टुडे न्यूज़राजनीति

पं. दीनदयाल उपाध्याय राजनीति में संस्कृति के राजदूत थे : सुजीत

Today News| हिसार

पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती आज नलवा हलका के बूथ न. 42 के बूथ अध्यक्ष सुजीत कुमार की अध्यक्षता में हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस अवसर पर कार्यकत्र्ताओं को संबोधित करते हुए भाजपा जिला महामंत्री एवं बूथ अध्यक्ष सुजीत कुमार ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय भाजपा के राजनीतिक-वैचारिक अधिष्ठाता थे।

इसलिए भाजपा के लिए उनकी जयंती बहुत ही महत्वपूर्ण है। उन्होंने बताया कि पं. दीनदयाल उपाध्याय लगभग 15 वर्ष जनसंघ के महासचिव रहे। वर्ष 1967 में उन्हें राष्ट्रीय अध्यक्ष भी चुना गया। उन्होंने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय भारत में लोकतंत्र के उन पुरोधाओं में से एक हैं, जिन्होंने इसके उदार और भारतीय स्वरूप को गढ़ा है। उन्होंने राजनीति में सत्ता प्राप्ति के उद्देश्य को लेकर प्रवेश नहीं किया था।

इस सत्य को समझने के लिए उनके जौनपुर के उपचुनाव का अध्ययन करना चाहिए। आज कोई कल्पना भी नहीं कर सकता कि चुनाव में कोई प्रत्याशी हारने के लिए भी खड़ा हो सकता है। लोग आश्चर्यचकित थे कि पराजित प्रत्याशी मतदाताओं का धन्यवाद करने और विजयी प्रत्याशी को लोकहित के कार्यों में सहयोग देने की घोषणा करते हुए आमसभा आयोजित कर रहा है। वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जीवनवृत्ति प्रचारक थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close