टुडे विशेषराजनीतिहरियाणाहिसार

सांसद बृजेन्द्र को लेनी चाहिए पूर्व सांसद दुष्यंत और दीपेंद्र हुड्‌डा से सीख, हर बार मोदी के नाम पर नहीं मिलेंगे वोट

क्या बृजेन्द्र भूल चुके हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिन्होंने देश की सफाई के लिए खुद हाथो में उठाया था झाड़ू। दीपेंद्र ने सांसद रहते जनता के किसी भी कार्य पर नहीं कहा कि यह मेरा काम नहीं।

हिसार टुडे ।अर्चना त्रिपाठी

नेतागिरी, यह शब्द ऐसा है जो एक तरफ घमंड में चूर नेताओं के हालत पर प्रकाश डालता है तो वहीं ठीक दूसरी तरफ जनता के प्रति अपनी जिम्मेदारी क्या होती है उससे जी चुराता है। इन दिनों हिसार में इसी नेतागिरी का नजारा देखने को मिल रहा है। दरअसल हांसी में आयोजित सत्कार समारोह में शिरकत करने पहुंचे हिसार के सांसद बृजेन्द्र सिंह अपने एक बयान के कारण चर्चा में आ चुके हैं। उन्होंने हांसी में उद्योगों की दुर्दशा और अस्वछता के सन्दर्भ में पत्रकारों के सवाल पर कहा कि वह मुद्दे उठा सकते हैं, मगर उसे क्रियान्वन करने का काम उनका नहीं। सवाल यह उठ खड़ा होता है कि आज के समय में किसी भी नेता के लिए ऐसे बयान देना क्या उचित है। क्या बृजेन्द्र के बयान का यह मतलब मान लिया जाए कि आईएएस की नौकरी छोड़ राजनीति में आये बृजेन्द्र का इतना भी पॉवर नहीं बचा जो जनता के कार्यों को अधिकारियों से करवानी की हिम्मत रखे।

बृजेन्द्र के बयान से आप जनता ही समझ सकती है कि यह आज के जमाने के ऐसे नेता है जिन्हे बखूबी पता है कि किसी भी मुद्दों से बच कर कैसे निकला जा सकता है। केंद्र इस्पात मंत्री बीरेंद्र सिंह के सपूत को उन नेताओं से सीख लेनी चाहिए, जिन्होंने कभी यह कहकर नागरिकों को अपने घर से नहीं भगाया कि यह उनका काम नहीं। उदाहरण के लिए बृजेन्द्र को कहीं दूर जाने की जरुरत नहीं। बृजेन्द्र शायद अपने पिता से सीख और राजनीति का अच्छा खासा अनुभव नहीं ले पाए, इसलिए उन्हें कम से कम जननायक जनता पार्टी के नेता दुष्यंत चौटाला से सीख लेनी चाहिए। दुष्यंत चौटाला हुए, कांग्रेस के सांसद दीपेंद्र हुड्डा हुए यह हरियाणा के वह युवा नेता हैं जिन्होंने कभी जनता के कार्यो को करवाने का वक़्त आया तो कभी यह नहीं कहा कि ठीक है आवाज उठा लूंगा, मगर कार्य को कार्यान्वन करवाना मेरा काम नहीं।

दुष्यंत जब हिसार के सांसद थे उनके द्वार से कभी कोई बिना कार्य करवाए वापस नहीं लौटा, उन्होंने मच्छरों से परेशान नागरिको को न केवल फवारणी की मशीन, बल्कि स्वच्छ पानी की व्यवस्था करवाई, शहर में राजगुरु क्षेत्र में पार्किंग का मसला हो या ढाणियों में पानी की व्यवस्था करवाना सब उन्होंने करने का न केवल काम किया

बल्कि उन्होंने 30 से भी अधिक पानी के टैंकर देकर पानी की समस्या से भी निजात दिलवाने का काम करवाया। हालांकि अभी लगता है बृजेन्द्र सिंह अपने नींद से जागे नहीं है। क्योंकि हिसार में दाखिले को लेकर चल रही समस्या, छात्रों का डीएमसी न मिलना, अब तक लोगो के नालो में सीवर का मटमैला पानी आना इस बात का सबुत है कि जिस भाजपा पार्टी के विकास की दुहाई देकर बृजेन्द्र सिंह ने वोट पाए शायद उन्हें अपने धन्यवादी दौरे से फुर्सत मिले तो जनता की वह सुध ले। यही कारण है कि इस बात को लेकर जब बृजेन्द्र की हर जगह से निंदा हो रही है तो उन्हें बुरा लग रहा है।

दुष्यंत चौटाला से ले सीख, एसी में बैठने वाले बृजेन्द्र सिंह

एक आईएएस अफसर रहे बृजेन्द्र का ज्यादातर समय एसी के बंद कमरों में बीता है, मगर राजनीति में आने के बाद शायद वह यह भूल गए हैं कि उनका एक बयान क्या कोहराम मचा सकता है। खैर यह सभी जानते हैं कि दुष्यंत चौटाला ऐसे सांसद रहे जिन्होंने अपने कार्यो के लिए अपनी खुद की ऐसी पहचान बनायीं कि उन्होंने छोटे से लेकर बड़े कार्य करवाने को लेकर कभी यह नहीं कहा कि यह सांसद का काम नहीं। चाहे पानी की समस्या दूर करने के लिए पानी का टैंकर देने का सवाल हो, बच्चों के शिक्षा के लिए आंदोलन करना हो, मच्छरों का प्रादुर्भाव खत्म करना हो, अस्पताल में सेवा बढ़ाना हो. यह तमाम मुद्दे जिन्हे करवाने में कभी दुष्यंत ने पद नहीं देखा, हालांकि जब बृजेन्द्र सिंह का हाल का बयान आया तो इससे न केवल आम जनता उनकी निंदा कर रही है, बल्कि दुष्यंत ने भी लोगो को भरोसा दिया है कि “मैं हु न”। दुष्यंत ने भाजपा नेताओं के इस बर्ताव पर पछतावा जताते हुए जनता को भरोसा दिलाया कि हिसार की जनता बिलकुल न घबराये, वह हैं। उन्होंने कहा कि मेरे घर के द्वार 24 घंटे जनता के लिए खुले होंगे। इतना ही नहीं  

दुष्यंत ने बृजेन्द्र पर जोरदार प्रहार करते हुए कहा कि चुनाव हारा हूं पर समस्याएं सुलझाने की हिम्मत रखता हूं। उन्होंने एक बयान में कहा कि  भाजपा सांसद सत्ता के नशे में चूर है और बिजली, पानी, सड़क जैसी मूलभूत जरूरतों को पूरा करने से मुंह फेर रहे हैं। दुष्यंत ने कहा कि बृजेन्द्र सांसद साहब, हिसार लोकसभा की जनता लावारिस नहीं है। हिसार की जनता अपने आप को अकेला न समझें,  बेशक मैं चुनाव हार गया हूं परंतु जन समस्याएं सुलझाने की हिम्मत आज भी है।

बीरेंद्र सिंह ने कहा था बृजेन्द्र देगा जवाब, सांसद बृजेन्द्र ने कहा यह मेरा काम नहीं

गांव लाडवा में सरकारी अस्पताल के अवस्था पर पत्रकारों के सवाल पर पूर्व केंद्रीय मंत्री कैसे भड़के थे यह तो आप जानते ही हैं, उस समय उन्होंने कहा कि इस स्थानीय मुद्दों पर वह जवाब नहीं देंगे उनका बेटा जब सांसद बनकर आएगा वो जवाब देगा। हालांकि आइएएस की नौकरी से वीआरएस लेकर राजनीति में आए बृजेंद्र सिंह हिसार के हांसी में एक अभिनंदन समारोह में गए हुए थे। वहां उन्होंने बिल्कुल अपने पिता की तरह वाक्य दोहराया। बता दे कि हांसी के मुद्दों पर उठाये पत्रकार के सवाल पर बृजेंद्र सिंह बोले कि वह सांसद है, काम का कार्यान्वन का काम उनका नहीं। वह सिर्फ मुद्दे उठा सकते हैं। उनका मनाना था कि उनकी नजर में यह काम विधायक के स्तर का है।

पीएम मोदी से भी नहीं लिया सबक हिसार के नवनिर्वाचित सांसद ने बृजेन्द्र सिंह ने

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज लोगों के दिलो में इसलिए राज करते हैं क्योंकि उन्होंने खुद ऐसे ऐसे कार्य किये हैं जिसके कारण वह आम लोगों के दिलो में घर कर गए है। चाहे स्वछता मिशन के अंतर्गत खुद हाथो में झाड़ू लेकर पीएम नरेंद्र मोदी जब देश में सफाई को निकल पड़े तब यही सांसद उनका अनुसरण करते हुए हाथो में झाड़ू थाम लिए थे। मोदी जी ने कुम्भ में सफाई करने वालो के पैर धोकर उन्हें दिया था सर्वश्रेष्ठ स्थान, मगर हमारे सांसद बृजेन्द्र तो उद्योग के सवाल पर कहते हैं एग्जिक्यूशन उनका काम नहीं। धन्य हो ऐसे नेता का जो मोदी के नाम पर वोट की भीख इन्ही नागरिकों से लेकर आ पाए, मगर उनके सेवा का जब आया समय तो देते अनाप शनाप बयान।

मीडिया में बचाव को समर्थक एक्टिव

विधानसभा चुनाव आने को है, ऐसे में जनता को समर्पित सरकार के मनोहर दावों की खुद ही सांसद के बयानों से पोल खुलने के बाद बृजेन्द्र सिंह के बचाव में सोशल मीडिया में उनके समर्थक एक्टिव होने लगे। उन्होंने इस खबरों को जहां बेबुनियाद बताया। वहीं, जननायक जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उनके बयान के वीडियो डाल कर बृजेन्द्र के समर्थकों की बोलती बंद करने का काम किया। इतना ही नहीं इस खबरों के सुर्खिया बनाने के बाद भी आज नागरिक यही सोच रहे हैं कि क्या सांसद इतनी हिम्मत नहीं रखते कि वह अधिकारियों पर लगाम के साथ उनके मुद्दों को हल करवाने के लिए ऑर्डर्स दे सकें।

सांसद का समस्याओं से पल्ला झाड़ना उचित नहीं : दीपेन्द्र

बृजेन्द्र सिंह के बयान पर कांग्रेस नेता और पूर्ण सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने भी गहरी प्रतिक्रिया जाहिर की है, उन्होंने कहा कि हरियाणा में जीत के घमंड में चूर भाजपा सांसदों का जनसमस्याओं से पल्ला झाड़ना उचित नहीं है। मेरी व्यक्तिगत राय है कि सांसद का काम लोकसभा में केवल अपने नेताओं के भाषण पर ताली बजाना नहीं, बल्कि सड़क, बिजली, पानी आदि से जुड़ी जनकल्याण व विकास परियोजनाओं को लाने का प्रयास करने का भी होता है।

मेरे बयान को गलत तरीके से किया गया पेश : सांसद बृजेंद्र सिंह

सांसद बृजेन्द्र सिंह
सांसद बृजेन्द्र सिंह

मोदी लहर में पहली बार आईएएस से सांसद बने बृजेंद्र सिंह जब अपने बयान के कारण विपक्ष के निशाने में आये तब उनके बचाव में उनकी माँ उतर आयी मगर फिर भी जब बात नहीं बनी तो खुद बृजेन्द्र ने अपने लेटर हेड पर एक पत्र जारी कर अपनी सफाई देते हुए कहा कि मीडिया के एक तबगे ने उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया। मेरे बयान को समझे बिना राजनीति से प्रेरित होकर कुछ लोगो ने इसे गलत तरीके से पेश किया है। इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि मैं यह बताना चाहता हूं कि मैंने कभी यह नहीं कहा कि मैं जनता का काम नहीं करवाऊंगा। मेरा असल बयान था कि सांसद या विधानसभा सदस्यों का काम ही जनता की आवाज़ और उनके मुद्दों को उठाना होता है।

 

सांसद रहते हुए दुष्यंत का अधिकारियों पर लगाम, वहीं भाजपा सांसद बृजेन्द्र का कहना काम करवाना मेरा काम नहीं

ढाणियों में बिजली पहुंचाना और पानी के टैंकर देकर दुष्यंत से एक अलग सांसद की पेश की थी छवि, वहीं भाजपा के सांसद बृजेन्द्र सिंह का धन्यवादी दौरा भी अब तक नहीं हो पाया खत्म

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close