हरियाणाहिसार

ओम इंस्टीट्यूट में रेबीज अवेयरनेस सेमीनार का किया गया आयोजन

Today News

हिसार । लाला लाजपतराय पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय की ओर से रेबीज अवेयरनेस कैंपेन के तहत बुधवार को ओम इंस्टीट्यूशन में एक सेमीनार का आयोजन किया गया। इसमें बतौर मुख्य वक्ता विवि के डिपार्टमेंट ऑफ वेटरिनरी पब्लिक हैल्थ एंड इपीडीनियोलॉजी से प्रोफेसर राजेश खुराना और प्रोफेसर विजय जाधव ने रेबीज के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बचाव के उपाय सुझाए।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रो राजेश खुराना व प्रोफेसर विजय जाघव ने कहा कि भारत में रेबीज से प्रतिवर्ष 20 हजार से अधिक व्यक्तियों की मौत हो जाती है। कुत्ता इस रोग का मुख्य कारण होता है। यह रोग मुख्यत: बच्चों को अधिक प्रभावित करता है। उन्होंने रेबीज से संक्रमण फैलने पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि रेबीज रोग के विषाणु पागल कुत्ते की लार व अन्य द्रव्यों के द्वारा संक्रमण करते हैं। अधिकतर घटनाएं पागल कुत्तों के काटने से होती है। बिल्ली, बंदर, नेवला, गीदड़, गाय, भेड़, बकरी आदि भी इस रोग का प्रसार करते हैं।

उन्होंने रेबीज के रोकथाम के उपायों पर चर्चा करते हुए कुत्तों व बिल्लियों का टीकाकरण करने, पालतू पशुओं को खुला न छोडने, पालतू कुत्तों का बधियाकरण करवाने, आवारा कुत्तों से अपना बचाव करने, घर के बाहर गंदगी व खाना न छोडऩे, जंगली जानवरों को पालतू न बनाने तथा किसी भी जानवर के असामान्य व्यवहार की सूचना तुरंत पशुचिकित्सा विभाग व स्वास्थ्य विभाग को देने पर विशेष तौर पर जोर दिया।

 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close