी की रैली को जितना इतहासिक बताने की बात मुख्यमंत्री से लेकर भाजपा मंत्री कर रहे थे। उनकी बातें खोखली साबित हुई। रैली में बेहद काम प्रतिसाद मिला। मान्यवरों के भाषण के दौरन कार्यकर्ता सेल्फी और फोटो खिचवाने में ज्यादा मस्त थे, न की भाषण सुनने में। जितनी भीड़ इनेलो की गोहाना रैली में थी उसकी तुलना में 2019 चुनाव के पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली फीकी साबित हुई, न कोई जोश और न ही कोई उत्साह नजर आया। प्रधानमंत्री भी अपनी सभी रटी-रटाई योजनाओं को बोलते नजर आये।

कोई खास घोषणा नहीं, विवादित फसल बीमा योजना को मोदी ने बताया सफल
मोदी ने हरियाणा में विवादित फसल बीमा योजन को सफल बताते हुए कहा कि इससे किसानों का भला हुआ है, जबकि हकीकत यह है की आज हरियाणा में अधिकतर किसान फसल बीमा योजना से ठगे जा रहे हैं और अधिकतर आत्महत्या करने को मजबूर हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close