जीवन मंत्राधर्मकर्महरियाणा

योग इंसान की शारीरिक, मानसिक व आध्यात्मिक जरूरत : आचार्य जगदीश

समयजक योगा सेंटर में योग पर संगोष्ठी का आयोजन

Hisar Today

 हिसार
भामाशाह नगर स्थित समयजक योग केंद्र में आज योग व आध्यात्म से जुड़ी विभिन्न विभुतियां एकत्रित हुई जिन्होंने योग के बारे में अपने-अपने विचार रखे।
इस संगोष्ठी का आयोजन श्री महामृत्युंजय अंतर्राष्ट्रीय योग एवं ज्योतिष अनुसंधान केंद्र के संस्थापक सहजानंद नाथ की अध्यक्षता में हुआ। कार्यक्रम में आचार्य जगदीश महाराज फाऊंडर नमो गंगे ट्रस्ट, अनूप शर्मा महासचिव परिधि आर्ट ग्रुप, निर्मल वैद चेयरमैन परिधि आर्ट ग्रुप, हीरा योगी हीरा योग संस्थान, संजय डडवाल योगा लोक से पधारे जिन्होंने योग पर अपने-अपने विचार रखे। इस संगोष्ठी का आयोजन योग को और बेहतर बनाने व इसे विश्व स्तर पर और अधिक फैलाने के लिए किया गया। संगोष्ठी में अपने विचार रखते हुए जगदीश महाराज ने कहा कि योग के बिना मनुष्य का जीवन व्यर्थ है क्योंकि योग एक ऐसा माध्यम है जिससे इंसान का शारीरिक, मानसिक व आध्यात्मिक उद्देश्यों की पूर्ति होती है। इसलिए योग को जन-जन को अपनाना चाहिए और जितना हो सके इसका अधिक से अधिक लाभ उठाना चाहिए।
हीरा योग संस्थान के हीरा योगी ने कहा कि यदि मनुष्य को स्वस्थ रहना है तो उसे योग को अपनाना होगा। योग को अपनाने के बाद लोगों की अनेक ऐसी बीमारियां दूर हुई हैं जिन्हें वे वर्षों से झेल रहे थे। इसलिए योग एवं स्वास्थ्य का गहरा संबंध है और योग को अपनाना आज हमारी जरूरत बन चुका है।
योगा लोक के संजय डडवाल ने कहा कि वे विशेष तौर कार्पोरेट क्षेत्र के लोगों को योग सिखाते हैं जो उनके कार्य करने की क्षमता में तो वृद्धि करता ही है साथ ही उन्हें तनाव से भी दूर रखता है। मेरा ये मानना है कि तनाव को दूर करने में योग व ध्यान सबसे कारगर हैं इसलिए हमें नियमित रूप से इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।
परिधि आर्ट ग्रुप के चेयरमैन निर्मल वैद व महासचिव अनूप शर्मा ने योग को विश्व स्तर तक पहुंचाने के बारे में विचार सांझा किया। उन्होंने समयजक की शाखाओं के विस्तार बारे भी विचार रखा जिस पर सेंटर के संचालक कार्तिकेय सुरी ने देश भर में इसकी 50 से अधिक शाखाएं खोलने के साथ शिकागो, कैनेडा व यूएसए के विभिन्न शहरों भी सेंटर की शाखाएं खोलने का विचार रखा।
सहजानंद ने कार्यक्रम में उपस्थित हुए सभी महानुभावों का स्वागत व धन्यवाद व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि योग घर-घर पहुंचे तथा इसका अधिक से अधिक लोग लाभ उठाएं तभी हमारा प्रयास सफल होगा। योग आज सभी की जरूरत है। विशेष तौर पर युवाओं को योग को अपनाकर इसे आगे पहुंचाना चाहिए।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close