टुडे न्यूज़राजनीतिराष्ट्रीय

कांग्रेस की रस्सी जल गई, बल नहीं गया: मायावती

Today News

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती कांग्रेस से नाराज हैं। यही वजह है कि बसपा सुप्रीमो मायावती ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पर जमकर हमला बोला।भारतीय जनता पार्टी या एनडीए के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर  विपक्षी एकता की कवायदों पर सबसे पहले बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने पानी फेर दिया है।कांग्रेस से नाराज चल रहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पर जमकर हमला बोला और गठबंधन न होने के लिए दिग्विजय सिंह पर ठीकरा फोड़ा। बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि सोनिया गांधी और राहुल गठबंधन चाहते थे। मगर दिग्विजय सिंह और कई नेता गठबंधन के खिलाफ थे। वे नहीं चाहते थे कि हमारे बीच गठबंधन हो। मायावती ने कहा कि कांग्रेस बसपा की पहचान को खत्म करना चाहती है। दिग्विजय सिंह और कुछ अन्य नेता नहीं चाहते थे थे कि बसपा और कांग्रेस के बीच गठबंधन हो। कांग्रेस जातिवादी पार्टी है।

मायावती ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी दोनों आने वाले विधानसभा चुनावों और लोकसभा चुनावों के लिए बसपा के साथ गठबंधन चाहते थे। मगर यह दुख की बात है कि कांग्रेस पार्टी में दिग्विजय सिंह और अन्य नेताओं ने केंद्रीय जांच एजेंसी मसलन सीबीआई की डर से ऐसा नहीं होने दिया। वे किसी भी कीमत पर हमारे बीच में कोई चुनावी गठजोड़ नहीं चाहतेे। मायावती ने कहा कि दिग्विजय सिंह भाजपा के एजेंट हैं।

मायावती ने आगे कहा कि यह हैरान करने वाली बात है कि कांग्रेस का ये नेता (दिग्विजय सिंह) जो कि बीजेपी का एजेंट है वह टीवी पर बसपा प्रमुख का नाम लेकर कहते हैं कि मायावती केंद्र सरकार के दवाब में गठबंधन नहीं करना चाहती। जो कि यह पूरी तरह से झूठ है।उन्होंने कहा कि जिन लोगों को बीएसपी के संघर्ष के बारे में जानकारी नहीं है उन्हें बीएसपी के इतिहास को पढ़ने की जरूरत है। सच यह है कि कांग्रेस पार्टी बसपा को और इसके अस्तित्व को खत्म करना चाहती है।

मायावती ने किसानों के ऊपर लाठीचार्ज को लेकर BJP सरकार पर साधा निशाना

-विवेक तिवारी हत्याकांड पर बोलीं मायावती- अगर मैं मुख्यमंत्री होती तो सबसे पहले पुलिसकर्मियों पर कड़ी कार्रवाई करती

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close