टुडे न्यूज़हिसार

केन्द्र सरकार को अपने वायदे के अनुसार जम्मू कश्मीर में जल्द ही धारा 370 खत्म करनी चाहिए: बजरंग गर्ग

अखिल भारतीय व्यापार मण्डल के राष्ट्रीय महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मण्डल के प्रान्तीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि केन्द्र सरकार लोक सभा चुनाव में किए गए वायदों को पूरा करे |

हिसार टुडे।

हिसार – अखिल भारतीय व्यापार मण्डल के राष्ट्रीय महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मण्डल के प्रान्तीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि केन्द्र सरकार लोक सभा चुनाव में किए गए वायदों को पूरा करे। लोक सभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने, अयोध्या में श्री भगवान राम चन्द्र जी का मन्दिर बनाने, जीएसटी में 28 प्रतिशत टैक्स का सलेब खत्म करने व जीएसटी में पूरी तरह सरलीकरण करने का जो वायदा किया था उसे सरकार जल्द पूरा करे।

राष्ट्रीय महासचिव बजरंगगर्ग ने कहा कि जम्मू कश्मीर भारत देश का हिस्सा है। जम्मू कश्मीर में धारा 370 खत्म होने पर जम्मू कश्मीर में बड़े उद्योगों की स्थापना होगी और लाखों बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा। जम्मू कश्मीर में व्यापार व उद्योग बढ़ने से खुशीयाली आएगी और अमन शान्ति बनेगी। राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा जम्मू कश्मीर में आतंकवाद के बढ़ने का मुख्य कारण बेरोजगारी है, अगर जम्मू कश्मीर में हर व्यक्ति को रोजगार मिल जाएगा तो आतंकवाद की समस्या का भी पूरी तरह हल हो जाऐगा।

राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा कि केन्द्र सरकार ने जीएसटी के तहत अनाप-शनाप टैक्सों में बढ़ोतरी करके और टैक्स फ्री वस्तुओं पर टैक्स लगाकर देश का व्यापार ठप्प करने के साथ-साथ आम जनता की जेबों में ढ़ाका डाला है। केन्द्र सरकार जीएसटी में 28 व 18 प्रतिशत का सलेब खत्म करके टैक्स की दर अधिकतम 15 प्रतिशत तक करनी चाहिए और कपड़ा, चिन्नी, धूप, अगरबत्ती, खेती में उपयोग आने वाली दवाईयाँ व खाद आदि वस्तुऐं जो आम जरूरत की हैं, जिस पर पहले भी टैक्स नहीं था, उन वस्तुओं पर जीएसटी नहीं लगना चाहिए। जीएसटी में सरलीकरण होने से देश व प्रदेश में व्यापार व उद्योग बढ़ेगा और लाखों बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा। जीएसटी में सरलीकरण होने से केन्द्र व राज्यों की सरकारों को भी पहले से ज्यादा टैक्स की प्राप्ति होगी।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close