टुडे विशेषताजा खबरराजनीतिहिसार

पन्ना प्रमुखों पर फूल बरसाकर सीएम ने की मिशन 67 की शुरुआत

भाजपा का अगली बार “SHE” सुरक्षा, हेल्थ और शिक्षा पर जोर

सीएम मनोहर लाल ने कहा- मोदी नहीं, भाजपा कार्यकर्ता हैं तो मुमकिन है |  दिल्ली हुई हमारी है अब चंडीगढ़ की बारी : कैप्टन अभिमन्यु

अर्चना त्रिपाठी | हिसार 10 लोकसभा सीटों में जीत दर्ज करने के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आज हिसार से आयोजित अभिनंदन सम्मलेन में घूम-घूमकर अपने पन्ना प्रमुख कार्यकर्ताओं पर फूलोंं की बरसात कर उनका आभार माना। उन्होंने नया नारा देकर पन्ना प्रमुखों का सम्मान बढ़ाते हुए नारे दिया कि दाने-दाने पर लिखा होता है खाने वाले का नाम, उसी प्रकार मैं कहता हूं कि पन्ने-पन्ने पर लिखा है इतिहास बनाने वाले का नाम।

सीएम मनोहर लाल इस दौरान बेहद आत्मविश्वास और खुशी से सराबोर नजर आए। उन्होंने मंच पर आते ही कहा कि आज मैं स्टेज पर बैठे नेताओं का नाम नहीं लूंगा। वो इसलिए नहीं ले रहा हूं कि चाहे मुख्यमंत्री हो या पार्टी के नेता हों हम सभी को आभास है कि हम कार्यकर्ता हैं। हमनें पन्ना प्रमुखों का प्रयोग हरियाणा में पहली बार किया। 60 वोटर के परिवार तक पहुंचने का काम हमने उनको दिया। उन्होंने जो कमाल किया उसी से विचार आया कि नेताओं का अभिनदंन बहुत हुआ। पन्ना प्रमुखों की मेहनत से ही 10 की 10 सीटों पर कमल खिलाने में उनका अभिनंदन किया जाए।

विधानसभा चुनाव की दिशा तय करने के लिए हिसार से शुरू अभिनंदन समारोह में मुख्यमंत्री ने न केवल विपक्ष को आड़े हाथों लिया बल्कि इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकश चौटाला की अमर्यादित टिप्पणीं को उनके हार की बौखलाहट करार दिया। इतना ही नहीं उन्होंने हर चुनाव में हावी होने वाले जाट-नॉन जाट मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कोई पूछे तो पहले खुद को हरियाणवी बताना फिर जाति बताना। इतना ही नहीं आगामी विधानसभा में भाजपा ने अपनी पिछली जीत को आगे बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने नारा दिया “मिशन 67 का”। उन्होंने पूरेे आत्मविश्वास के साथ कहा कि विधानसभा चुनावों में हम 67 सीटों को टारगेट लेकर चलेंगे मगर 90 सीटों की डींगे नहीं हांकेंगे।

कार्यकर्ता सम्मान समारोह को राज्यसभा सांसद डॉ. डीपी वत्स, विधायक डॉ कमल गुप्ता, मेयर गौतम सरदाना, हरियाणा माटी कला बोर्ड के चेयरमैन कर्णसिंह रानोलिया, भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र पुनियां, महाबीर प्रसाद, विधायक रणबीर गंगवा, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री कृष्ण कुमार बेदी, हरियाणा वेयरहाऊसिंग कॉरपोरेशन के चेयरमैन श्रीनिवास गोयल, ज्योति बैंदा, सोनाली फोगाट, रमेश यादव, मुख्यमंत्री के ओएसडी भूपेश्वर दयाल, भाजपा जिला महामंत्री सुजीत कुमार आदि बढ़-चढ़कर मौजूद थे।

विपक्ष का लक्ष्य सत्ता पाना, हमारा “जनता की सेवा” करना

मुख्यमंत्री ने कहा कि 72 साल देश को आजाद हुए हो गए, पहली बार किसी सरकार ने इतने बड़े बहुमत की सरकार बनाई है। 1971 में जब इंदिरा जी जीती थी तो देश के लिए जीताया था। कांग्रेस कहती है सत्ता पहले, देश बाद में। जबकि हमारे लिए पहले देश फिर सत्ता की बात आती है। चुनावी माहौल या युद्ध के साथ तुलना करता हूं। ये कहते हैं देश के टुकड़े हो जाएं हमें सत्ता प्यारी है। हम कहते हैं कि देश के टुकड़े नहीं हो भले ही सत्ता इन्हें दे दो। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि विपक्ष की यात्रा शुरू होती है तो सत्ता प्राप्ति अंतिम लक्ष्य है। हमारी यात्रा सत्ता प्राप्ति के बाद शुरू होती है। सता प्राप्ति हमारा एक लक्ष्य भले ही हो। मुख्य लक्ष्य नहीं है, जनता का काम करने मुख्य लक्ष्य है। विपक्ष के लोगों ने सत्ता प्राप्ति के बाद अपने घर भरे हैं। अब ये कटघरे में आ चुके हैं। उन्हें उनका फल जरूर मिलेगा। भ्रष्टाचार को रोकने के लिए हमने मेहनत की है युवा को मिलने वाले सम्मान से युवा खुश हैं, महिला अपराध में कमी आई है, उनको मिलने वाले सम्मान से महिलाएं खुश हैं। किसानों की फसल खरीद और मुआवजा समय पर मिलने से किसान खुश हैं।

मोदी है तो मुमकिन है ऐसा नहीं, भाजपा वर्कर हैं तो मुमकिन है

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि लोकसभा चुनाव में कार्यकर्ताओं और पन्ना प्रमुखों ने खून-पसीने से राजनीतिक जमीन को सिंचित किया, जिससे हरियाणा में सभी 10 स्थानों पर कमल खिले। चुनाव में कार्यकर्ताओं और पन्ना प्रमुखों को जो जिम्मेदारियां दी गईं, उसे उन्होंने बखूबी निभाया। इससे मेरे मन में विचार आया कि नेताओं और मंत्रियों का तो बहुत अभिनंदन होता है लेकिन उन कार्यकर्ताओं का भी अभिनंदन होना चाहिए, जिन्होंने नींद या भूख-प्यास की परवाह किए बिना चुनाव में कमल खिलाने में अपनी पूरी ताकत झोंक दी। अपने कार्यकर्ताओं का मैं दिल से आभारी हूं। उन्होंने कार्यकर्ताओं को एम्पलीफायर बताते हुए कहा कि उनके बिना पार्टी की बात जनता तक पहुंचानी संभव नहीं है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल का कहना था कि सब कहते हैं कि मोदी है तो मुमकिन है। मगर मैं कहता हूं कि मोदी नहीं, भाजपा कार्यकर्ता हैं तो मुमकिन है। उन्होंने ये तक कह डाला कि भले ही मोदी मेरी बात को सुनकर नाराज हो जाएं, मगर वर्करों के कारण ही सब कुछ मुमकिन हुआ है। उन्होंने कहा कि चुनाव परिणामों ने साबित कर दिया कि भाजपा कार्यकर्ता हैं तो सब कुछ मुमकिन है। जिस प्रकार कहा जाता है कि दाने-दाने पर लिखा होता है खाने वाले का नाम, उसी प्रकार मैं कहता हूं कि पन्ने-पन्ने पर लिखा है इतिहास बनाने वाले का नाम।

पहले हरियाणवी हूं, जाति बाद में

सीएम मनोहर ने कहा कि जाति आदि के नाम पर हम आपसी भेदभाव को पैदा नही होने देंगे। राजनीति में जाति का कोई स्थान नहीं है। इसलिए हमने हरियाणा एक हरयाणवी एक की बात कही है। आपसे निवेदन करता हूं की जातिवाद को आगे न आने दें। कोई पूछे तो पहले बताओ कि हरयाणवीं हूं। उसके बाद बताओ जाट हूं, पंजाबी हूं या अन्य हूं। उन्होंने कहा कि जनता को लड़ाने-भिड़ाने और भेदभाव पैदा करने की किसी कोशिश को सरकार कामयाब नहीं होने देगी। सरकार हरियाणा एक-हरियाणवी एक के नारे को चरितार्थ करते हुए पूरे प्रदेश में समानता की अवधारणा को लागू करेगी। उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव में विकास और हरियाणा का गौरव ही मुख्य मुद्दा रहेंगे।

“SHE” (सुरक्षा, हेल्थ, एजुकेशन)

मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले 5 साल में सरकार का मिशन “SHE “ होगा। अर्थात सरकार आने वाले समय में सुरक्षा, हेल्थ और एजुकेशन” की तरफ ध्यान देगी। उन्होंने कहा आज से सोशल सिक्योरिटी की ओर काम करेंगे। स्वास्थ्य को लेकर जागरूकता बहुत बढ़ गयी है। आयुष्मान शुरू हो गयी है। हेल्थ ओर शिक्षा पर 5 साल काम करेंगे। विदेशों में भी यही मुद्दे हैं। इन पर हम काम करेंगे। पहले कार्यकर्ता को अपनी सोच में ये बदलाव लाना है फिर जनता में लाना है और इसे पूरा करने के लिए उन्होंने लिया है “मिशन 67” अर्थात दो-तिहाई सीट जीतने का लक्ष्य। उन्होंने कहा कि हम 90 सीट जीतने की बड़ी-बड़ी डींगेे नहीं हांकेंगे, मगर हम 67 सीटों का लक्ष्य लेकर चलेंगे।

चुनाव में मिली हार की बौखलाहट से विपक्ष अमर्यादित भाषा का कर रहा प्रयोग

इतना ही नहीं उन्होेंने ओमप्रकाश चौटाला द्वारा हाल में दिए अमर्यादित टिपण्णीं पर उन्हें आड़े हाथों लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकसभा चुनाव में मिली हार से विपक्ष की परेशानियां बढ़ गई हैं और उनके नेता बौखलाहट में अमर्यादित भाषा बोलने लगे हैं। आगे यह प्रथा और अधिक बढने की उम्मीद है। लेकिन हमारे संस्कार और शिक्षा यह नहीं हैं। कार्यकर्ताओं से मेरा निवेदन है कि हमें संयम से काम लेना है और अपने मुख से कोई गलत बात नहीं कहनी है। कार्यकर्ता पार्टी की बात और संस्कारों का यह संदेश जनता तक पहुंचाएं। जनता भी इसका समर्थन करेगी, क्योंकि जनता कभी भी अमर्यादित भाषा को स्वीकार नहीं करती।

स्वार्थ की राजनीति करने वाला विपक्ष आज धराशाही : ओमप्रकाश धनखड़

कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि जिन राजनीतिक दलों ने स्वार्थ के आधार पर राजनीतिक रियासतें खड़ी की थी, वे इस चुनाव में धराशायी होती हुई नजर आई। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव हरियाणा विधानसभा चुनाव का सेमीफाईनल था। अक्तूबर में होने वाले विधानसभा चुनाव के फाइनल मुकाबले में भी पन्ना प्रमुखों व कार्यकर्ताओं ने एकसाथ एकजुटता से काम करना है।

यह चौधरियों की नहीं, चौकीदारों की सरकार है : वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु

हरियाणा के वित्त एवं राजस्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि भारत की 130 करोड़ जनता ने लोकसभा चुनाव में भाषा, क्षेत्र, जाति आदि के भेदभाव से ऊपर उठकर राष्ट्र विकास एवं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम पर वोट दिए। उन्होंने कहा कि हरियाणा प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में भिन्न-भिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने अपने-अपने क्षेत्र में चौधर लाने की बात कहकर मतदाताओं को बहकाने की कोशिश की, परन्तु मतदाताओं ने उन्हें नकार दिया। यह चौधरियों की नहीं, चौकीदारों की सरकार है जो देश की रक्षा करने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि आने वाले 140 दिन हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। हमेंं जनता के बीच यह संदेश लेकर जाना है कि भारतीय जनता पार्टी जात-पात, क्षेत्रवाद से ऊपर उठ कर जनकल्याण की नीति पर काम करने वाली पार्टी है। प्रदेश के 2.6 करोड़ लोगों तक यह संदेश भी पंहुचाना है कि राजनीति में अब जात-पात, वंशवाद व क्षेत्रवाद का कोई स्थान नहीं है। जनता ने राजपरिवारों व राजवंशों व वंशतंत्र को नकार कर लोकतंत्र को मजबूत किया है। उन्होंने कार्यकर्ताओं को नारा दिया कि दिल्ली हुई हमारी है, अब चंडीगढ़ की बारी है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close