टुडे न्यूज़फतेहाबादसिरसाहरियाणाहिसार

किसान पराली को जलाएं नहीं, इसे मिट्टी में मिला भूमि की उपजाऊ शक्ति बढाएं : गोदारा

जनसंपर्क विभाग की टीम ने गांव मैयड़ में रात्रि ठहराव कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणों को किया जागरूक

Hisar News | हिसार

किसान धान की फसल निकालने के बाद खेतों में बचे अवशेषों को जलाने की बजाय इन्हें मिट्टी के साथ मिला दें। इससे भूमि की उपजाऊ शक्ति बढ़ेगी। अवशेषों को मिट्टी के साथ मिक्स करने के लिए सरकार जरूरी उपकरणों पर 80 प्रतिशत तक अनुदान भी उपलब्ध करवा रही है। यह बात सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के उप-निदेशक डॉ. साहिब राम गोदारा ने बुधवार सायं गांव मैयड़ में आयोजित रात्रि ठहराव कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने ग्रामीणों को सरकार की अनेक कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देते हुए इनका लाभ उठाने का आह्वान किया। इस अवसर पर विभाग के कलाकारों ने नाटकों, गीतों व अन्य तरीकों से ग्रामीणों को बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, फसल अवशेष प्रबंधन, स्वच्छता अभियान सहित अन्य कई योजनाओं की जानकारी मनोरंजक ढंग से दी। उन्होंने नाटक के माध्यम से बेटियों के प्रति ग्रामीणों की संवेदनाएं भी जागृत की। उप निदेशक डॉ. साहिब राम गोदारा ने कहा कि धान की पराली को आग लगाने से पैदा होने वाला धुआं केवल हरियाणा ही नहीं, पड़ोसी राज्यों की हवा को भी दूषित करता है। इसके साथ ही इसकी गर्मी से भूमि के अंदर मौजूद मित्र कीट भी जलकर खत्म हो जाते हैं जिससे भूमि धीरे-धीरे बंजर होने लगती है। इसलिए प्रदेश सरकार, न्यायालय और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने फसलों के अवशेषों को जलाने पर रोक लगा रखी है।

उन्होंने कहा कि अवशेषों के उचित समाधान हेतु सरकार 14 प्रकार के कृषि उपकरण 50 से 80 प्रतिशत तक अनुदान पर उपलब्ध करवा रही है। यदि कोई किसान स्वयं यंत्र न खरीद सके तो कई किसान समूह बनाकर भी अनुदान पर उपकरण खरीद सकते हैं। किसान यदि चाहें तो किराए पर उपकरण लेकर भी पराली का प्रबंधन कर सकते हैं। इसके साथ-साथ किसानों को इस दिशा में जागरूक करने के लिए जनसंपर्क विभाग, कृषि विभाग व हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय द्वारा निरंतर जागरूकता अभियान भी चलाए जा रहे हैं।उन्होंने कहा कि इन सबके बावजूद यदि किसान पराली को आग लगाते हैं तो इसकी सूचना उपग्रह से प्राप्त तस्वीरों के माध्यम से हरसैक को मिलती हैं। इसमें यह भी पता लग जाता है कि किस किला नंबर में आग लगाई गई है और इसका मालिक कौन है। हरसैक से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर प्रशासन आग लगाने वाले किसानों पर जुर्माना लगाता है और उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जाती है। इसलिए किसान अपने खेतों में पराली को आग न लगाएं बल्कि सरकारी योजनाओं का लाभ उठाते हुए इसका उचित प्रबंधन करें।

डॉ. गोदारा ने कहा कि हरियाणा सरकार ने बिजली की दरों को लगभग आधा करके प्रदेश के प्रत्येक परिवार को फायदा पहुंचाया है। इससे हर परिवार के बिजली खर्च में काफी कटौती होगी। उन्होंने बताया कि समाज में बेटियों की कम होती संख्या के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान शुरू किया जिसके साकारात्मक परिणाम आने शुरू हो गए हैं और इससे बेटियों की जन्म दर में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की गई है।कार्यक्रम के दौरान विभाग की ड्रामा पार्टी व भजन पार्टी के कलाकारों ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर प्रभावशाली नाटक प्रस्तुत किया। उन्होंने गीतों के माध्यम से बेटियों की कमी से समाज में पैदा होने वाली विसंगतियों की ओर ध्यान दिलाते हुए ग्रामीणों से आह्वान किया कि वे बेटियों को शिक्षित व सशक्त बनाएं। इसी से संतुलित समाज का निर्माण संभव होगा।इस अवसर पर सरपंच ओमप्रकाश, सुभाष माइयड़, पूर्व सरपंच जगदीश, मास्टर रामनिवास, जगदीश सैनी, मनोज, दयानंद, रामकुमार, टेकाराम खरड़, बलजीत सैनी, दलीप कुमार, आदेश कुमार, रामकिशन, धर्मपाल, जागर सैनी, सोनू, जनसंपर्क विभाग के अधिकारी, कर्मचारी व बड़ी संख्या में ग्रामीण भी मौजूद थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close