ताजा खबरब्रेकिंग न्यूज़हिसार

एक साल से सो रहा विभाग, सड़क निर्माण में PWD विभाग को अभी भी मुहूर्त का इंतजार!

हाल -ए -शहर : पार्ट 5 - विभाग हरियाली को कर रहे बर्बाद,पौधों पर डाल रहे मलबा

इस ढुलमूल कार्य के चलते मानसून तक भी नहीं होगा काम | जनता नारकीय यातना झेलने को मजबूर 

 हिसार टुडे।  पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट के कार्य की कितनी ही तारीफ करें वो कम है। शहर में सड़कों के धसने की घटना ने शायद उनके बेहतरीन कार्य का प्रमाण दे दिया होगा। मगर इस बार विवादों के घेरे में िघरा है “पीडब्लूडी विभाग”। राजगढ़ रोड़ स्थित नगर निगम से लेकर आजाद नगर तक पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट द्वारा सीवर लाइन डालने के लिए सड़कों की खुदाई की गयी थी। इस कार्य के लिए ठेकेदार ने सड़क को उखाड़ दिया था। मगर इस काम को पूरा हुए एक साल होने के बावजूद आज तक इस सड़क का सही प्रकार से पैच वर्क नहीं किया गया। पहले यह सड़क नेशनल हाईवे के अंतर्गत आती थी। मगर अब यह काम पीडब्लूडी के अंतर्गत आता है। माना जाता है कि पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट ने खुदाई का काम कर के रास्ते एक साल से ऐसे ही छोड़ दिए मगर इस आधे अधूरे कार्यों के कारण आम जनता को मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। दरहसल सड़क के साथ लाइन डालने के बाद कहीं इसमें मिट्टी भर दी और कहीं यूं ही छोड़ दिया गया। जिसके चलते जगह-जगह गड्ढे हैं और बारिश में इन्हीं गड्ढों में दलदल बन जाती है जिसमें वाहन फंस जाते हैं। इस वजह से दुकानदार भी भारी परेशािनयों का सामना करना पड़ता है। मानसून का समय भी नजदीक आ रहा है, आजाद नगर के नागरिकों के साथ व्यापारियों को इस बात का डर है कि अगर सड़क बनाने का काम सही समय पर नहीं किया गया तो हो सकता है बरसात में उन्हें बहुत मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा।

व्यापारियों का आरोप है कि कुछ समय पूर्व शहर में जब बरसात आयी थी तब काफी गाड़ियां ऐसी ही नव निर्मित सड़कों पर धंस गई थी, मिट्ठी के कारण फिसलना और जल भराव से यहां के नागरिकों की हालत नारकीय यातना से कम नहीं थी। हैरत की बात है कि आजाद नगर व्यापार मंडल का आरोप है कि केवल आयुक्त के आवास के यहां पैच वर्क का काम करवाया गया है जबकि बाकी रास्ते ऐसे ही छोड़ दिए गए हैं। व्यापारियों का आरोप है कि आज इन कार्यों को हुए एक साल हो गया है मगर वह अब भी इस मुहूर्त का इंतजार कर रहे हैं कि आखिर कब इस रोड़ का कार्य सही प्रकार से करवाया जाएगा।

बता दें कि रोड़ उखाड़ी जाने से पहले ही पब्लिक हेल्थ ने बीएंडआर डिपार्टमेंट में सड़क बनाने के लिए पूरा पैसा जून 2018 में जमा करा दिया था जिसका बिल नंबर 4281 है। मगर पीडब्लूडी विभाग इंतजार कर रहा है कि जब तक उन्हें इस बात की लिखित में जानकारी नहीं आ जाती की क्या पूरा पेमेंट किया गया है या नहीं, जब तक इसकी जानकारी नहीं मिल जाती तब तक इस कार्य को शुरू करने में अभी जनता को शुभ मुहर्त का इंतजार करना पड़ेगा। अर्थात अभी लम्बा समय और लगेगा।

एक साल से आजाद नगर को लावारिस छोड़ दिया विभाग ने

बता दें कि सोमबीर श्योराण ने आरोप लगाया कि वह एक साल से समस्या झेल रहे हैं। गाड़िया फस जाती है, ग्राहक दुकान में नहीं आ सकते। इतना ही नहीं कुछ समय पूर्व हुई बरसात में न केवल यहां जलजमाव की स्थिति बनी हुई थी, बल्कि वाहन भी फंस गए थे, काफी दुर्घटनायें भी घटी थी। उन्होंने कहा कि इस मार्ग की खुदाई के काम से इसकी चौड़ाई कम हो गयी है। एक तरफ सड़क में राजस्थान के भारी भरकम वाहनों के अलावा, लोकल वाहनो का अक्सर आवागमन होता है। इतना ही नहीं इसी सड़क के पास सब्जी मंडी के कारण शाम को और दुर्घटनाओं का डर सताता रहता है। इतना ही नहीं अब मानसून के पहले काम नहीं हुआ तो स्थिति और विकट हो जाएगी। उन्होंने कहा कि एक तरफ जहां अधिकारियों का घर है वहां काम करवा दिया गया, जबकि आजाद नगर के इलाके को ऐसे ही एक साल से अपनी अवस्था पर छोड़ दिया है, जो बेहद दुर्भाग्यपूयर्ण है। – सोमबीर श्योराण (प्रधान, आजाद नगर व्यापार मंडल)

मलबा हरियाली को लगा रहा ग्रहण

बता दें पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट या पीडब्लूडी इन दोनों विभाग ने आयुक्त के आवास के सामने पैच वर्क का काम करवाया है। मगर रोेड़ की खुदाई के बाद मलबा और डेब्रिस रखने के लिए उन्हें सिर्फ हरे भरे छोटे पौधेे और पेेड़ के करीब का स्थान और डिवाडर मिला। ये बेहद शर्मनाक बात है कि एक तरफ हरियाली की दुहाई देने वाली केंद्र और राज्य सरकार वृक्षारोपण पर जोर देती है, मगर उस ही विभाग को सड़कों का डेब्रिस डालने के लिए पेड़-पौधे ही मिले हैं। अफसोस कि आयुक्त के आवास के ठीक सामने है, मगर आंख बंद करके रहने वालों को इसकी क्या परवाह। हरियाली और वृक्षों को कौन पूछता है। नेताओं को साथ लेकर चल सकते हैं। लिहाजा उन्हें प्रधान पद सौंप दिया जाए।

   हर रोज निकालते हैं मिटटी में फंसी गाड़ियों को
नितिन गोयल ने आरोप लगाया कि उन्होंने कई बार खुद कितने वाहनों  को मिटी में धंसे होने के बाद खुद अपने हाथ से निकाला। उन्होंने पीडब्लूडी से मांग कि कि कृपया कर वह जनता की आवाज़ सुन कर 1 साल से रुके पड़े कार्यों को पूरा करवाने का काम करे। उन्होंने कहा कि यहां कि स्थिति को देखकर लगता है कि जैसे किसी गांव या देहात में आ गए हैं। जहां विकास नाम की कोई चीज नहीं है। उन्होंने कहा कि विभाग नींद से जागे और कार्य को जल्द से जल्द अंजाम दे। नितिन गोयल (निवासी)
मानसून में हो जाएगी नरक भरी जिंदगी

जगदीश पुनिया का आरोप था कि जब बिल दे दिया गया है तो आखिर पीडब्लूडी किस मुहूर्त का इंतजार कर रहा है? उन्होंने कहा कि सड़क की अवस्था खुद देख लंे क्या है। उन्होंने कहा कि अब मानसून में देखना कितनी नरक भरी जिंदगी हो जाएगी, यहां के नागरिक और व्यापारियों की। फिर भी प्रशासन सुन्न सा बैठा है। – जगदीश पुनिया (महासचिव , आज़ाद नगर व्यापर मंडल)

पेमेंट कन्फर्मेशन के पत्र का कर रहे इंतजार

हमारे पास यह विभाग अभी आया है, हमने आयुक्त या छात्रावास के पास अप्रोच वर्क में पैच वर्क का कार्य इसलिए करवाया ताकि वहां प्रवासियों और वाहन चालकों को दिक्कत न आये। हमने नेशनल हाइवे को इस बाबत पत्र लिखा है कि वह यह बताये कि पेमेंट हुआ है या नहीं। जैसे ही कन्फर्म होगा, एस्टीमेट बनाया जायेगा। उसको सरकार से मंजूर करवाने के बाद टेंडर लगाया जायेगा और फिर कार्य होगा। –राजकुमार (जेई, पीडब्लूडी)

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close