टुडे विशेषहिसार

असम की तर्ज पर हरियाणा में लागू होगा एनआरसी : मुख्यमंत्री खट्टर

परिवार पहचान पत्र पर तेजी से काम, आंकड़ों का उपयोग एनआरसी में भी होगा।

महेश मेहता| हिसार टुडे

राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर चल रहे विवादों के बीच हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने घोषणा की है कि असम की तरह उनके राज्‍य में भी एनआरसी लागू किया जाएगा। इसके अलावा हरियाणा में कानून आयोग के गठन करने पर भी विचार किया जा रहा है। समाज के प्रबुद्ध व्यक्तियों की सेवाएं लेने के लिए अलग से एक स्वैच्छिक विभाग का गठन किया जाएगा। भाजपा के महासंपर्क अभियान के तहत रविवार को हरियाणा राज्य मानवाधिकार आयोग के पूर्व चेयरमैन जस्टिस (सेवानिवृत्त) एचएस भल्ला के आवास पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री ने यह बातें कहीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार पहचान पत्र पर सरकार तेजी से काम कर रही है और इसके आंकड़ाें का उपयोग एनआरसी में भी किया जाएगा। गौरतलब बात है कि भाजपा सरकार द्वारा कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर सरकार की प्रशंसा करने वाले हरियाणा कांग्रेस विधायक दल के नेता एवं पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने दिल्ली में दुबारा इस निर्णय को लेकर सरकार के प्रति अपना सकारात्मक रुख दिखाया और कहा,‘एनआरसी कानून का हिस्सा है, विदेशी अवैध तरीके से भारत में नहीं रह सकते।’

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि परिवार पहचान पत्र पर हरियाणा सरकार तेजी से कार्य कर रही है और इसके आंकड़ों का उपयोग राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर में भी किया जाएगा। उन्होंने न्यायमूर्ति एचएस भल्ला के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा की कि रिटायर होने के बाद भी वह एनआरसी डाटा का अध्ययन करने के लिए असम के दौरे पर जा रहे हैं यह प्रशंसनीय है।

विधानसभा चुनाव के पहले एनआरसी पर हुड्डा ने किया मनोहर लाल का समर्थन

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने एक बार फिर कांग्रेस पार्टी की आधिकारिक लाइन के विपरीत एनआरसी (NRC) को लेकर हरियाणा की भाजपा सरकार के पक्ष में बयान दिया है। बता दें विधानसभा चुनाव से पहले ऐसा दूसरी बार हुआ है जब भूपेंद्र हुड्डा ने भाजपा सरकार के फैसलों का समर्थन किया हो। इसके पहले हुड्डा ने रोहतक की महा परिवर्तन रैली के दौरान कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने का फैसले की प्रशंसा की थी, जबकि कांग्रेस हमेशा इसका विरोध करती आई है। आपको यह भी बता दें मौजूदा हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने भी धारा 370 के विरोध में संसद में वोट किया था।

दरअसल, असम में नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस (NRC) को लेकर भले ही विवाद चल रहा है, लेकिन हरियाणा में सत्ताधारी दल भाजपा और मुख्य विपक्षी कांग्रेस के भूपेंद्र सिंह हुड्डा इस पर लगभग एकराय नजर आ रहे हैं। रविवार को सुबह मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने हरियाणा में एनआरसी लागू करने की बात कही तो शाम को कांग्रेस नेता और पूर्व सीएम हुड्डा ने भी इसका अप्रत्यक्ष तौर पर समर्थन किया।

हुड्डा ने मनोहर लाल खट्टर के बयान को लेकर कहा-
‘मुख्यमंत्री ने जो कहा है, वह कानून है। विदेशी लोगों को जाना होगा और उनकी पहचान करना सरकार की जिम्मेदारी है।’
– भूपेंद्र सिंह हुड्डा, विधायक दल नेता

मुख्यमंत्री ने कहा कानून हो गए है पुराने अब बदलने की है जरुरत

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ कानून बहुत पुराने हो गए हैं, उन्हें बदलने की भी आवश्यकता है। उदाहरण के लिए वन विभाग का पीएलपी एक्ट ऐसा है, जिसमें बदलाव जरुरी है। हरियाणा सरकार ने इसमें संशोधन भी किया है। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार अनुछेद 370 व धारा 15ए अखंड भारत के निर्माण में लगभग 70 व 72 वर्षों से अडचन बनी हुई थी, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सरकार के दूसरे कार्यकाल में संशोधित कर दिया है। पूरे भारत में इसकी प्रशंसा हो रही है। लेेफ्निेट जनरल बीएस जयसवाल ने मुख्यमंत्री को सुझाव दिया कि संविधान का अनुछेद 51 नागरिकों का देश के प्रति क्या कर्तव्य होना चाहिए इसकी व्याख्या देता है, परंतु कोई भी सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि संविधान हमें मौलिक अधिकारों के साथ-साथ क्या देश के प्रति हमारे कर्तव्य हैंं, इसकी भी जानकारी देता है। नागरिकों को अधिकारों की तरह अपने कर्तव्यों के प्रति भी संवेदनशील होना चाहिए।
उन्होंने कहा कि संघ के प्रचारक के रूप में उनमें तो देश सेवा, राष्ट्र सेवा व समाज सेवा सर्वोंपरी है और पिछले पांच वर्षों से प्रदेश के ढाई करोड़ लोगों को अपना परिवार मानकर उन्होंने निष्ठाभाव व पारदर्शी तरीके से कार्य किए हैंं।

हिन्दू-मुस्लिम में टकराव पैदा करना चाह रहे मुख्यमंत्री : दुष्यंत चौटाला

हरियाणा में असम की तर्ज पर एनआरसी लागू करने के हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के बयान पर जननायक जनता पार्टी नेता दुष्यंत चौटाला ने बड़ा बयान दिया है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि मुख्यमंत्री कहीं न कहीं प्रदेश में हिन्दू-मुस्लिम टकराव पैदा करना चाह रहे हैं। दुष्यंत चौटाला ने यह भी कहा कि एक प्रोपगेंडा के तहत प्रदेश में यह कदम उठाया जा रहा है, क्योंकि NRC का हरियाणा में कोई फर्क देखने को नहीं मिलेगा।

 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close