राजनीतिहरियाणा

टिकट या चुनाव लड़नेे के लालच में नहीं जनता व पार्टी के बीच की कड़ी बनने के लिए हो रहा हूं शामिल

Today News

मुख्यमंत्री मनोहर लाल कैमरी में 22 सितंबर को होने वाली जनसभा में शिरकत करने से पहले सुबह का नाश्ता/जलपान मेरे सैक्टर 14 स्थित आवास मकान नंबर 1623 पर लेंगे। उसी समय मैं मुख्यमंत्री के नेतृत्व में अपने हजारों साथियों के साथ विधिवत रूप से भाजपा की सदस्यता लूंगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री सहित सभी साथियों का पारंपरिक बिश्नोई व्यंजनों हलवा, कढी व पटोलिया खिला कर स्वागत किया जाएगा। यह घोषणा आज दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के पूर्व चेयरमैन एवं समसरसता अभियान के अध्यक्ष जय सिंह बिश्नोई ने स्थानीय फ्लेमिंगो टूरिस्ट कॉम्पलैक्स में आयोजित पत्रकार सम्मेलन में की। इस अवसर पर उनके साथ हरियाणा लोक सेवा आयोग के पूर्व चेयरमैन गुरमेश बिश्नोई, समरसता अभियान के उपाध्यक्ष राजेंद्र गोदारा, प्रदीप पंच आदि भी मौजूद थे।

जय सिंह बिश्नोई ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री मनोहर लाल की ईमानदारी व जनसेवा के प्रति समर्पण भाव से प्रभावित होकर मैंने भाजपा में शामिल होने का फैसला लिया है। केंद्र में ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के पिछड़े वर्ग का दिल जीत लिया है। मुख्यमंत्री की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश को जल संकट से उभारने के लिए एसवाईएल व उत्तराखंड स्थित लखवार बांध से पानी लाने के जो अथक प्रयास मनोहर लाल सरकार ने किए हैं उससे शीघ्र ही हरियाणा के हिस्से का 47.82 प्रतिशत पानी उसे मिलेगा। मध्यम वर्गीय परिवारों के लिए बिजली की दरों में लगभग 50 प्रतिशत तक की कटौती को भी उन्होंने जनहितैषी फैसला बताया।

जय सिंह बिश्नोई ने कहा कि बीपीएल परिवारों के लिए केंद्र सरकार की आयुष्मान योजना मील का पत्थर साबित होने वाली है। इस योजना के तहत बीपीएल व्यक्ति को अपने इलाज के लिए पांच लाख रुपये तक की राशि सरकार की ओर से दी जा रही है। इतना ही नहीं इस राशि से बीपीएल श्रेणी में आने वाला व्यक्ति अपना इलाज किसी भी सरकारी अथवा मान्यता प्राप्त निजी अस्पताल में अपनी सुविधा के अनुसार करवा सकता है। भविष्य की योजनाओं का खुलासा करते हुए पूर्व चेयरमैन ने कहा कि वे किसी टिकट या चुनाव लड़ने के लालच में भाजपा में नहीं जा रहे हैं। बल्कि सरकार व जनता के बीच की कड़ी बनने के लिए दिन-रात अथक मेहनत करके वे पार्टी संगठन को मजबूत करने का काम करेंगे।

जय सिंह बिश्नोई ने कहा कि मैं स्वतंत्रता सेनानी पृष्ठभूमि वाले परिवार से हूं। मेरे दादा जी 1947 के कौमी दंगों में शहीद हुए थे। मैं पिछले लगभग तीन दशकों से राजनीति में सक्रिय हूं। अपनी मेहनत और जनसेवा के जज्बे के चलते ही दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के चेयरमैन, हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के सदस्य तथा हरियाणा पिछड़ा वर्ग आयोग के सदस्य के रूप में काम कर चुका हूं। अब समरसता अभियान के संस्थापक के रूप में हिसार, सिरसा, फतेहाबाद व भिवानी जिलों में जागरूकता अभियान चलाए हुए हूं। तीन ससंदीय क्षेत्रों के तहत आने वाले इन चार जिलों की दो दर्जन से ज्यादा विधानसभा क्षेत्रों में मेरे साथ मेरे हजारों साथियों का कैडर काम कर रहा है। समरसता अभियान का विस्तार हरियाणा के साथ-साथ पंजाब, राजस्थान, मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र आदि राज्यों में भी है। इन राज्यों में भी समरसता अभियान से जुड़े साथी सक्रिय भूमिका में हैं।

कांग्रेस की कार्यप्रणाली पर प्रश्न चिन्ह खड़ा करते हुए उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस मुख्यत: दो भागों में बंटी हुई है। पैराशूट कांग्रेस और लोकदली कांग्रेस। पैराशूट कांग्रेस वाले बिना किसी जमीनी मेहनत के सीधे दिल्ली दरबार से जनता पर थोप दिए जाते हैं जबकि लोकदली कांग्रेस के नेताओं की प्राथमिक राजनीतिक शिक्षा लोकदल के स्कूलों में हुई है। यही कारण है कि जिस हरियाणा प्रदेश में कांग्रेस कभी सबसे मजबूत स्थिति में रहती थी आज उसी हरियाणा प्रदेश में कांग्रेस प्रमुख विपक्षी दल बनने की स्थिति में भी नहीं है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close