राष्ट्रीय

बदलते हालात और समाज के घटनाक्रमों का हुआ जीवंत प्रदर्शन

Today News

समाज में छूआछूत, भेदभाव सरीखी होने वाली गिरावट को बेहद संजीदगी से पेश किया गया। इस गिरावट की विभीषिका से सेना का एक जवान कैसे गुजरता है और आखिर में उसे किन-किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है। बदलते हालात और समाज के घटनाक्रमों पर आधारित नाटक कोर्ट मार्शल में इसे जीवंत किया गया।

मौका था सिरसा क्लब में आयोजित केएल थियेटर के कोर्ट मार्शल नाटक का। एसडीएम सिरसा  राहुल हुड्डा , विवेकानंद स्कूल के प्रिंसिपल रामसिंह यादव, संस्कार भारती से गंगाराम, भाई कन्हैया आश्रम से स. गुरविंद्र सिंह, सिरसा क्लब परिवार से वरिष्ठ उप प्रधान अनिल डूमरा, सचिव रोहित गनेरीवाला, विक्रांत गुप्ता, अनमोल मेहता  इत्यादि मुख्य दर्शक रहे। नाटक की कहानी में आर्मी का जवान रामचंद्र अफसरों से परेशान होकर अपने दो अधिकारियों पर गोली चला देता है। इसमें एक की मौके पर ही मौत हो जाती है, जबकि कैप्टन बीडी कपूर गंभीर रूप से घायल हो जाते हैं। इसके बाद रामचंद्र का कोर्ट मार्शल होता है, लेकिन डिफेंस काउंसिल बिकाश राय सबके सामने सच्चाई रखते हैं तो सभी चौंक जाते हैं। वे कोर्ट में बताते हैं कि ये अफसर रामंचद्र को प्रताडि़त करते थे। छोटी जाति का होने के कारण वे उसे जाति के संबोधन से बुलाते, जिससे वह परेशान था। इसलिए उसने अफसरों पर गोलियां चला दीं। डिफेंस काउंसिल ने कहा कि जब तक ऊंच-नीच की बात होती रहेगी, तब तक समाज में ऐसे हादसे होते रहेंगे।

बिकाश राय का किरदार नाटक के निदेशक कर्ण लढा ने बहुत ही सादे तरीके से निभाया। इस नाटक के जरिये संदेश देने की कोशिश की कि जिस देश में आदमी को आज के जातिवाद, धर्म व  उच्च-नीच के तराजू में तोला जाएगा, वह देश कभी तरक्की नहीं कर सकता। इस नाटक में कर्नल सूरत सिंह के पात्र में साहिल जग्गा, मेजर पूरी के पात्र में नीरज निर्मल कुमार, कमांडिंग ऑफिस के पात्र में पवनदीप, कैप्टन कपूर के पात्र में कार्तिकेय खट्टर, कैप्टन गुप्ता के पात्र में रोहित भार्गव, सुबेदार बलवान सिंह के पात्र में राहुल वर्मा, जवान रामचंद्र के पात्र में निखिल लूना, स्टैनो के पात्र में यशिस्विनी खुराना, श्रीमति कपूर के पात्र में दिव्या, गार्ड के पात्र में लोकेश, द्वितीय गार्ड के पात्र में लवप्रीत खैरेकां की शानदार भूमिका रही। इसके अतिरिक्त लाइट्स में नितिन लूना व कार्तिक सावरिया, म्यूजिक में धीरज भार्गव व कैमरामैन भारत अंगारा और पर्दे के पीछे आरजू, शरणजोत, सीमा सेठी रहे। मंच संचालन शैली मुंझाल ने किया।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close