हिसार

सोसायटी घोटाले में सी.एम. विंडो की जांच पर शिकायतकर्ता ने उठाए सवाल

Hisar Today

सैनियान मोहल्ला निवासी सुरेश कुमार ने दि हिसार डिस्ट्रिक एवरग्रीन सोसायटी एसईटीसी एंड एनएटीसी गबन मामले में सी.एम. विंडो में दी शिकायत में सी.एम. विंडो की वेब साइट पर गुमराह करने वाली रिपोर्ट डालने व ढुलमुल कार्यवाही करने का आरोप लगाया है। सुरेश कुमार ने बताया कि उन्होंने एवरग्रीन सोसायटी गबन के मामले में सोसायटी के खिलाफ जांच के आदेश दिए थे क्योंकि सोसायटी संचालक द्वारा सोसायटी के खाते में नाममात्र की राशि दर्शाई गई है जबकि उसके खाते में करोड़ों रुपये थे जिससे सोसायटी संचालक ने इस मामले में करोड़ों रुपये का गबन किया है और विभाग की कार्यवाही भी संदेह के घेरे में है। इस संबंध उन्होंने 4 सितंबर को सी.एम. विंडो में एक शिकायत देकर कार्यवाही की मांग की थी।

सुरेश कुमार ने बताया कि वे लगातार इसका ऑनलाइन स्टेटस चैक कर रहे थे तब उन्होंने उनकी शिकायत संख्या सीएम ऑफ/एन/2018/104854 पर जब ऑनलाईन स्टेटस चैक किया तो पहले इस शिकायत को जांच के लिए सोसायटी के डी.आर. (डिप्टी रजिस्ट्रार)के पास दर्शाया गया फिर सोसायटी ए.आर. (सहायक रजिस्ट्रार) के पास दिखाया गया लेकिन बाद में बिना उनकी कार्यवाही रिपोर्ट के डी.आर. (डिप्टी रजिस्ट्रार) व ए.आर.(सहायक रजिस्ट्रार) को बीच में से हटाकर इस शिकायत को सीधे एस.पी. के पास दर्शा दिया गया जबकि असल में शिकायत पर कार्यवाही व इसकी जांच सोसायटी डी.आर व ए.आर. द्वारा की जानी थी जिन्होंने सी.एम. विंडो की शिकायत पर कार्यवाही संबंधी कोई रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं की और खुद को बीच में से हटाते हुए सीधे एस.पी. के पास उक्त शिकायत को भेज दिया।

शिकायतकर्ता सुरेश कुमार ने आरोप लगाते हुए हिसार में सोसायटीज को लेकर करोड़ों का घोटाला हुआ है लेकिन सरकार व प्रशासन इसके प्रति गंभीर नहीं हैं और लोगों की खून-पसीने की गाढ़ी कमाई को सोसायटी संचालक सहकारिता विभाग से मिलीभगत करके हड़पना चाह रहे हैं क्योंकि इस मामले में सहकारिता विभाग की जिम्मेवारी बनती है कि वह लोगों को उनका पैसा दिलवाए लेकिन विभाग के अधिकारी व सरकार इसे गंभीरता से नहीं ले रहे। सी.एम. विंडो में शिकायत के बावजूद विभाग के अधिकारी इससे बचने के प्रयास कर रहे हैं जिससे लगता है कि यह सारा मामला आपसी मिलीभगत से चल रहा है।

सुरेश कुमार ने मांग की कि इतने बड़े सोसायटी घोटाले को सहकारिता विभाग व प्रशासन हल्के में न ले और इसकी सही जांच करवाए ताकि करोड़ों रुपये का घोटाला लोगों के सामने आ सके और सोसायटी में निवेश करने वाले उपभोक्ताओं को उनका पैसा मिल सके। वहीं उन्होंने कहा कि एक वर्ष से पुलिस विभाग इस मामले की जांच कर रहा है लेकिन अभी तक इस मामले में परिणाम शून्य है जबकि सोसायटी के खिलाफ कोर्ट के माध्मय से 5 केस दर्ज हैं। उन्होंने पुलिस की कार्यवाही पर रोष प्रकट करते हुए कहा कि पुलिस इस मामले में आरोपियों पर कार्यवाही तेज कर सोसायटी पीडि़तों को उनका पैसा जल्द से जल्द दिलवाए।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close