टुडे न्यूज़हिसार

एडीसी ने योग में हरियाणा को सम्मान दिलाने वाले बच्चों व उनके अभिभावकों को किया सम्मानित

पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्यरत ब्यूरो चीफ को भी सम्मानित किया गया 

हिसार टुडे  

अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान ने आज बाल भवन में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय स्तर पर हरियाणा का नाम रोशन करने वाले बच्चों व उनके अभिभावकों को सम्मानित किया। योग दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित वीर जीजाबाई माता एवं महर्षि नारद पुरस्कार सम्मान समारोह के दौरान पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्यरत ब्यूरो चीफ को भी सम्मानित किया गया। इस अवसर पर बाल भवन व अन्य स्कूलों के विद्यार्थियों ने रंगा रंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान ने कहा कि हमें ऐसे बच्चों पर गर्व है जिन्होंने योग के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए न केवल हिसार बल्कि हरियाणा प्रदेश का नाम राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय  स्तर पर रोशन किया है। उन्होंने कहा कि योग भारत की ऐसी प्राचीन विरासत है जिसे संयुक्त राष्ट्र ने पहचान देते हुए इसके उपलक्ष्य में हर वर्ष 21 जून को अंतराष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन शुरू किया है। योग ऐसी विधा है जिसे अपनाकर व्यक्ति न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक समस्याओं से भी बचा रह सकता है। हर व्यक्ति को अपने जीवन में योग को अपनाते हुए नियमित रूप से इसका अभ्यास करना चाहिए।

उन्होंने योग के क्षेत्र में सम्मान प्राप्त करने वाले बच्चों के अभिभावकों, विशेषकर उनकी माताओं की सराहना की जिनका सहयोग इन बच्चों की उपलब्धियों का आधार रहा है। उन्होंने कहा कि बाल भवन यहां आने वाले हर बच्चे की प्रतिभा को निखारने का बेहतरीन रंगमंच है। बच्चों को अपनी प्रतिभा निखारने के लिए अपने खाली समय का सदुपयोग ऐसी गतिविधियों में करना चाहिए जो उनका सर्वांगीण विकास कर सकें। उन्होंने बाल भवन के अधिकारियों से कहा कि वे अपने कार्यक्षेत्र का और अधिक विस्तार करें ताकि अधिक बच्चों को इनसे लाभांवित होने का मौका मिले।

जिला बाल कल्याण अधिकारी विनोद कुमार ने कहा कि बाल भवन द्वारा आमजन व बच्चों को योग के प्रति आकर्षित करने के लिए जिला बाल कल्याण परिषद के माध्यम से प्रतिवर्ष योग दिवस सम्मान समारोह आयोजित किया जाता है। इसमें योग के प्रतिभाशाली बच्चों के साथ-साथ उनकी माताओं को भी सम्मानित किया जाता है ताकि इनसे दूसरी माताएं भी प्रेरणा प्राप्त कर सकें।

उन्होंने बाल भवन की गतिविधियों की जानकारी देते हुए बताया कि यहां 21 प्रकार के कार्यक्रम बच्चों के विकास के लिए चलाए जाते हैं। यहां से हुनर सीखकर बच्चे राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतते हैं। बाल भवन में चलाए जा रहे स्टेनोग्राफी के कोर्स में 15 सीटें हैं और यहां से यह कोर्स करने वाले सभी बच्चे आज सरकारी नौकरियों में हैं।

बाल भवन के माध्यम से इस वर्ष 5 अभिभावकहीन बच्चों में से 3 बच्चे विदेशियों द्वारा जबकि 2 बच्चे भारतीय नागरिकों द्वारा गोद लिए गए हैं। यहां कामकाजी अभिभावकों के बच्चों के लिए भी कक्षाएं आयोजित की जाती हैं। कार्यक्रम में मंडल बाल कल्याण अधिकारी कमलेश चाहर, जिला बाल कल्याण परिषद के सदस्य गुगन राम गोदारा, डॉ. कुलदीप कुमार सत्यवती, सुभाष कुमार सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति, अभिभावक व बाल भवन के कर्मचारी भी मौजूद थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close