टुडे न्यूज़ताजा खबरहरियाणा

एस्मा लागू करने के खिलाफ सड़क पर उतरे रोडवेज कर्मचारी, पुलिस छावनी में तब्दील हिसार डिपो

रोडवेज हड़ताल करने वाले कर्मचारियों पर कड़क कार्रवाई के पंजाब हरियाणा उच्च न्यायलय के आदेशानुसार बुधवार रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल को विफल बनाने में सरकारी तंत्र से लेकर पुलिस भी शहर में पूरी तरह मुश्तैद रही। कोर्ट के आदेशानुसार हिसार बस डिपो पुलिस छावनी में तब्दील हो चूका था। गड़बड़िया फैलाने के लिए पुलिस ने हरियाणा रोडवेज ज्वाइंट एक्शन कमेटी के वरिष्ठ सदस्य दलबीर किरमारा समेत 37 लोगो को हिसार से गिरफ्तार किया। इन गिरफ्तारियों के बाद पूरा दिन संभल कर अन्य संघटनो ने अपना प्रदर्शन जारी रखा।

शहर में कानून व्यवस्था सुचारु बनाये रखने के लिए खुद ड्यूटी मेजिस्ट्रेट एच.के.गुप्ता रातभर सडको पर तैनात रहे, सुबह हिसार बस डिपो में प्रदर्शनकारियों पर लगाम लगाने के लिए डी.एस.पी अमरजीत सिंह, SHO सदर थाना विजेंदर कुमार, SHO सिटी ललित समेत असंख्य पुलिस बल शहर के अलग अलग इलाको पर तैनात था। ड्यूटी मेजिस्ट्रेट एच.के.गुप्ता ने बताया की कोर्ट के आदेशानुसार प्रयाप्त पुलिस बल तैनात किया गया था। सुबह से शांतिपूर्ण प्रदर्शन रहा और ३७ लोगो को अब तक गिरफ्तार किया जा चूका है।कर्मचारी महासंघ के प्रधान राजपाल नैन ने सरकार पर दमन का आरोप लगाते हुए कहा की सरकार अपने निजी स्वार्थ को पूरा करने के लिए रोडवेज का निजीकरण करने जा रही है। इस फैसले सेअसंख्य रोडवेज कर्मचारी बेरोजगार हो जायेंगे।

  • सरकार के दमन से नहीं डरेंगे : राजपाल नैन, प्रधान, रोडवेज कर्मचारी महासंघ

सरकार ने षड्यंत्र रचकर हमारी आवाज दबाने का प्रयास किया। वह बिना रोडवेज अधिकारियो के संज्ञान पर सीधे कोर्ट से फैसला ले आई । आज इस रोडवेज कर्मचारियो की हड़ताल को दबाने के लिए सरकार ने पुलिस के सहयोग से बिना हरियाणा रोडवेज ज्वाइंट एक्शन कमेटी के वरिष्ठ सदस्य दलबीर किरमारा समेत ३७ लोगो को गिरफ्तार किया। उन पर आंतकवादियो धाराओं का दुरूपयोग करके धरा 311(२), धारा 144 लगाई गयी है।

६ तारीख को एस्मा के खिलाफ , रोडवेज के निजीकरण, बिजली बोर्ड के निजीकरण के खिलाफ मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर को ज्ञापन देंगे और 7 तारीख को विधानसभा का घेराव करेंगे। दरहसल भ्रष्टाचार समाप्त करने का दावा करने वाली भाजपा सरकार अपने खास चहेते बड़ी पूंजी वाले ट्रांसपोर्टरों को फायदा पहुंचाने के लिए परिवहन विभाग में उनकी 700 निजी बसें महंगी दरों पर किराये पर लेने पर तुली है जो बड़े घाटे का सौदा है।

  • ये रहा विरोध का कारण

परिवहन विभाग में किलोमीटर स्कीम के तहत 700 निजी बसें खरीदने, बिनी किसी पॉलिसी के आए दिन नये-नये परमिट जारी करने एवं कर्मचारियों की मानी गई मांगंे लागू न करने और एस्मा लागू करने के खिलाफ हरियाणा रोडवेज कर्मचारियों प्रदेश भर में जोरदार चक्का जाम किया। तड़के 3.50 मिनट से शुरू रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल रात 12 बजे तक जारी रहेगी।

  • आंदोलन विफल करने का प्रयास

आज रोडवेज कर्मचारियों को हिसार की कुल १५ संघटनो ने समर्थन दिया। उसमें शामिल है आंगनवाड़ी वोर्कर , किसान सभा , हरियाणा कर्मचारी महासंघ , नौजवान सभा आदि शामिल है। आंगनवाड़ी वर्कर महासचिव जगमति मालिक ने कहा की हम रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल को समर्थन देने आये है। मगर सरकार इस आंदोलन को विफल बनाने के लिए दबाव बना रही है , धमका रही है , रोजगार छीनने का भय पैदा कर रही है , इसीलिए हम सरकार की इस गतिविधियों की निंदा करते है। इस हड़ताल में गिरफ्तार कर्मचारियों को रिहा करने के लिए हम उपायुक्त कार्यालय भी गए ।

  • कार्रवाई के डर से कर्मचारी काम करने को मजबूर

रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल आकुछ हद्द तक विफल रही। नाम न बताने के शर्त पर रोडवेज कर्मचारियो ने कहा की हमें ऊपर से सख्त आदेश और दबाव डाला जा रहा है की हम हड़ताल रन करे। खुद जीएम भी दबाव दाल रहे है। नौकरी पिछले साल लगी है। हमें धमकाया जा रहा है की हम हड़ताल न करे वर्ण हमारी काम से छुट्टी कर दी जायेगी। रोजी रोटी का सवाल था इसलिए काफी कर्मचारी दबाव में आकर हड़ताल नहीं कर रहे।

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close