टुडे विशेषहिसार

शहर की व्यवस्था राम भरोसे, लोगों को खुद सीवरेज में उतरना पड़ रहा : रेखा ऐरन

सुविधाएं देने की बजाए शहर के लोगों की मुश्किलें बढ़ा रहा शासन-प्रशासन : ऐरन

हिसार: पूर्व पार्षद व मेयर का चुनाव लड़ चुकीं रेखा ऐरन ने शहर में फैली अव्यवस्थाओं पर सवाल उठाते हुए कहा कि शहर के हालातों को देखते हुए ऐसा लग रहा है जैसे यहां की व्यवस्था राम भरोसे चल रही है तथा जनता की समस्याओं की कहीं कोई सुनवाई नहीं है। आलम यह है कि शहर के लोगों का प्रशासन से विश्वास पूरी तरह से उठ चुका है और बार-बार शिकायतों के बावजूद भी उनकी सीवरेज व अन्य समस्याओं का समाधान नहीं होने पर लोग खुद सीवरेज की सफाई करने के लिए मेनहॉल में उतरने को मजबूर हैं। यहां तक कि पार्षदों तक की भी सुनवाई नहीं हो रही और लोगों के साथ-साथ उन्हें भी राहत कार्यों में जुटना पड़ रहा है।

व्यापार एवं व्यावसाय कुंज परियोजना फेज-3 में सड़क का हाल।

रेखा ऐरन ने कहा कि ऐसा लग रहा है कि सरकार व प्रशासन की जनता को सुविधाएं देने की बजाय उनकी मुश्किलें बढ़ाने में ज्यादा दिलचस्पी है जिसका उदाहरण जगह-जगह बेवजह उखाड़ी गई सडक़ें, शहर के ठीक फुटपाथों को तोडक़र दोबारा बनाना, सडक़ों के बीच की ठीक व सही सेंट्रल ग्रील्स को उखाडक़र हल्के स्तर की ग्रील लगाना, शहर के लोगों के लिए नासूर बन चुके बरसाती नाले का विरोध के बाद भी निर्माण करवाना आदि सबके सामने हैं। इससे जाहिर होता है शासन-प्रशासन गैर जरूरी कामों पर तो इतना जोर दे रहा है और जरूरी कामों की ओर उनका कोई ध्यान नहीं हैं। उन्होंने कहा कि वहीं हिसार के बस स्टैण्ड को लेकर भी शासन-प्रशासन दुविधा में है। प्रशासन को चाहिए कि बस स्टैण्ड को पीछे से साऊथ बाई पास से जोडक़र शहर की जनता को एकबारगी तो जाम से राहत प्रदान करे जिसकी घोषणा स्वयं मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भी कई बार कर चुके हैं क्योंकि बस स्टैण्ड को शिफ्ट करने में तो सरकार वर्षों लगा देगी तो क्या तब तक शहर की जनता जाम की परेशानी से यूं ही जूझती रहेगी।

बरसाती पानी निकालने में नगर निगम विफल

ऐरन ने कहा कि शासन-प्रशासन शहर में बरसाती पानी की निकासी में भी पूरी तरह विफल रहा है और थोड़ी सी बारिश में ही शहर की सडक़ें लबालब हैं। पटेल नगर आरयूबी जो कि जनता की सुविधा के लिए बनाया गया था वह भी जरा सी बारिश में तलाब का रूप ले लेता है। अभी तो बारिश की शुरूआत भर हुई है और हल्की सी बारिश में शहर के लगभग सभी क्षेत्रों में बारिश व सीवरेज का पानी जमा हो चुका है और निकासी के कोई पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। शहर में जगह-जगह सीवरेज ब्लॉक हैं और बार-बार शिकायतों के बावजूद भी स्थिति जस की तस है जिससे लोग नरकीय जीने को मजबूर हैं। उन्होंने मांग उठाई कि प्रशासन जनता की समस्याओं के प्रति गंभीर होकर उन्हें जल्द दूर करे ताकि शहरवासियों को राहत मिल सके। इसके साथ ही बारिश के पानी की निकासी के पुख्ता इंतजाम किए जाएं ताकि बारिश के इस मौसम में लोगों को परेशानियों न झेलनी पड़े।

व्यापार एवं व्यवसाय कुंज परियोजना, फेज-3 में रोड हुई गड्‌ढे में तब्दील

व्यापार एवं व्यावसाय कुंज परियोजना फेज-3 में कुड़े का ढ़ेर।

व्यापार एवं व्यवसाय कुंज फेज 3 के व्यापारियों का कहना है सरकार उनसे सिर्फ टैक्स वसूली करती है, यहां पर मूलभूत सुविधाएं भी उपलब्ध करवाने में सरकार विफल रही है व साथ ही नगर निगम के कर्मचारियों के लिए भी इस मार्केट का कोई महत्व नहीं है। यहां पर पानी की पाईप व सीवर लाईन चालू नहीं है। 12 साल पहले बनाया गया बूस्टिंग स्टेशन आज भी पानी आने के इंतजार में है साथ ही सड़क का भी तारकोल व बजरी निकल गई है व गड्ढे में तब्दील हो गई है। योजना का अपना पावर स्टेशन न होने से बिजली की दिक्कत हमेशा बनी रहती है। इस योजना को ऐसे फीडर से जोड़ दिया जाता है कि बिजली प्राय: गायब रहती है। शौचालय जब से बनाये गये हैं तभी से बन्द पड़े हैं। खुले में शौच तथा पेशाब सरेआम जारी होने से यहां गन्दगी की भरमार है तथा सफाई के नाम की यहां पर कोई भी व्यवस्था नहीं है। व्यापार एवं व्यवसाय कुंज परियोजना फेज-3, हिसार के सारे गेट टुटे हुए हैं, जिस कारण हमेशा व्यापारियों में चोरी का भय बना रहता है। व्यापारियों ने सरकार को चेतावानी दी है यदि समस्याओं का निदान नहीं किया जाता है तो वे धरना प्रदर्शन करने पर विवश होंगे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close