हिसार

“विकास नहीं विनाश”, बरवाला नगरपालिका अध्यक्षा के वार्ड में सफाई व्यस्था शर्मनाक !

कुलदीप सोनी, Hisar Today News

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने हाल में बरवाला में जनसभा के दौरान बरवाला शहर में अधिक से अधिक विकास करवाने का आदेश देते हुए लाखो रूपए स्का ग्रांट देने की घोषणा की थी। उन्होंने दावा किया था की बरवाला की शक्ल और सूरत बदल जाएगी। परन्तु उनके इन वादों की कलई खुद बरवाला वार्ड क्रमांक १ खोल रहा है। बरवाला नगरपालिका अध्यक्षा प्रोमिला बादल जिनपर पुरे बरवाला शहर के विभागों की साफ़ सफाई व अन्य समस्या सुलझाने की जिम्मेदारी है। आज उनके ही विभाग की दुर्दशा, साफ़सफ़ाई में ढिलाई , सीवरेज की समस्या उनके अकार्यक्षमता को खुद ब खुद बयान कर रही है। यह बेहद शर्मनाक है की वार्ड की पार्षद और नगरपालिका की अध्यक्षा होने के बावजूद कई महीनो से उनके वार्ड में सीवरेज और सफाई की समस्या लोगो को परेशान और बीमार कर रहे है।

बरवाला में पिछले काफी समय से सफाई व्यवस्था ,सीवरेज की समस्या व नालियों की साफ़ सफाई को लेकर यहां के नागरिक बेहद परेशान है। आज हम आपको बरवाला नगरपालिका के अधीन आने वाले वार्ड नंबर 1 के हालत दिखाएंगे जो आज अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है। वैसे तो बरवाला शहर में 19 नगर पालिका के वार्ड शामिल हैं, किंतु दौलतपुर रोड से शुरू होकर सड़क के एक तरफ वार्ड क्रमांक एक शुरू होता है। वह सड़क के दूसरी तरफ 19 नंबर वार्ड आता है। आलम आज यह है की अधिकांश समय सड़क के किनारे बने नालों में गंदगी फसने के कारण उसका गन्दा पानी ओवरफ्लो होकर दोलतपुर रोड पर हमेशा जमा रहता है। इतना ही नहीं वार्ड नंबर 1 की गलियों में नाली निकासी न होने के कारण नालियों का पानी भी रस्ते में पसरा रहता है। गंदा व बदबूदार पानी घरो के सामने हमेशा जमा रहने के कारण निवासियों को इस गंदे पानी में से ही होकर गुजरना पड़ता है।

काफी महीनो से चली आ रही इस समस्या को लेकर यहां के नागरिक बेहद परेशान हैं। उन्होंने अनेकों बार संबंधित विभागों और अपने पार्षद को भी इस गंभीर समस्या से अवगत करवाया। मगर नतीजा शून्य रहा। समस्या का कोई समाधान ना होता देख वार्ड वासियों में भारी आक्रोश देखने को मिल रहा है। रहवासियों का आरोप है की विभाग की सही प्रकार से सफाई ना होने और मौके से पूरा कचरा ना उठाये जाने से वार्ड की गिनती अस्वच्छ विभाग के तौर पर हो गयी है। देखने वाला बाहरी व्यक्ति भी ताना देकर जाता है की “जिस विभाग की पार्षद नगरपालिका अध्यक्षा है , उस वार्ड की यह दुर्दशा है तो बाकी का क्या होगा “? विभाग की इस दुर्दशा को देखते हुए गुस्साए निवासियों ने कहा “इससे अच्छा तो पूर्व पार्षद स्वर्गीय श्री मांगेराम बाल्मीकि एवं पार्षद बबीता ही थे, जो हर समस्या होने पर वार्ड वासियों के साथ खड़े होते थे।

” नागरिको का आरोप था की यहाँ की पार्षद खुद नगरपालिका की चेयरमैन है , फिर भी हमारी समस्याओं की तरफ कोई गौर नहीं करता और वह बड़े परेशान हैं। गंदे पानी के कारण वार्ड में मच्छरों के प्रकोप से मलेरिया और डेंगू जैसी बिमारी बढ़ गयी है। नागरिको ने टोहाना रोड पर बने दो मैरिज पैलेस भी इसी वार्ड की सीमा में है उनका सारा गंदगी वाला पानी भी इसी वर्ल्ड की नालियों में से होकर लोगों के घरों से गुजरता है इसलिए उन मैरिज पैलेसों का गंदे पानी का निकास को सड़क से दूसरी तरफ करवाया जाए और दोलतपुर रोड पर स्थित जर्जर पुलिया के भरोसे ना रहकर दूसरी तरफ बने नाले में गन्दा पानी डलवाया जाए ताकि यहां पर गंदगी और जलभराव से छुटकारा मिल सके। इस कार्य का प्रस्ताव अनेकों बार स्थानीय निवासियों ने संबंधित विभाग के अधिकारियों ,सत्ता पक्ष के नेताओं को भी रूबरू करवाया। किंतु आज तक स्थिति ज्यों की त्यों है। भले ही चेयरमैन व सत्ता पक्ष के लोग बरवाला में इस वार्ड के लिए विकास के लाखों दावे कर रहे हो लेकिन विकास के दावे खोखले साबित हुए है। लोगों का मानना है कि विनाश हुआ है विकास नहीं। बरवाला नगरपालिका अध्यक्षा प्रोमिला बादल ने अपनी सफाई देते हुए कहा की हमें सरकार से ग्रांट मिल गयी है , जल्द ही साफ सफाई पर विशेष जोर देकर एक सप्ताह में वार्ड की शक्ल सूरत बदल दी जाएगी।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close