फतेहाबादहरियाणा

सब्सिडी देने के साथ-साथ जागरूकता अभियान चलाया, सुनिश्चित करें कि पराली न जलाऐं किसान : आभीर

Hisar Today

संबधित अधिकारी ये सुनिश्चित करें कि किसान इस बार पराली (फसल अवशेष)न जलाऐं । ये बात डीसी डॉ जेके आभीर ने कही। वो फसल अवशेष प्रबंधन को लेकर कृषि एवं किसान कल्याण विभाग व अन्य सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।  आभीर ने कहा कि इस वर्ष सरकार ने किसानों की सुविधा के लिए कस्टम हायरिंग सेंटर तथा व्यक्तिगत रूप से विभिन्न मशीनों हेतू पर्याप्त सब्सिडी प्रदान करने के साथ-साथ सघन जागरूकता अभियान चलाया है।  उन्होंने कहा कि  पर्यावरण प्रदूषण, भूमि की सेहत के साथ खिलवाड़ तथा पेड़ पौधों व जीवों के जिंदा जलने जैसी घटनाओं को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नही किया जाएगा।  अगर फिर भी कोई नियमों की अवेहलना करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

पराली जलाने की घटनाओं पर पूर्णतः रोक लगाने को लेकर डीसी ने जिला, उपमंडल, ब्लॉक व गांव स्तर पर विभिन्न अधिकारियों  व कर्मचारियों की कमेटियां गठित की। कमेटी के सदस्य धान कटाई के समय अपने-अपने क्षेत्रों में निगरानी करेंगे और पराली जलाने के दोषियों के विरूद्ध कार्रवाई करेंगे। आभीर ने बताया कि बताया कि जिला में पिछले वर्ष कुल 73 कस्टम हायरिंग सेंटर स्थापित किए गए थे जबकि इस वर्ष इनकी संख्या बढ़ाकर दोगुने से भी ज्यादा 154 कर दी गई है। पिछले वर्ष भट्टू में 2, फतेहाबाद में 38, रतिया में 19, भूना में 9, टोहाना में 5 कस्टम हायरिंग सेंटर स्थापित हुए थे, इस वर्ष भी जिला में 75 नए कस्टम हायरिंग सेंटर स्थापित किए जाने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। इनमें फतेहाबाद में 9, रतिया में 26, भूना में 5, टोहाना में 24 तथा जाखल में 11 कस्टम हायरिंग सेंटर स्थापित किए जा रहे है।

कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उप निदेशक डॉ बलवंत सहारण ने अवगत करवाया कि भूना, टोहाना व जाखल के लिए 6 अतिरिक्त कस्टम हायरिंग सेंटर मिलाकर कुल 154  हो जाएगें। इसके अलावा अनेक किसानों को व्यक्तिगत मशीनों पर भी सब्सिडी प्रदान की गई है। उन्होंने बताया कि जिला में इस बार 1 लाख 17 हजार 830 हेक्टेयर भूमि पर धान की खेती हुई है। इस प्रकार से जिला में उपलब्ध करवाए गए कस्टम हायरिंग सेंटर तथा व्यक्तिगत तौर पर दी गई मशीनें पराली के निपटान के लिए पर्याप्त है।

उन्होंने बताया कि  किसानों को जागरूक करने के लिए कृषि गोष्ठियां आयोजित की गई है तथा किसानों को प्रशिक्षण देने बीकानेर ढ़ाणी स्थित कृषि विज्ञान केंद्र में 75-75 किसानों के लिए 11 प्रशिक्षण शिविर लगाए जाएगें। इस अवसर पर एसडीएम सरजीत नैन, सतबीर जांगू, देवीलाल सिहाग सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित थे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close