राष्ट्रीय

बीजेपी ने कसी कमर, तैयार किया ‘टी20’ फॉर्म्युला

Today News

2019 के लोकसभा चुनाव में अब ज्यादा वक्त नहीं बचा है। इसे देखते हुए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) केंद्र में बने रहने के लिए अभी से कमर कस रही है। फिर से ‘मोदी सरकार’ बनवाने के लिए बीजेपी ने अब ‘टी20’ फॉर्म्युला तैयार किया है। इसमें चाय पर चर्चा, नमो ऐप और सांसदों, विधायकों और कार्यकर्ताओं के जरिए जनता तक बात पहुंचाई जाएगी।

क्या है टी20 फॉर्म्युला

यह फॉर्म्युला क्रिकेट के टी20 से बिल्कुल अलग है। बीजेपी के सीनियर नेता ने इस बारे में बताया कि इसमें बीजेपी के हर एक कार्यकर्ता को अपने इलाके के कम से कम 20 घरों में जाकर ‘चाय पर चर्चा’ करनी है। इतना ही नहीं चर्चा के दौरान उसे मोदी सरकार की विभिन्न उपलब्धियों के बारे में भी बताना है।

बीजेपी ने इसके लिए अपने सांसदों, विधायकों और बूथ लेवल के कार्यकर्ताओं से पहले ही चर्चा कर ली है। उन्हें बताया गया है कि कैसे सरकार की स्कीमों के फायदे लोगों को समझाने हैं। सीनियर नेता ने बताया कि कार्यकर्ताओं को उनके इलाके के हर घर में जाने की कोशिश करनी है और हर एक कार्यकर्ता कम से कम 20 घरों में जाएगा। नेता के मुताबिक, ऐसा जनता से सीधा संवाद करने के लिए किया जा रहा है।हर घर तक पहुंच बनाने के लिए ‘घर-घर दस्तक’ कैंपेन को तेजी से चलाया जाएगा। इसमें हर बूथ के लिए एक टीम (टोली) बनाई जाएगी जिसमें करीब 12 से 15 लोग होंगे।

2019 के लिए बीजेपी ‘नमो ऐप’ का भी सहारा लेगी। जल्द ही इस ऐप का नया वर्जन लाया जाएगा। फिर इसमें कार्यकर्ताओं को सौंपे जाने वाले कामों की सूची भी होगी और वीडियोज, ग्राफिक का इस्तेमाल भी बढ़ाया जाएगा। इसमें एक पोलिंग बूथ से कम से कम 100 लोगों को जोड़ने का लक्ष्य तय किया गया है।

विपक्षियों पर निशाना

पूरे कैंपेन का मकसद विपक्ष द्वारा हो रहे हमलों का जवाब देना होगा। इसमें 5 साल में किए गए कामों के बारे में बताया जाएगा और सरकार का अगले टर्म के लिए क्या रोडमैप है? उसकी भी जानकारी लोगों को दी जाएगी। इसपर पार्टी सूत्रों ने कहा है कि कार्यकर्ता तथ्य और आंकड़ों पर बात करेंगे ताकि लोगों को आसानी से सब समझाया जा सके। बता दें कि ‘चाय पर चर्चा’ का प्रयोग बीजेपी सरकार ने 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान किया था और यह हिट भी रहा था। उस वक्त बीजेपी द्वारा तकनीक का इस्तेमाल भी बखूबी किया गया था। मोदी के थ्रीडी भाषण प्रसारित हुए थे, जिससे मोदी का भाषण एक साथ कई जगहों पर दिखाया जा सका।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close