टुडे न्यूज़ताजा खबरहिसार

अति पिछडा वर्ग ने भरी हुंकार, आने वाले विधान सभा में 29 टिकटे दी जाए

अति पिछडा वर्ग का उप मुख्यमंत्री बनाया जाना चाहिए,

हिसार टुडे।

हिसार की प्रेम नगर धर्मशाला में अति पिछडा वर्ग अधिकार मंच हरियाणा द्वारा  सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसमें प्रदेश भर से लोगों ने बढ चढ हिस्सा लिया।  इसी दौरान अति पिछडा वर्ग के लोगों अपना बिगुल बजाते हुए 28 जुलाई को हिसार के राजकीय कालेज के मैदान हिसार प्रदेश स्तरीय रैली करने का निर्णय है। सभी ने पर्यावरण के प्रति जागरुकता लाने के लिए अपन घरों में एक- एक पौधा लगाने का संकल्प लिया और मंच को आगे बढाने के निर्णय लिया।

इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि  उप मुख्यमंत्री सहित पांच  मंत्री,   2 कैबिनेट व 3 राज्यमंत्री तथा 33 प्रतिशत आबादी के अनुपात में 29 विधानसभा  टिकटें दी जानी चाहिए।  33 प्रतिशत आबादी के अनुपात में प्रशासन के हर स्तर पर व तमाम राजनीतिक नियुक्तियों जिसमें एचपीएससीए एचएसएससीए बोर्ड व निगम में पर्याप्त प्रतिनिधित्व दिया जाए।  प्रथम व द्वितीय श्रेणी की सरकारी नौकरियों व स्थानीय निकाय में 27 प्रतिशत आरक्षण दिया जाए।  सरकारी नौकरियों में क्लास वन से लेकर क्लास 4 अनुपात तक स्पेशल भर्ती के माध्यम से बैकलॉग पूरा किया जाए।  अति पिछड़ों बीसीए को प्रमोशन में आरक्षण दिया जाए तथा  बीसीए को अनुसूचित जाति के समतुल्य उच्च शिक्षा में तमाम सुविधाएं उपलब्ध करवाई जानी चाहिए। वक्ताओ ने कहा कि   अति पिछड़ा वर्ग के प्रत्येक परिवार को एक सरकारी नौकरी सुनिश्चित की जाये व   प्रतियोगी परीक्षाएं जैसे आईएएसए एचसीएसए नीट व  आईआईटी आदि की मुफ्त कोचिंग मुहैया करवाई जाए।

एचसीएस नॉमिनेशन करते समय अनुसूचित जाति व बीसी ए को विधि सम्मत आरक्षण प्रदान किया जाए तथा अब तक नॉमिनेट किए गए अधिकारियों के अनुपात में एससी व बीसी का बैकलॉग पूरा किया जाए और वर्तमान आरह एचसीएस इन्हीं दो कैटेगरीओं से लिए जाएं। एससीबीसी कल्याण निगम छोटे व्यवसायियों के लिए न्यूनतम दर पर पचास लाख से एक करोड़ रुपए  का  ऋण बिना गारंटी के उपलब्ध करवाया जाए।  अति पिछड़ा वर्ग की 95 प्रतिशत आबादी मेहनत मजदूरी व राष्ट्र निर्माण के कार्यों में जीवन यापन करती है ।

इन मजदूरों के लिए आक्समात मृत्यु पर पचास लाख का बीमा सरकारी खर्च पर उपलब्ध करवाया जाए  व मृतक के आश्रित को स्थाई सरकारी नौकरी उपलब्ध करवाई जाए।   अति पिछड़ा वर्ग के हाथ से काम करने वाले मजदूरों वह मिस्त्रीयो को दुकान करने पर 50 पैसे प्रति यूनिट के हिसाब से बिजली उपलब्ध करवाई जाए। हरियाणा में क्रीमी लेयर को राज्य सरकार ने नए  तरीके से परिभाषित किया है। केंद्र में यह लिमिट 8 लाख रुपए है  जबकि हरियाणा में पिछड़ा वर्ग के लिए यह लिमिट छह लाख कर दी गई  है जिसमें वेतन व अन्य सभी प्रकार की आय शामिल होंगी।  इस प्रकार एक किसान व्यापारी व  चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के बच्चे को भी क्रीमी लेयर लगा कर के आरक्षण से वंचित किया जा रहा है। और दूसरी तरफ   प्रोफेशनल कोर्सेज  में बेतहाशा वृद्धि की जा रही फीस  है जिससे गरीब व पिछड़े वर्ग के लोगों को शिक्षा के अधिकार से भी वंचित किया जा रहा है।

हरियाणा में सरकार बनाने का अवसर दिया वही पार्टी अब हमारे हितों पर कुठाराघात कर रही है। अति पिछड़ों को किसी भी स्तर पर ना तो प्रशासन में न ही राजनीति में किसी प्रकार की कोई भागीदारी दी गई है। इस पर आलम यह है की अति पिछड़ा वर्ग के अधिकारों  को हड़पने के लिए सरकार नई नीतियां बना रही है।

हम सम्मान दान, वोट सबको ध्यान में रखते हुए अति पिछडे वर्ग को देंगे अति पिछडा वर्ग के बच्चों में जागरुकता लगाने के लिए काडर कैंप लगाए जाएगें जिसमें हमारे नौजवानों को हमारे महापुरुषों के बारे में जानकारियां दी जाएगी। नौजवान  सथियों को बोलना सिखाया जाएगा ताकि समाज में जाकर लोगों को जागरुक कर सके और खुद बोलना सिखे और आने वाले समय में नेता बन सके।  इस दौरान सभी ने निर्णय लिया कि   जो  राजनीतिक दल इन मांगों को पूरा करेगा अति पिछड़ा वर्ग उनका आगामी विधानसभा चुनाव में हर तरह से साथ देगा।

इस दौरान प्रस्ताव पारित किया गया कि मंच की 251 सदस्यीय एडोप कमेटी बनाई जाएगी जिसमें प्रदेश स्तर पर लोगों को जोडा जाएगा। बैठक में निर्णय लिया गया कि आगे आने वाले समय में मंच अति पिछडा वर्ग के होनहार बच्चों को सम्मानित करेगा तथा जरुर मंद बच्चों की शिक्षा के लिए उन्हें गोद लिया जाएगा। निर्णय लिया गया है कि  सोसश मीडिया के माध्यम से अति पिछडा वर्ग अधिकार मंच हरियाणा को सोशल मीडिया से जोडकर अभियान अभियान चलाया।

इस दौरान गणमन्य लोगों ने भाग लिया। इस मौके राजेंद्र तवंर, राजेद्र कुमार , भिवानी से जगदीश मढोलीवाला, राजपाल, प्यारेलाल, धर्मपाल तंवर, शंकुतला, जयभगवान , शेर सिंह प्रधान, चेयरमैन मामनचंद, महासचिव कृष्ण गंगवा, डा. सुनील गोहाना, डा. अजय चंडीगड, राजकंवर, विक्रम, मास्टर आजाद सिंह जोगी, बलदेव आजाद नगर, रामदिया सोनीपत,लखमी चंद दिल्ली, मामनराम भिवानी, जिले नंबरदार, रमेश टाक भिवानी, हरिसिहं राठी,  रामनिवास, फतेहाबाद से मुख्तयार सिंह, प्रवीन कुमार, कृष्ण आईतान, बिरेंद्र कुमार, सिरसा से दौलतराम, डा. मुकेश, सीताराम,  उकलाना से सूरजभान प्रधान, रतिया से अग्रेज सिंह पूर्व सरपंच, देवेंद्र सिंह, फरीदाबाद से जिले सिंह, हांसी से बिजेद्र, गोहाना से खेम चंद्र व सुनील, तोशाम से वजीर सिंह, मामन राम मठेणिया,  बरवाला से पवनकुमार, सुरेद्र कुमार, बलजीद सरपंच, धीर महारुद्रा सिरसा, महावीर जांगडा पूर्व सरपंच मुढाल, डा. मुख्तयार सिंह फतेहाबाद, जय नारायण अंसध, डा. रिसाल सिंह भट्टू, रामनिवास शिकारपुर, डा. भजन लाल राकेश मौजूद थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close