हेल्थ

Hisar Today|भोजन करने से पहले थाली के आसपास क्यों छिड़कना चाहिए पानी

Hisar Today News

भारतीय परंपरा के अनुसार भोजन करने से पहले मंत्रोच्चार करते हुए थाली के चारों तरफ तीन बार जल (पानी) छिड़ का जाता है। उत्तर भारत में इसे आचमन और तमिलनाडू में परिसेशनम के नाम से जाना जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है, क्योंकि ऐसा करने से हमारे अन्न के प्रति सम्मान प्रकट होता है। ऐसा करने के पीछे धार्मिक और वैज्ञानिक कारण दोनों है। वहीं स्वास्थ्य के लिए लाभकारी वजह भी हैं, जिसे बहुत कम लोग जानते हैं।

थाली तक नहीं पहुंच पाते कीड़े-मकोड़े

दरअसल, पुराने जमाने में ज्यादातर लोगों के मकान कच्चे होते थे, इसलिए घर की फर्श भी कच्ची होती थी। इसके अलावा लोग जमीन पर बैठकर ही खाना खाते थे। अगर खाना खाते समय कोई बगल से गुजरे तो फर्श की धूल उड़कर भोजन में ना पड़े इसलिए लोग थाली के चारों तरफ पानी छिड़कते थे। ऐसा करना सेहत की दृष्टि से भी बहुत महत्वपूर्ण था। आज भी तमाम लोग फर्श पर बैठकर भोजन करते हैं। ऐसे में खाने में धूल मि ट्टी जाना स्वा भाविक है। यदि आप भी थाली के चारों तरफ पानी छिड़कते हैं तो इससे आपके भोजन में धूल नहीं जाएगी, जिससे आप बैक्टीरिया से बचे रहेंगे और आप बीमारियों व किसी प्रकार की एलर्जी की समस्या से पीड़ित होने से बच जाएंगे। पहले ऐसा इसलिए किया जाता था ताकि कीड़े, मकोड़े चलकर खाने में ना पहुंचे। पानी के कारण वह थाली तक नही पहुंच पाते थे।

बिस्तर पर बैठकर नहीं खाना चाहिए

आजकल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में हमारी कुछ आदतें ऐसी हैं जो अब हमारे जीवन का एक हिस्सा बनती जा रही हैं। जैसे बेड पर चाय और खाना लेना आदि । ये आदतें हमारे शरीर को प्रभावित करती हैं।शास्त्रों में कहा गया है कि बिस्तर पर
बैठकर खाना या पीना नहीं चाहिए। इससे घर में लक्ष्मी का निवास नहीं होता और दरिद्रता आती है। बिस्तर रुई से बने होते हैं, रुई हमारे शरीर की ऊर्जा को निकलने नहीं देती है। खाना खाते समय हमारी लिवर की गर्मी निकलती है, बिस्तर पर बैठने
से ये गर्मी शरीर में ही रुक जाती है, जमीन तक नहीं पहुंच पाती है। इससे हमारा पाचन तंत्र खराब होता है।

खड़े -खड़े भोजन नहीं करना चाहिए

खड़े होकर खाना खाने से पेट और लिवर संबंधी बीमारी होती है। इसके अलावा अग्नि, विष्णु , ब्रह्म और पद्म पुराण में भोजन संबंधी नियम बताए गए हैं। स्मृति ग्रंथों और संहिताओं में भी बताया गया है कि एक जगह बैठकर भोजन करना चाहिए। इससे भोजन दूषित नहीं होता और बुरी शक्तियां भोजन को प्रभावित नहीं करती। खड़े होकर भोजन करने से भोजन का अपमान होता है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close