ताजा खबरफतेहाबादसिरसाहरियाणाहिसार

हड़ताल में लाठीचार्ज हुए 160 कर्मचारी गिरफ्तार

हड़ताल में लाठीचार्ज हुए 160 कर्मचारी गिरफ्तार, आखिरी दम तक हमारा संघर्ष जारी रहेगा : किरमारा

Hisar News | हिसार

हरियाणा में रोड़वेज कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर प्रदेश भर में चक्का जाम किया। प्राइवेट बसों को रोडवेज में शामिल करने के विरोध में हरियाणा रोड़वेज के कर्मचारी प्रदर्शन कर रहे थे। 15-16 की मध्यरात्रि 12 बजे से ही रोड़वेज कर्मचारियों ने बसों के पहिए रोक दिए। सुबह से अलग अलग क्षेत्रों से आ रही खबरों के मुताबिक चक्का जाम का मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है। बता दें कि हरियाणा रोडवेज के कर्मचारियों ने खट्टर सरकार की प्रतिकिलोमीटर स्कीम के तहत 720 प्राईवेट बसों को चलाने की योजना से नाराज चल रहे हैं। कर्मचारी चाहते हैं यह स्कीम लागू न की जाए क्योंकि ऐसा करने से निजीकरण को बढ़ावा मिलेगा और युवाओं के लिए रोजगार के अवसर बंद हो जाएंगे। मगर सरकार है कि रोडवेज की बातों को सुनने को तैयार नहीं। इसलिए रोडवेज कर्मचारियों ने कल रात 12 बजे से ही 2 दिन के हड़ताल की शुरुवात करते हुए बंद को सफल बनाने का काम किया। सरकार के आदेशानुसार सिरसा बस डिपो से बस में सिरसा बस डिपो के जीएम के रिश्तेदार को बिठाकर पुलिस बल के साथ बस छोड़ी गयी, परन्तु इन तीनो बसों में से 2 कैथल और एक बस को दिल्ली में रोका। पुरे दिन चली हड़ताल में जहा रोहतक और अंबाला में पुलिस का हल्का लाठीचार्ज हुआ तो वही तकरीबन 160 हड़ताली कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया। देश की राजधानी दिल्ली से सटे बहादुरगढ़ में कर्मचारियों की हड़ताल का पूरा असर देखने को मिला।

बहादुरगढ़ में सभी यूनियन ने एक साथ मिलकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले बैठी हैं। कर्मचारियों ने एक भी बस बस स्टैंड से बाहर नहीं निकाली और बस स्टैंड के गेट के सामने धरना भी दिया। कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वही रोहतक डिपो से पुलिस सुरक्षा के बीच लगभग 25 रोडवेज की बसों को निकाला गया। वही सवारियों कोई दिक्कत ना आए, इसलिए प्राइवेट बसों ने कमान संभाल रखी थी। रोडवेज की बसों को सड़कों पर उतारने का हड़ताली कर्मचारियों ने विरोध भी किया, प्रदर्शन कर रहे तकरीबन 50 कर्मियों को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया।
वही यमुनानगर में रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल का मिला जुला असर दिखाई दिया। कई सेवाएं बाधित जरूर हुई लेकिन फिर भी रोडवेज प्रशासन की तरफ से बसे चलाई जा रही है। जीएम रोडवेज रविंद्र पाठक ने बताया कि बसे चलाई जा रही है, अब तक 8 बसें चलाई गई है। नरवाना में रोडवेज हड़ताल पूरी तरह सफल दिखाई दी। रोडवेज कर्मचारियों ने चक्का जाम कर सरकार के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया। रोड़वेज यूनियन की रणनीति के आगे प्रशासन बेबस नज़र आया।

हिसार में बंद पूरी तरह रहा सफल
हिसार में सुबह से शाम तक रोडवेज ने एक भी बस चलने नहीं दी। यहां पर रोडवेज का बंद पूरी तरह सफल रहा। हिसार में कर्मचारियों की हड़ताल का असर दिखा। कर्मचारी नेताओं की माने तो प्रदेश भर में करीब 41 सौ बसों की आवाजाही ठप्प रही। प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों का कहना है कि सरकार की ओर से एस्मा लगाकर कर्मचारियों को दबाने का प्रयास किया जा रहा है।तालमेल कमेटी के वरिष्ठ सदस्य दलबीर किरमारा ने कहा कि सबसे ख़ास बात यह है कि इस बार रोडवेज के समर्थन में विभिन्न कॉलेजों के छात्र भी उतर आये। उन्होंने कहा कि कालका, पानीपत, रोहतक और सिरसा के विभिन्न कॉलेज के विद्यार्थियों ने भी इस हड़ताल को समर्थन दिया।

पूर्ण रूप से सफल रहा रोडवेज का चक्का जाम : कमेटी
हरियाणा रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी ने दावा किया है कि प्रदेश सरकार द्वारा प्राइवेट कंपनियों की 720 बसें महंगी दरों पर हायर करने, कर्मचारियों पर एस्मा जैसे काले कानून, निलंबन, मुकदमो व चार्जशीट के विरोध में मंगलवार को किया गया चक्का जाम पूर्ण रूप से सफल रहा। प्रदेशभर के 18 हजार कर्मचारी हड़ताल में शामिल हुए। हिसार व हांसी में सुबह 3.30 बजे से एक भी बस नहीं चल पाई। तालमेल कमेटी के वरिष्ठ सदस्य दलबीर किरमारा ने कहा कि आखिरी दम तक हमारा संघर्ष जारी रहेगा।

160 रोडवेज कर्मियों की हुई गिरफ्तारी
> रोहतक – 50 कर्मचारी
> बहादुरगढ़ – 25 कर्मचारी
> नारनौंद -18 कर्मचारी
> हिसार -3 कर्मचारी
> कुरुक्षेत्र -5 कर्मचारी
> अंबाला -11 कर्मचारी
> फरीदाबाद -48 कर्मचारी

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close