ताजा खबरराजनीतिहिसार

मनोहर सरकार एनहांसमेंट की नियमानुसार पहले री-कैलकुलेशन कराए, फिर रिबेट की बात करे : मलिक

Hisar News | हिसार

हुड्डा सेक्टर्स के लोगों की एनहांसमेंट की डिमांड के बारे में शुरू से एक ही मांग रही है की एचएसवीपी अपने खुद के नियमों और कोर्ट के निर्णयों के अनुसार कैलकुलेशन कर के हमें एनहांसमेंट डिमांड नोटिस दे। किसानों की जायज डिमांड का न्यायालय द्वारा दिये फैसलों के आधार पर हम पैसे देने को पूर्णत तैयार हैं। लेकिन एचएसवीपी द्वारा की गई गलतियों और भ्रष्टाचार की सजा निर्दोष लोग क्यों भुगते? यह सवाल इन्हांसमेंट की मार झेल रहे सेक्टरवासी पूछ रहे है। उनका कहना हैं कि इस मामले में सरकार द्वारा अभी तक लिए गए कदम और घोषणाएं,एचएसवीपी के लिए, निर्दोष सेक्टवासियों को डरा-धमका कर, बांट कर और भ्रम फैला कर लूटने की योजना के सिवाय और कुछ नहीं हैं। सरकार बजाय अधिकारियों के भ्रष्टाचार और लापरवाही को ठीक करने की बजाय नागरिकों को लूटने का काम कर रही हैं।

यशवीर मालिक का आरोप था कि सेक्टवासियों की मांग है कि नियम आधारित कैलकुलेशन के बाद अगर सरकार कोई “वैन टाईम सेटेलमेंट” स्कीम ले कर आती है तो उसका स्वागत होगा, अन्यथा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा गुरुग्राम में की गई घोषणा, जिसमें उन्होंने 40 प्रतिशत छूट की बात कही थी, उसे वह नहीं मानेंगे। क्यूंकि सरकार की यह घोषणा सिवाय धोखाधड़ी के अलावा और कुछ नहीं। हरियाणा स्टेट हुडा सेक्टरस कॉन्फेडरेशन के संयोजक यशपाल मालिक के अनुसार वह 14 अक्टूबर को पानीपत के ताऊ देवीलाल पार्क संम्पन होने वाली राज्य कार्यकारिणी की बैठक में आगे की रणनीति तय करते हुए फैसला लेंगे। यशवीर मालिक ने कहा कि अब आर-पार कि लड़ाई होगी।

मुख्यमंत्री से सेक्टर वासियों के सवाल?

> जिन्होंने रिबेट से पहले/बाद और रिबेट में एनहांसमेंट राशि जमा करवा दी अगर उनकी नियमानुसार (जो नियम 3 सेवानिवृत जज निर्णय करेंगे) 40 प्रतिशत से ज्यादा निकली तो क्या होगा?
> क्या सरकार सेक्टर की बजाय,अन्य लोगो की रिकैल्क्युलेशन करवाएगी ?
> कोर्ट के निर्णय के बाद, जब तक आवंटियों को डिमांड नोटिस नहीं मिला, बावजूद इसके उनपर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बहार जाकर एचएसवीपी द्वारा लगाए 15% ब्याज पर आपका क्या निर्णय है?
> लेस कन्वेएंड के नाम पर क्या मांग है ? उस पर कितना ब्याज, किस नियम के अनुसार लगाया गया हैं।
> सेक्टवासियों के साथ सरकार तीन बैठकों में क्या निष्कर्ष निकला और नतीजा कब सामने आएगा ?

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close