हेल्थ

खुश रहना है तो अपनाएं अच्छी आदतें

मनीषा मेहता | हैप्पीनेस डेस्क

अगर आपको जीवन में कामयाब व सहेतमंद रहना है तो आपको खुश रहना सीखना ही होगा और साथ-साथ आपको यह भी पता होना चाहिए जीवन में कौन ऐसी आदते हैं जिन्हें छोड़कर हम खुश रह सकते हैं।

दूसरों पर दोष नहीं
जो लोग खुश रहते हैं वे अपनी समस्याओं के लिए दूसरों पर दोषारोपण नहीं करते। जब हालात गैरमुफीद होते हैं, तब वे दूसरों को इसके लिए जिम्मेदार नहीं ठहराते। वे आगे बढ़कर खुद जिम्मेदारी लेते हैं। भले ही इन हालात के लिए काफी हद तक दूसरा व्यक्ति ही जिम्मेदार क्यों न हो। आप यह सोचकर हैरान हो सकते हैं कि समस्याओं के लिए खुद को जिम्मेदार ठहराने से वे लज्जा और आत्मग्लानि के शिकार हो सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं होता। अगर हम अपनी समस्याओं का उत्तरदायित्व लेते हैं, तो उन्हें सुलझाने का दायित्व भी हमारा होता है। इससे हम अधिक प्रभावशाली तरीके से अपने जीवन और खुशियों का प्रबंधन कर सकते हैं। इससे हमें समस्याओं को सुलझाने का आत्मविश्वास भी मिलता है।

खुशी का मूल है कि आप प्रतिक्रिया करने से बचें। किसी परिस्थिति में बहुत ज्यादा प्रतिक्रिया हमारी प्रसंन्नता और आनंद को नुकसान पहुंचा सकती है। कुछ लोग जीवन में आने वाली छोटी सी परेशानियों से ही वे घबरा जाते हैं। उन्हें लगता है कि उनके जीवन में सब कुछ बुरा है। वे स्वयं को कोसने में ही वक्त गंवाते हैं। वहीं खुश रहने वाले लोग अपने गम को खुद पर हावी नहीं होने देते। वे परेशानियों और मुसीबतों का सामना करने में लग जाते हैं और धीरे-धीरे अपनी खुशियों में इजाफा करते हैं।

दोस्त भी होते हैं खुशी बढ़ाने में मददगार

खुश लोगों के जुनून और रिश्तों का दायरा बहुत बड़ा होता है। आमतौर पर उन्हें कई शौक होते हैं। उनका सामाजिक दायरा भी बड़ा होता है। उनके कई दोस्त होते हैं जिनके साथ वे वक्त बिता सकते हैं। अपने धन को भी वे अलग-अलग माध्यमों में निवेश करके रखते हैं। इस बहुआयामी व्यक्तित्व के कारण वे जीवन की छोटी-मोटी क्षति से उन्हें अधिक फर्क नहीं पड़ता। नये दोस्त बनायें और पुराने दोस्तों के साथ संबंधों को मजबूत करें। ऐसे काम करें जिनसे आपको खुशी मिले। मान लीजिये आपको सिर्फ गोल्फ पसंद है, तो कंधे में दर्द या चोट के कारण आपका वह शौक खत्म हो सकता है, तो बेहतर है कि आप उसके साथ ही शतरंज या किसी अन्य खेल को भी अपना शौक बनायें। या फिर घूमने को अपनी आदत बनायें।

नाखुश लोग अपनी पुरानी नाकामियों से बाहर नहीं निकल पाते। इस कारण उनका वर्तमान और भविष्‍य दोनों खराब होते हैं। लेकिन खुश रहने वाले लोग ऐसा नहीं करते। वे अपनी गलतियों को याद तो रखते हैं, लेकिन हमेशा उनका मलाल नहीं करते रहते। वे अपनी गलती से सीखते हैं और भविष्‍य की योजना बनाते हैं। क्‍या किया जा सकता है: जब भी आपके दिमाग में कोई पुरानी बात आने लगे, तो इस बारे में विचार करें कि आखिर आपने अपनी गलती से क्‍या सीखा।
और आगे से उसे करेन से कैसे बचना है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close