ताजा खबरराजनीतिहरियाणाहिसार

भ्रष्टाचार को निगम से खत्म करना मेरा मकसद : अक्षय

> शिमला की तर्ज कर राजगुरु और पीएलए मार्किट में करेंगे मॉल रोड़ विकसित
> शहर को सीसीटीवी से लैस कर सभी का कंट्रोल मेयर दफ्तर पर रखकर शहर सुरक्षा पर रखूंगा नजर
> गौमाता को होगा पूरा सम्मान, बाड़ा बनाकर दिया जायेगा स्थान

Hisar News

अर्चना त्रिपाठी | हिसार
असंभव शब्द का प्रयोग तो केवल कायर करते हैं, बहादुर और बुद्धिमान व्यक्ति अपना रास्ता स्वयं प्रशस्त करते हैं।
राजगुरु मार्किट ऑर्गेनाइजेशन के प्रधान अक्षय मालिक ने कभी सोचा न था कि हिसार की जनता को न्याय और भ्रष्टाचार के लिए शुरू उनका जीवन का संघर्ष उनके सफल राजकीय और सामाजिक जीवन की पहचान बन जायेगा। अक्षय मालिक हिसार के ऐसे अनुभवी समाजसेवक और इनेलो पार्टी के प्रबल जुझारू युवा कार्यकर्ता हैैं जिन्होंने हिसार के विकास के सामने आने वाली हर अड़चन को दूर करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम आगे बढ़ाया है। न्याय के लिए अगर आवाज उठाने की जरुरत पड़ी तो उन्होंने न आव देखा न ताव जनता के लिए, जनता के बीच खड़े होने से वे बिल्कुल भी नहीं हिचकिचाये।

महज 12 साल में पिता को खोने के बावजूद हिम्मत नहीं हारी बल्कि अपने परिवार के आशीर्वाद और अच्छे संस्कारों के साथ अक्षय मलिक हिसार का वो जाना पहचाना नाम बने जिन्होंने सालों से चली आ रही राजगुरु मार्किट की समस्या को सुलझाने में जमीन आसमान एक करके बदलाव की दिशा में महत्वपूर्ण कदम आगे बढ़ाया। बड़ी कम उम्र में ही समाजसेवा के क्षेत्र से जुड़े अक्षय मलिक की सिर्फ यही धारणा है कि “नाम नहीं बल्कि काम” से इंसान की पहचान बनती है। जमीन से उठकर आसमान की उंचाईया छूने का दम रखने वाले अक्षय मलिक व्यवसाय के साथ-साथ समाजसेवा और राजनीति के क्षेत्र में भी अपने निस्वार्थ कार्यो के कारण पहचाने जाते हैं। सरल हृदयी, मृदुभाषी, सामजसेवी, सर्वजनहितार्थ, कर्मठ, जुझारू, युवा, जोशीले जनसेवक जैसे कई नामों से वह विख्यात हैं। अक्षय मलिक कम बोलते है मगर परिवर्तन का दम भी रखते है।

मगर समाज में फैला भ्रष्टाचार और निगम दफ्तर में गरीब और बेसहारा लोगों की सुनवाई न होने के कारण यह बात कहीं न कहीं अक्षय मलिक के दिल को अंदर से झकझोरती है। उनको लगता है कि निगम में जिनकी पहचान है, उनका काम पहले होता है। वरना बाकी लोग सिर्फ धक्के खाते रहते हैं। अगर यह सिस्टम बदलना है तो सिस्टम के अंदर उतरना पड़ेगा। इसलिए अक्षय मलिक मेयर चुनाव के लिए इनेलो पार्टी की तरफ से मजबूत दावेदारी प्रस्तुत कर रहे हैं जहां उन्होंने महिला सुरक्षा, निगम में भ्रष्टाचार रोकने के लिए विभिन्न योजनाए बनाई हैं। उनको लगता है अगर सिस्टम में ईमानदार लोग शामिल होंगे तो हिसार के विकास को कोई रोक नहीं सकता।

अकार्यशील अधिकारियों को करेंगे बर्खास्त : अक्षय मलिक

भ्रष्टाचार एक ऐसा दीमक है जो पूरे समाज को खोखला कर रही है, और निगम में यह बड़े पैमाने पर है। इसलिए अक्षय मालिक का मानना है कि सबसे पहले वह इसी दीमक को खत्म करने की कोशिश करेंगे। अक्षय का मानना है कि जनता की सेवा के लिए सरकार तनख्वाह देती है तो अफसर को जनता की सेवा करनी चाहिए। मगर निगम में कुछ अधिकारी का रवैया खराब होता है, उनको अपने पद का “घमंड” है। जिसके कारण वे लोगों के काम नहीं करते और लोगों को धक्के खाने पड़ते हैं, जिनकी पहचान है वो काम करवा रहे है, जिनकी पहचान नहीं होती वो काम नहीं करवा पा रहे हैं। मगर ऐसा नहीं होगा और ऐसे अफसर को बर्खास्त करने का काम होगा। आज अधिकारी जहां अच्छी रोड़ हैं उसे तोड़कर नई बनाते हैं, जहां समस्या है उस ओर ध्यान नहीं देते। ये अधिकारी केवल जहां कमाई दिखती है वहीं पहुंच जाते हैं। इस व्यवस्था को मैं बंद करवाऊंगा।

जनसुनवाई के लिए लगेगी चौपाल
अक्षय ने कहा की अगर वह मेयर बनते है तो जनता के प्रश्नों के निराकरण के लिए हर महीने “चौपाल” रखेंगे। वह हर महीने पंचायत बुलाकर, वहीं अधिकारियों को बैठाकर जनता का काम किया जायेगा।

शिमला की तरह राजगुरु व पीएलए मार्किट में करेंगे मॉल रोड़ विकसित
राजगुरु मार्किट बहुत बड़ा है, मगर यहां पर जो विकास होना चाहिए था, नहीं हुआ। इसलिए अगर जनता मुझे चुनकर लाती है तो मैं राजगुरु और पीएलए मार्किट का विकास शिमला के तर्ज पर करूंगा। इन दोनो मार्किट में मॉल रोड़ बनाया जाएगा ताकि यहां पर भी लोग अधिक से अधिक आकर सस्ता-मंहगा विभिन्न प्रकार के सामान की खरीददारी के साथ में धूमने का आनंद ले पाएं।

सभी सीसीटीवी का कंट्रोल मेयर दफ्तर में रखकर शहर की सुरक्षा पर रखूंगा नजर
आज शहर में कानून व्यवस्था का प्रश्न बहुत अधिक है। महिला सुरक्षा से लेकर व्यापारियों की दुकानों में चोरी की वारदातों के कारण हिसार का नाम मलिन हो रहा है। सरकार और प्रशासन का इसपर कोई अंकुश नहीं रह गया है। इसलिए हिसार में अधिक से अधिक हाई डेफिनेशन सीसीटीवी कमरे लगवाकर उसका कंट्रोल रूम मेयर के दफ्तर में रखूंगा ताकि शहर की हिफाजत में हर मुनासिब कदम उठा सकेें और पुलिस के पैट्रोलिंग में निर्भर न होकर खुद शहर की सुरक्षा के दृष्टिकोण से कारगर कदम उठा सके।

गौमाता का होगा पूरा सम्मान
गौ माता का प्रश्न आज सदस्य बड़ा है। प्रशासन की लापरवाही से यह खुले सड़कों पर घूमती हैं जिससे दुर्घटनाये होती हैं। मेरा काम रहेगा कि इनके लिए खास बाड़ा बनाकर इन्हे वहीं रखकर इस समस्या से शहर को निजात दिला सकूं।

मैं 36 बिरादरी का हूं और 36 बिरादरी मेरी
मैं खुद को पंजाबी कैंडिडेट नहीं मानता। मैं पंजाबी हूं मगर 36 बिरादरी के साथ हूं। उन्हीं के साथ चलता हूं। मेरी सेवा सबके लिए सामान होगी। मेरी कोई विशेष जात या बिरादरी नहीं होगी। मैं 36 बिरादरी का हूं और 36 बिरादरी मेरी हैैं।

दुष्यंत से प्रभावित : अक्षय मलिक

दुष्यंत एक युवा नेता है मैं उनको मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहता हू।  उनके कार्य से मैं बहुत ज्यादा प्रभावित हूं। आगे भी उन्ही के अंदर रहकर काम करूंगा और जनता की सेवा करता रहूंगा

 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close