टुडे न्यूज़हिसार

तिरुपति बालाजी धाम की तर्ज पर 20 करोड़ से हिसार में बनेगा 71 फीट ऊंचा राजगोपूरम

चिकनवास टोल प्लाजा के पास बनाया जा रहा श्री तिरुपति धाम चिकनवास अगले दो साल में बनकर तैयार होगा। दक्षिण भारत स्थित तिरुपति धाम श्रीरंगम से मंगवाए गए पत्थरों से इसका निर्माण हो रहा

हिसार टुडे

अगर आप घूमने फिरने के शौकीन हैं और भगवान में आस्‍था रखते हैं तो आपके लिए अच्‍छी खबर है। हिसार में अब तिरुपति बालाजी धाम की तर्ज पर मंदिर बनाया जा रहा है। वृंदावन के अखिल भारतीय श्री बैकुंठनाथ सेवा धर्मार्थ ट्रस्ट की ओर से सिरसा रोड पर चिकनवास टोल प्लाजा के पास बनाया जा रहा श्री तिरुपति धाम चिकनवास अगले दो साल में बनकर तैयार होगा। ढाई एकड़ में यह धाम दक्षिण भारत में हिंदू आस्था के प्रमुख केंद्र तिरुपति बालाजी मंदिर की तर्ज पर बनाया जा रहा है। उत्तर भारत में दक्षिण भारतीय शैली का यह सबसे ऊंचा मंदिर होगा।

20 करोड़ की लागत से बनने वाले मंदिर की ऊंचाई 71 फीट होगी। अखिल भारतीय श्री बैकुंठनाथ सेवार्थ ट्रस्ट वृंदावन की ओर से बनाया जाने वाला यह धाम हिसार को नई पहचान दिलाएगा। दक्षिण भारत स्थित तिरुपति धाम श्रीरंगम से मंगवाए गए ग्रेनाइट के पत्थरों से इसका निर्माण किया जा रहा है। धाम के अंदर गर्भगृह (मुख्य मंदिर) में भगवान वेंकटेश समेत प्रमुख देवी-देवताओं की मूर्तियां भी उन्हीं पत्थरों से बनाई जा रही हैं।

मंदिर को बनाने में दक्षिण भारत के प्रसिद्ध आर्किटेक्ट्स की मदद ली जा रही है। गर्भ गृह में भगवान वेंकटेश की प्रतिमा स्थापित की गई है। इससे पहले अग्रोहा और काजला के अलावा चौधरीवास में पंचमुखी धाम काफी चर्चा में थे, ऐसे में अब राजगोपूरम के बनने से हिसार में एक और दर्शनीय स्‍थल तैयार हो सकेगा।

राजगोपुरम से किए जा सकेंगे दर्शन

इस मंदिर में 71 फीट उंचा राजगोपुरम भी बनाया जाएगा। दक्षिण भारत के तिरुपति वेंकटेश्वर मंदिर की तर्ज पर यहां राजगोपुरम बनाया जाएगा। इसका प्रयोग मुख्य गेट से मंदिर में न जा पाने वाले श्रद्धालु करते हैं। इसके जरिए मेन गेट की बजाय राजगोपुरम के जरिए भगवान के दर्शन किए जा सकते हैं। इस मंदिर में भगवान वेंकटेश्वर, गरुड़ भगवान सहित कई भगवानों के मंदिर स्थापित किए जाएंगे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close