शिक्षाहरियाणा

Today News |प्रदेश का पहला ई-साक्षर गांव बना तलवंडी राणा 

Today News

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने डिजिटल इंडिया का जो सपना देखा है। उसे जमीनी स्तर पर हकीकत में बदला है सामाजिक संस्था राह ग्रुप फाउंडेशन ने। करीब सात माह पहले राह ग्रुप फाउंडेशन की मदद से इस गांव के सात उत्साही युवाओं ने अपने गांव को प्रदेश
का पहला ई साक्षर गांव बनाने की कवायद शुरु की थी। उसके बाद इन युवाओं ने ऐसा खाका तैयार किया  कि देखते ही देखते यह गांव ई-साक्षर बन गया।

यह मॉडल भी ऐसा जिसे अपना कर प्रदेश तो क्या देश के सभी गांवों को रिकार्ड समय में ई-साक्षर बनाया जा सकता है। फिलहाल इस गांव के एक हजार मोबाइल धारकों को इस मुहिम के माध्यम से संदेश भेजा जा रहा है। आने वाले एक माह के बाद इस गांव के प्रत्येक परिवारों को उनकी जरुरत के अनुरुप संदेश या अन्य जानकारी प्रदान होने लगेगी।

क्या क्या सिखाया जा रहा है

गांव को ई-साक्षर बनाने इस मुहिम के तहत ग्रामीणों को कम्प्यूटर की सामान्य जानकारी, उपयोग, इंटरनेट व उसके उपयोग की जानकारी के अलावा डिजिटल लॉकर बनाने, ऑनलाईन बिजली का बिल भरने, रेलवे की टिकट बुक करने, मौसम की जानकारी प्राप्त करने, सरकारी व प्राईवेट क्षेत्र की नौकरियों की जानकारी प्राप्त करने से लेकर डिजिटल तकनीकों के उपयोग के अलावा ई लॉकर की जानकारी दी जा रही है।
रोजगार की जानकारी चाहिए, राशन डिपों पर वितरण से जुड़ी जानकारी, शिक्षा से जुड़ा कोई तथ्य, मौसम का पूर्वानुमान हो या ग्राम विकास से जुड़ी कोई भी खबर। ग्राम पंचायत की होने वाली बैठक की सूचना या अन्य कोई सार्वजनिक महत्व की सूचना हो। जैसे कोई रक्त जांच शिविर लगना है, मतदाता जागरुकता शिविर लगना है, कोई मुनादी करवानी है, बिजली का बिल जमा करने की सूचना देनी है या अन्य कोई इसी प्रकार की सूचना प्राप्त होती है ।

हर किसी की जरुरत का ध्यान

राह ग्रुप के चेयरमैन नरेश सेलपाड़ के अनुसार तलवंडी राणा गांव को ई-साक्षर कार्यक्रम बनाने के उनके अभियान के तहत प्रत्येक वर्ग की जरुरतों का ध्यान रखा गया है। जैसे कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को उनकी जरुरतों के हिसाब से वाट्स-एप ग्रुप तैयार किया गया है। इसी प्रकार स्कूल संचालकों को भी उनकी जरुरतों के हिसाब से डिजिटल तकनीक का उपयोग करके अभिभावकों से जुडऩे की कला सिखाई जा रही है। विद्यार्थियों को नौकरी व भविष्य में आने वाले कोर्स की जानकारी प्रदान की जा रही है। यह जानकारी पूर्णरुप से नि:शुल्क उपलब्ध करवाई जा रही है।  राह ग्रुप के चेयरमैन नरेश सेलपाड़ का कहना है कि यदि प्रदेश के प्रत्येक गांव से दस युवा इस मुहिम से जुडऩे को तैयार हो तो मात्र छह माह में सभी गांवों को ई-साक्षर बनाया जा सकता है।

वे मानते है कि हम बदलाव के लिए सरकार की तरफ देखने की बजाय स्वयं पहल करनी चाहिए। यदि इस मामले में नेहरु युवा केन्द्र, दूसरी सामाजिक संस्थाओं व ग्राम पंचायतों को साथ लेकर व्यापक स्तर पर अभियान छेडऩे की जरुरत है। उसके बाद जैसे-जैसे इसके लाभों का आभास होगा, आम जनता अपने आप इस मुहिम से जुड़ जाएगी।

गांव तलवंडी राणा को ई-साक्षर बनाने की मुहिम में जुटी राह ग्रुप फाउंडेशन नामक संस्था प्रदेश में विद्यार्थियों को विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के पैटर्न का अनुभव करवाने के लिए एचबीटीएसई (हरियाणा बिगेस्ट टेलेंट सर्च एग्जाम) नामक प्रतिभाखोज प्रतियोगिता का आयोजन करती है। इसके अलावा स्वयं सहायता समूहों का गठन कर उन्हें स्वरोजगार के लिए प्रेरित करने, विद्यार्थियों के लिए नि:शुल्क एजुकेशन टूर, हरियाणवीं संस्कृति का प्रचार-प्रसार करने करने, कम्प्यूटर शिक्षा का विकास, खेलों को बढ़ावा देने, होनहार खिलाडिय़ोंं, विद्यार्थियों व अध्यापकों को सम्मानित करने, गरीब व जरुरतमंदों की मदद करने के अलावा बुटिक एवं ब्यूटी पार्लर ट्रेनिंग कार्यक्रमों के संचालन के माध्यम से महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए काम करती है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close