शिक्षाहिसार

शिक्षा के क्षेत्र में शोध कार्यों के लिए मिला अंतरराष्ट्रीय सम्मान

अंतरराष्ट्रीय पटल पर छाए डॉ. संदीप सिंहमार व डॉ. संदीप सिहाग

हिसार। थाईलैंड की राजधानी बैंकाक में आयोजित चार दिवसीय इंडो ग्लोबल बहु-विषयक शिक्षा सम्मेलन में हरियाणा से दो शिक्षाविदों ने भाग लेकर अपनी अंतराष्ट्रीय पटल पर पहचान बनाई। खास बात यह है कि दोनों ही शिक्षाविद डॉ संदीप कुमार सिंहमार व डॉ. संदीप कुमार सिहाग हिसार जिले से हैं। डॉ. संदीप कुमार की जोड़ी ने इस एजुकेशन कॉन्फ्रेंस में स्टडी ऑन प्राइमरी एजुकेशन- टीचिंग मेथाडोलॉजी एंड करिकुलम विषय पर अपना शोध पत्र प्रस्तुत किया।

कांफ्रेस में डॉ. संदीप कुमार सिहाग व संदीप कुमार सिंहमार को उनके शिक्षा के क्षेत्र में किए गए शोध कार्यों के लिए इंडो ग्लोबल एजुकेशन एक्सीलेंस अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया।बहु-विषयक शिक्षा सम्मेलन में दोनों ने संयुक्त रूप से अपनी प्रेजेंटेशन में हरियाणा में प्राथमिक स्तर पर गिरते शिक्षा के स्तर पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जब कक्षा कक्ष में आधुनिक पद्दति से युक्त शिक्षा की जरूरत है तब भी शिक्षक पुराने ढ़र्रे के अनुसार ही बच्चों को शिक्षित करने के काम मे लगे हैं। उन्होंने ऐसी स्थिति के लिए शिक्षकों में प्रशिक्षण की कमी को जिम्मेदार ठहराया।

डॉ सिहाग व डॉ. सिंहमार ने कहा कि आज की स्थिति ऐसी है कि शिक्षक बनने के चाहवान सही तरीके से संस्थागत ट्रेनिंग से जी चुराते हैं। अधिकतर बीएड व डीएड करने वाले भावी शिक्षक ट्रेनिंग कालेजों में जाकर नॉन अटेंडिंग की बात करते हैं। उन्होंने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि जब खुद शिक्षकों के पास ही ट्रेनिंग नहीं हो तो ऐसी स्थिति में विद्यार्थियों को शिक्षा कैसे प्रदान की जा सकती है? उन्होंने कहा कि हरियाणा ही नहीं बल्कि देशभर के शिक्षकों को गैर शिक्षण कार्यों में व्यस्त रखना भी शिक्षा के प्रति रुचि कम होने का सबसे बड़ा कार्य हो सकता है। शिक्षकों के प्रशिक्षण को मूर्त रूप देने के लिए हरियाणा के शिक्षा विभाग व देश के मानव संसाधन विकास मंत्रालय को गहन मंथन करने की जरूरत है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close