माइ ड्रीम सिटीहिसार

लड़कियों को मिलने लगी है पढ़ने-लिखने की आजादी

अनिता सांगवान गृहिणी

Hisar Today

हिसार शहर के बारे में जितना कहूं उतना ही कम है, हिसार शहर हमारे सपनों का शहर है हम करीब 12 वर्ष इस शहर में रह रहे हैं। इस शहर के निवासी बहुत अच्छे व मदद करने वाले हैं। पहले जहां सोच रुढिवादी थी वहीं अब बदलते समय के समय के साथ हिसारवासियों की सोच बदली है। पहले जहां लड़कियों के पढ़ने-लिखने व घर से बाहर जाकर काम करने पर हजारों पाबंदियां थी। वहीं अब यह सोच बदलने लगी है लड़कियों को पढ़ने व नौकरी करने की आजादी मिलने लगी है। अब समाज की सोच में सकारात्मक बदलाव आया है। सुरक्षा व्यवस्था भी पहले से अच्छी हुई है। दुर्गावाहिनी बनने के बाद लड़कियां निडर होकर देर शाम तक िबना भय के कोचिंग क्लासिज व नौकरी कर सकती हैं।

पहले जहां लड़कियों को परिवार वाले घर से बाहर पढ़ने नहीं भेजते थे व घर की चारदीवारी तक सीमित खते थे, लेकिन अब किसी को डर नहीं है। सरकार ने लड़कियों की सुरक्षा के लिए दुर्गा एप लांच किया है यह भी बहुत मददगार साबित हो रहा है।हिसार में पहले की बजाय अब साफ-सफाई पर ध्यान दिया जाने लगा है। ओवरब्रिज के नीचे बहुत अच्छी-अच्छी पेंटिंग बनाई गई हैं जिसे देखकर अच्छा लगता है। हर चौराहे पर ट्रैफिक पुलिस वाले तैनात रहते हैं, जो दुर्घटना रोकने में काफी सहायक होते हैं। सुबह-सुबह जब उठते हैं तो नगर निगम के कर्मचारी सफाई करते नजर आते हैं व घरेलू कचरा लेने के लिए भी गाड़ी आ जाती है। जो मौहल्ले व सेक्टर को साफ रखने में बड़े मददगार साबित हो रहे हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close