टुडे न्यूज़हिसार

बस माफियाओं को पनाह देने वाले दोषी आरटीए अधिकारियों पर होगी सख्त कार्यवाई : परिवहन मंत्री

सरकार और आरटीए की सांठगांठ से हरियाणा में पसर रहा है बस माफियाओं का जाल

Today News | हिसार

हरियाणा की भाजपा सरकार में बैठे परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार यह कहते नहीं थकते कि रोडवेज के कारण सरकार को भारी घाटे का सामना करना पड़ रहा हैं। वह इस घाटे के लिए सीधे तौर पर रोडवेज पर जिम्मेदारी थोप रहे है, जबकि इस घाटे की असली हकीकत हरियाणा की सड़कों पर बिना परमिट घूमती अवैध बसें हैं। जब हरियाणा में भाजपा की नई-नई सरकार बनी तब बड़े जोशोखरोश के साथ परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार ने अवैध तौर पर सड़कों पर चलने वाली अवैध बसों के खिलाफ खुद कार्यवाई की थी। मगर समय बीता और यह मुद्दा ठन्डे बस्ते में चला गया। तब नया-नया जोश था, मगर अब इतने साल सत्ता की कुर्सी में बैठने के बाद आज वह इन अवैध बसों का मुद्दा ही भूल गए हैं।

हरियाणा में अवैध बस माफिया ऐसे पसर चुके हैं कि राजस्थान, पंजाब और दिल्ली से बसें सीधे हरियाणा की सरहद के अंदर घूमकर न केवल बिना परमिट अवैध कारोबार कर रहे हैं, बल्कि वह अपनी बसों को हरियाणा रोडवेज की बसों की भांति रंगकर प्रवासियों को धोखा देकर मुनाफा कमा रहे हैं। इन बस माफियाओं का रोडवेज के अंदर तक ऐसा जाल पसरा हुआ है कि इन माफियाओं को पता रहता है रोडवेज की कौन सी बस कितने बजे और कहां आएगी। इन बसों की समय सारणी की जानकारी होने के कारण वह रोडवेज बसों के आगमन अपनी बसे लेकर पहुंच जाते हैं। जिसके चलते एक ही रंग की बस होने के कारण लोग गलती से उनकी बसों में चढ़ जाते हैं। इस बात की जानकारी कई बार हरियाणा रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी के वरिष्ठ सदस्य दलबीर किरमारा ने हिसार टुडे को दी।

दलबीर किरमारा का आरोप है कि इन “बस माफिया” की पहुंच और ताकत इतनी है की उनकी पैठ सीधे सरकार तक हैं। इन माफियाओं की सरकार और आरटीए के साथ ऐसी साठगांठ है कि हरियाणा में तकरीबन 2 से 2500 हज़ार बिना परमिट अवैध बसे सड़कों पर खुलेआम दौड़ रही है और उन्हें रोकने वाला कोई नहीं। आज हिसार-जोधपुर, हिसार-जयपुर, शिमला, सिरसा-हरिद्वार, सिरसा-दिल्ली, धौला कुंआ-जयपुर जैसी जगहों पर जाने वाली अनेकों बसें सरकार और जनता को चुना लगाकर ठगने का काम कर रही हैं। इन बसों के रंगो से दुविधा में पड़े मुसाफिर बसों में बैठ जाते हैं और फिर यहीं बस के चालक बीच सड़क में गुंडागर्दी करके बीच सड़क में मुसाफिरों से मनमाने पैसे मांग कर ठगने का काम कर काली कमाई करते हैं और सरकार को घाटा पहुंचाने का काम कर रहे हैं।

किरमारा का आरोप है कि इन अवैध बस माफियाओं की इतनी हिम्मत इसलिए हुई है क्योंकि उनका और आरटीओ में बाकायदा रेट फिक्स हैं। अगर ऐसा न होता तो यह बसे जरूर पकड़ी जाती। मगर इक्का-दुक्का कार्यवाई के अलावा और कुछ नहीं होता। इसीलिए आज हरियाणा में ऐसी बिना परमिट बसे, हरियाणा रोडवेज के बसों के भांति पेंट कर बसे बड़ी तादात में सड़कों पर दौड़ रही है। ऑल हरियाणा रोडवेज वर्कर्स यूनियन के डिपो चेयरमैन विनोद शर्मा का कहना है कि रोडवेज प्रशासन को कई बार इन अवैध बसों के बारे में अवगत कराया गया है। इस संबंध में आरटीए को कार्रवाई करनी चाहिए, मगर उनके द्वारा ऐसी कोई कार्यवाई होती नहीं दिखी।

गौरतलब है कि इन बसों की एंट्री के लिए आरटीए में रेट भी फिक्स होने के आरोप लगाए जा रहे हैं। सूत्रों का मानना है कि राजस्थान बॉर्डर से हरियाणा के हिसार में एंट्री करने का शुल्क तकरीबन 1700 रुपये है। जबकि हरियाणा के अन्य इलाकों में जाने के लिए रेट अलग-अलग है। हालाँंकि हरियाणा के परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार का कहना है कि उन्होंने ऐसे माफियाओं के खिलाफ कार्यवाई के आदेश आरटीए को जारी किए हैं। ऐसे में अगर इनमें आरटीए के मिलीभगत के आरोप पाए गए तो उनपर कड़ी से कड़ी कार्यवाई की जाएगी।

फलफूल रहा अवैध बस माफियाओं का जाल

दलबीर किरमारा, हरियाणा रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी के वरिष्ठ सदस्य
दलबीर किरमारा,  हरियाणा रोडवेज कर्मचारी 

आज हरियाणा में तकरीबन 2500 हज़ार बिना परमिट अवैध बसें चल रही हैं। इनमें से अधिकतर अवैध बसें ऐसी हैं जो धोला कुआं-जयपुर रूट में हरियाणा रोडवेज की बसों की भांति पेंट करवाकर चल रही हैं। मगर उनपर कोई ठोस कार्यवाई कि जुर्रत आरटीए नहीं दिखा रहा। मेरा तो कहना है कि आज परिवहन विभाग के उच्चाधिकारी निजीकरण का विरोध कर रहे रोडवेज कर्मचारियों की आवाज को वह दबाने में जितनी ताकत लगा रहे हैं, अगर उतनी ताकत वह प्रदेश भर में अंतरजिला व अंतरराज्यीय मार्गों पर प्राइवेट बसों के अवैध संचालन पर अंकुश लगाने और ऐसे माफियाओं को रोकने में लगाएं तो रोडवेज विभाग को घाटे से बचाया जा सकता है। इन लोगों की  सरकार और आरटीए अधिकारियों से आपसी साठगांठ हैं, रेट फिक्स हैं  इसलिए इन बसों पर कार्यवाई नहीं हो रही।

दोषी पाए गए आरटीए अधिकारियों पर होगी

कृष्ण लाल पंवार, परिवहन मंत्री, हरियाणा
कृष्ण लाल पंवार,    परिवहन मंत्री, हरियाणा

मैं इस बात से अवगत हूं। मैंने खुद कुछ समय पूर्व ऐसी ही अवैध बसों पर कार्यवाई करते हुए उनपर एक्शन लिया था। हमारी सरकार ने इस मुद्दे को बड़ी गंभीरता से लिए है और आरटीए पर कार्यवाई की जिम्मेदारी सौपी गई है। हमारे जहन में आया है कि इन बस माफियाओं के साथ आरटीए के मिलीभगत के आरोप हैं, अगर यह आरोप सही पाए गए तो अधिकारियों पर कठोर से कठोर कार्यवाई होगी। हम ऐसी बसों पर भी बेहद सख्त है जो हरियाणा रोडवेज कि बसों की भांति रंग पेंट करवाकर दौड़ती हैं। मैं अपील करूंगा उनके खिलाफ अगर मुझे कोई भी व्हाट्सप्प पर शिकायत दे तो उस शिकायत पर तुरंत एक्शन लिया जायेगा।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close