जीवन मंत्राफेसबुक वॉलशिक्षा

आध्यात्मिक बुद्धिमत्ता नहीं जिया जाता, तब तक सुख, शांति, संतोष व आनंद की प्राप्ति नहीं हो सकती

Hisar Today

श्याम | सोशल मीडिया
एक गाँव में एक बुद्धिमान व्यक्ति रहता था। उसके पास 19 ऊंट थे। एक दिन उसकी मृत्यु हो गयी। मृत्यु के पश्चात वसीयत पढ़ी गयी। जिसमें लिखा था कि:
मेरे 19 ऊंटों में से आधे मेरे बेटे को, उसका एक चौथाई मेरी बेटी को, और उसका पांचवाँ हिस्सा मेरे नौकर को दे दिए जाएं।
सब लोग चक्कर में पड़ गए कि ये बटवारा कैसे हो?
19 ऊंटों का आधा अर्थात एक ऊंट काटना पड़ेगा, फिर तो ऊंट ही मर जायेगा। चलो एक को काट दिया तो बचे 18 उनका एक चौथाई साढ़े चार- साढ़े चार फिर??
सब बड़ी उलझन में थे। फिर पड़ोस के गांव से एक बुद्धिमान व्यक्ति को बुलाया गया
वह बुद्धिमान व्यक्ति अपने ऊंट पर चढ़ कर आया, समस्या सुनी, थोडा दिमाग लगाया, फिर बोला इन 19 ऊंटों में मेरा भी ऊंट मिलाकर बांट दो।
सबने पहले तो सोचा कि एक वो पागल था, जो ऐसी वसीयत कर के चला गया और अब ये दूसरा पागल आ गया जो बोलता है कि उनमें मेरा भी ऊंट मिलाकर बांट दो। फिर भी सब ने सोचा बात मान लेने में क्या हर्ज है।
19+1=20 हुए।
20 का आधा 10 बेटे को दे दिए।
20 का चौथाई 5 बेटी को दे दिए।
20 का पांचवाँ हिस्सा 4 नौकर को दे दिए।
10+5+4=19 बच गया एक ऊंट जो बुद्धिमान व्यक्ति का था वो उसे लेकर अपने गॉंव लौट गया।
सो हम सब के जीवन में 5 ज्ञानेंद्रियाँ, 5 कर्मेन्द्रियाँ, 5 प्राण और 4 अंतःकरण चतुष्टय (मन,बुद्धि, चित्त, अहंकार) कुल 19 ऊंट होते हैं। सारा जीवन मनुष्य इन्हीं के बटवारे में उलझा रहता है और जब तक उसमें आत्मा रूपी ऊंट नहीं मिलाया जाता यानी के आध्यात्मिक जीवन (आध्यात्मिक बुद्धिमत्ता) नहीं जिया जाता, तब तक सुख, शांति, संतोष व आनंद की प्राप्ति नहीं हो सकती।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close