हरियाणा

इनेलो से मेयर चुनाव के प्रबल दावेदार ‘तरुण जैन’

Today News

मेयर का चुनाव सभी पार्टियों के लिए अग्निपरीक्षा, यह चुनावी नतीजे तय करेंगे आगामी चुनावों में निर्णायक भूमिका

अर्चना त्रिपाठी | हिसार
हिसार ही नहीं राज्य में अपने मेहनतहिसार ही नहीं राज्य में अपने मेहनतकश कार्यों से लोगों में पकड़ बनाए रखने और इनेलो के कार्य जनता  तक  पहुंचाने वाले इनेलो हिसार हल्काध्यक्ष ‘तरुण जैन’ का नाम इन दिनों मेयर पद की दावेदारी में सबसे आगे चल रहा है। इनेलो युवा नेता सांसद दुष्यंत चौटाला के बेहद विश्वासपात्र तरुण जैन ने हल्काध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के बाद भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस नेताओं को न केवल आड़े हाथो लिया, बल्कि शहर के विभिन्न ज्वलनशील मुद्दे उठाकर दिखा दिया कि  इनेलो की   ताकत हिसार विधानसभा में अभी भी बरकरार है। दरअसल हाल ही में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने घोषणा करते हुए कहा था कि मेयर का चयन अब जनता करेगी। ऐसे में मेयर की कुर्सी अब और भी ज्यादा प्रबल और चुनौतीपूर्ण हो गयी है। इस मेयर पद पर कौनसी पार्टी का प्रत्याशी काबिज होगा इसे लेकर अभी से रस्साकशी का खेल शुरू हो गया है। राजकीय विश्लेषकों का मानना है की जिस पार्टी का उम्मीदवार मेयर की कुर्सी पर बैठेगा। वही आगामी 2019 में होने वाले लोकसभा और विधानसभा चुनाव के परिणामों का भविष्य तय करेगा।

तरुण जैन, हलका अध्यक्ष, इनेलो हिसार
तरुण जैन, हलका अध्यक्ष, इनेलो हिसार

मेयर का चुनाव सभी पार्टियों के लिए एक अग्निपरीक्षा भी है क्यूंकि इस चुनाव में न केवल पार्टी कार्यकर्ताओ की ताकत दिखेगी बल्कि वह पार्टी के आगामी नतीजों के लिए एक निर्णायक भूमिका भी अदा करेगी।  यही कारण है कि सांसद दुष्यंत चौटाला का विशेष ध्यान इन दिनों विशेष तौर पर हिसार हल्के की तरफ केंद्रित है। दुष्यंत चौटाला ने तरुण जैन को हल्काध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंप कर यह स्पष्ट संकेत दे दिए थे कि आगामी चुनावों में तरुण जैन के कंधो पर बड़ी जिम्मेदारी आ सकती है। आज जिस प्रकार से मेयर चुनाव नजदीक आते जा रहे है।  ऐसे में तरुण जैन की हल्का के विभिन्न मुद्दों को उठाने की हलचल इस बात की तरफ इशारा पहले ही कर चुकी है िक मेयर पद को लेकर दुष्यंत चौटाला की पहली पसंद ‘तरुण जैन’ हो सकते हैं।

अपनी इसी सियासी रणनीति के तहत तरुण जैन इन दिनों अधिक से अधिक कार्यकर्ताओं से मिल रहे हैं। अभी से वह 2019 की इनेलो की रणनीति के तहत काम करने में जुट गए हैं।  तरुण जैन ने विपक्षी पार्टियों और मौजूदा विधायक डॉ कमल गुप्ता के कार्यों पर जिस प्रकार से प्रश्नचिन्ह लगाया है। उन्होंने यह भी संकेत देने शुरू कर दिए हैं कि जनता मौजूदा विधायक से त्रस्त हैं और जनता के पास सबसे बेहतर पर्याय इनेलो पार्टी ही है।

भाजपा विधायक कमल गुप्ता पर शाब्दिक हमला

तरुण जैन ने अब भाजपा के विधायक कमल गुप्ता के खिलाफ सीधा मोर्चा खोलते हुए आरोप लगाए हैं कि विधायक बनने से पूर्व कमल गुप्ता ने कई दावे वादे करते हुए कहा था कि वह हर विभाग की जनता से मिलेंगे और उनकी समस्या हल करेंगे, मगर चुनाव के बाद वह अपने दफ्तर में भी लोगों से नहीं मिलते। वहीं अधर में लटके डाबड़ा पुल का मुद्दा उठाते हुए तरुण जैन ने कहा कि विधायक 3 बार काम पूरा होने की डेडलाइन देते हैं, मगर फिर भी वह काम पूरा नहीं करते। उन्होंने कहा कि डॉ कमल गुप्ता अकार्यक्षम नेता हैं और जनता भी उनसे नाराज है।

कांग्रेस पर भी बरसे तरुण

कांग्रेस से अपनी सियासत शुरू करने वाले तरुण जैन के अनुसार आज कांग्रेस ही कई खेमों में बटी हुई पार्टी हैं। यहां कार्यकर्ताओं की ही सुनवाई नहीं है। यहां जुझारू कार्यकर्ताओं के साथ काफी अन्याय होता है। जनता के बीच कांग्रेस की कोई खास पकड़ भी नहीं है।

तरुण जैन का परिचय

2010 में बतौर कांग्रेस युवाअध्यक्ष का चुनाव जीतकर तरुण जैन ने अपने राजनितिक कॅरिअर की शुरुवात की। उन दिनों हरियाणा में पहली बार था कि कांग्रेस युवा अध्यक्ष के चुनाव हुए और तरुण जैन पहले चयनित युवा कांगेस अध्यक्ष बने। 2013 में दुबारा उन्होंने चुनाव जीता। इस बिच वह हिसार अग्रवाल वैश्य समाज के अध्यक्ष पद पर काबिज हुए, और लगातार 4 साल तक उन्होंने राज्य युवा अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाली। कांग्रेस से मतभेदों और अनदेखी से तंग आकर उन्होंने 2014 लोकसभा और विधानसभा चुनाव के पूर्व मौजूदा सांसद दुष्यंत चौटाला से हाथ मिलाकर अपने सैकड़ों  कांगेस युवा कार्यकर्ताओं के साथ इनेलो पार्टी की जिम्मेदारी संभाली। इनेलो हल्का अध्यक्ष से पूर्व वह साढ़े तीन साल इनेलो प्रदेश युवा इकाई के कोषाध्यक्ष के तौर पर जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। इसके अलावा समाजसेवा से वे अरसो से जुड़े हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close