ताजा खबरराजनीति

चौटाला परिवार सम्मान दिवस रैली में दिखाई ‘एकजुटता’ मगर नजर आई ‘तल्खी’

> गरीबों के मुफ्त ईलाज के लिए खोले जाएंगे अस्पताल ।

> औमप्रकाश चौटाला ने कहा कि हर पढ़े-लिखे बच्चे को दी जाएगी सरकारी नौकरी।

> मंच को “हाई जैक” करने का अभय चौटाला पर लगा आरोप

> रैली में मंच स्थल पर ट्रैक्टर से पहुंचे दुष्यंत चौटाला

अर्चना त्रिपाठी | Hisar Today

2019 लोकसभा और विधानसभा चुनाव के पहले जननायक ताऊ देवीलाल चौधरी की सम्मान दिवस रैली को लेकर जहां सभी पार्टियों के बीच चर्चाएं गरम थीं, वहीं यह रैली नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला और उनके भतीजे सांसद दुष्यंत चौटाला के बीच छिड़ी सियासी जंग की गवाह भी थी। गोहाना रैली के एक दिन पहले ही अभय चौटाला और दुष्यंत चौटाला के बीच की तल्खी दिखाई दी थी। जब गोहाना रैली की तैयारियों का निरीक्षण करने एक दिन पहले अभय चौटाला स्थल पहुंचे तब अभय चौटाला और दुष्यंत चौटाला के समर्थन में कार्यकर्ताओं के बीच जोरदार हूटिंग शुरू हो गयी थी। यही नजारा गोहाना रैली में शुरू से अंत तक बना रहा। दुष्यंत चौटाला के मुख्यमंत्री चेहरा बनाए जाने को लेकर शुरू नारेबाजी और घोषणाबाजी के कारण मंच पर बैठे सभी नेता असहज महसूस कर रहे थे। खुद अपने सम्बोधन भाषण में सांसद दुष्यंत चौटाला को कहना पड़ा कि “कोई नारेबाजी नहीं करेगा, अनुशासन का पालन करें।” जबकि नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने भी इस हूटिंग पर नाराजगी जताते हुए कार्यकर्ताओ को कहा कि “नारेबाजी कर पार्टी को तोड़ने का काम मत करें।”

जब जननायक तौर देवीलाल की 105 वीं जयंती पर इनेलो सुप्रीमो औमप्रकाश चौटाला मंच पर आऐ तब उन्होंने मंच पर भाषण शुरू करते समय हूटिंग कर रहे कार्यकर्ताओं को शांत करते हुए कहा यदि आप लोग हल्ला करना चाहते हैं तो मैं यहां से चला जाता हूं। चौटाला ने कहा कि जो लोग पार्टी का माहौल बिगाड़ने का काम करेंगे, उनको मैं पार्टी में नहीं रखूंगा।” औमप्रकाश चौटाला ने कड़े शब्दों में कहा कि “सुधर जाओ, वरना चुनाव के पहले पार्टी से बाहर निकाल दूंगा।” औमप्रकाश चौटाला ने आगे कहा उनका पहला मकसद है गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा मुहैया करवाने के लिए एक महाविद्यालय की शुरुवात करना जहां पर शिक्षा मुफ्त हो और दूसरा एक अस्पताल की शुरुअात करना ताकि गरीबों का मुफ्त इलाज हो सके। इतना ही नहीं उन्होंने चुनाव के मद्देनजर यह भी संकेत दिए कि आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में टिकटों के बंटवारे का काम उनके पास होगा।

उन्होंने कार्यकर्ताओं को कहा कि “मैं आपका विश्वास टूटने नहीं दूंगा, टिकट उसी को दी जाएगी जो पार्टी के लिए निष्ठा से काम करता आ रह है।” अपने संबोधन भाषण में चौटाला ने कहा कांग्रेस पार्टी ने साजिश के तहत मुझे जेल भिजवाने का काम किया। मेरे जेल जाने के बाद कांग्रेस समझती थी कि इनेलाे खत्म हो जाएगी। लेकिन हमारे कार्यकर्ताओं ने मेरी गैरहाजिरी में पार्टी को और मजबूत बनाया है। उन्होंने कहा, पढ़े-लिखे बच्चों को नौकरी देने के लिए मुझे 10 साल की सजा हुई थी। लेकिन हम इस बार भी हर पढ़े लिखे बच्चे को नौकरी देने का काम करेंगे, चाहे इसके लिए मुझे फांसी चढ़ना न पड़े।

वहीं रैली के दौरान अभय चौटाला ने दावा किया है कि इनेलो-बसपा की सरकार बनने पर सभी किसानों को कर्जा माफ किया जाएगा। अभय चौटाला ने कहा कि हमने एसवाईएल के लिए सैकड़ों लोगों के साथ पार्लियामेंट का घेराव किया और गिरफ्तारियां देने का काम किया। उन्होंने कहा कि जब तक एसवाईएल तक का पानी हरियाणा को पानी नहीं मिलता तब तक केन्द्र व प्रदेश सरकार को चैन से बैठने नहीं दिया जाएगा। अभय चौटाला ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और केंद्र सरकार को चेताया कि अगर एसवाईएल नहर का निर्माण 1 नवंबर तक नहीं शुरू होता तो एक बार फिर इनेलो जोरदार आंदोलन छेड़ेगी।

कमल खिला कर क्या मिला धोखा, फरेब, अत्याचार : कर्ण चौटाला

अभय चौटाला के बेटे कर्ण चौटाला ने भाजपा सरकार पर बरसते हुए कहा “कमल खिला कर क्या मिला धोखा, फरेब और अत्याचार।” उन्होंने आगे कहा कि आज के युग के महाभारत में सभी कार्यकर्ता चौटाला की सेना बने और आपके साथ हम पांचो के पांचो (चौधरी औमप्रकाश चौटालाा, अभय चौटाला, दुष्यंत चौटाला, दिग्विजय चौटाला और कर्ण चौटाला) एक जुट होकर महाभारत जीतने का काम करेंगे।

सम्मान रैली को लेकर दिखी गुटबाजी, अलग-अलग रवाना हुए अभय-दुष्यंत समर्थक

इनेलो की गोहाना में हो रही सम्मान रैली को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं में एक बार फिर फूट देखने को मिली। बहादुरगढ़ में रैली स्थल के लिए दुष्यंत और अभय चौटाला के समर्थक अलग-अलग रवाना हुए। युवा इनेलो के झज्जर जिलाध्यक्ष संजय दलाल के नेतृत्व में हजारों कार्यकर्ताओं का काफिला सांसद दुष्यंत चौटाला के नारे लगाते हुए रैली स्थल के लिए निकला। संजय दलाल ने दावा किया कि भविष्य में हरियाणा का नेतृत्व सांसद दुष्यंत चौटाला ही करेंगे। बता दें कि गोहाना में आज इनेलो-बसपा गठबंधन की सम्मान रैली हो रही है। इस रैली के जरिए इनेलो जाटलैंड पर फिर से अपनी पकड़ मजबूत करने में जुटी है। बता दें कि शहर के कई अन्य बड़े नेता भी अलग-अलग काफिलों के साथ इस रैली के लिए रवाना हुए लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि इनेलो के वरिष्ठ नेता अभय चौटाला के गुट के कार्यकर्ता काफी कम संख्या में दिखाई दिए। युवा इनेलो के झज्जर जिला अध्यक्ष संजय दलाल का कहना है कि गोहाना में होने वाली यह परिवर्तन रैली आने वाले समय में प्रदेश में परिवर्तन लाएगी।

औमप्रकाश चौटाला के करीब अभय को मिली जगह, दुष्यंत रहे दूर

गोहाना रैली में नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने इनेलो सुप्रीमों औमप्रकाश चौटाला का फूलों से स्वागत के लिए उनका हाथ पकड़कर दिया संदेश दिया कि वह है इनेलो के अगले वारिसदार। जबकि इस दौरान दुष्यंत चौटाला, दिग्विजय चौटाला को कोई स्थान नहीं दिया गया और न ही उन्हें पास आने के लिए बुलावा भेजा गया। जिससे यह बात साफ थी कि सभा को किसने हाई जैक कर रखा था। मंच पर भी दुष्यंत चौटाला को बैठने के लिए जगह नहीं थी।

मंच के बैकड्रॉप बैनर से युवा नेता दुष्यंत चौटाला का फोटो था नदारद

गौरतलब है कि गोहान रैली के पूर्व ही अभय चौटाला और दुष्यंत चौटाला के बीच की तल्खी की खबरे काफी तेज थी। इस बीच एक दिन पहले रात को जब मंच पर बैक ड्राॅप बैनर से दुष्यंत चौटाला का चेहरा नदारद दिखा तो कार्यकर्ताओं में भरी रोष व्याप्त हो गया था। उसी का नतीजा था कि गोहाना रैली के एक दिन पूर्व जब अभय तैयारियों का जायजा लेने आए तो सभी ने दुष्यंत चौटाला के पक्ष में जोरदार हूटिंग की। इतना ही नहीं कार्यकर्ता इस अपमान से व्यथित होकर खुले दिल से दुष्यंत चौटाला के साथ नजर आये। किसी अनुशासनहीनता की कार्यवाई की चिंता किए बगैर सभी कार्यकर्ताओं ने चौधरी औमप्रकाश चौटाला के समक्ष भी दुष्यंत चौटाला के पक्ष में जोरदार नारेबाजी और हल्ला करना शुरू कर दिया था। इससे स्पष्ट है की युवाओं के दिल में दुष्यंत जगह बनाने में कामयाब रहे हैं व अभय सिंह चौटाला को जोरदार टक्कर देंगे।

 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close