करियरशिक्षा

20 की उम्र में स्मार्ट नौसीखिए की तरह काम सीखिए

Hisar Today

उम्र का दूसरा दशक अलग-अलग विकल्पों को खंगालने का समय है और इस समय बहुत सारे अवसर आपके लिए उपलब्ध होते हैं। हालांकि पहली नौकरी का ऑफर आपको प्रलोभनीय लग सकता है, लेकिन बहुत जरुरी है कि आप अपनी प्रतिभा और पसंद को समझें और अपना करियर इसके अनुरूप ही चुनें। ये सच है कि इस उम्र में अवसरों को ढूंढ़ना लाभदायक होगा, लेकिन केवल इसलिए कोई नौकरी छोड़ना कि वहां थोड़ी तकलीफ सहनी पड़ रही है या फिर काम उबाऊ लग रहा है, सही नहीं है-बजाय ये पूछने के कि कंपनी आपके लिए क्या कर रही है, ये सोचें कि आप कंपनी के लिए क्या कर रही हैं? ‘‘हर अवसर पर अपना बेहतरीन प्रयास करें। सकारात्मक आलोचना और फीडबैक को सही ढंग से स्वीकारें। अपने विकास और सीख को ही अपनी प्रेरणा बना लें। भले ही इस उम्र में आपके बच्चे, ईएमआई दोनों ही नहीं हैं और आपके माता-पिता भी इतने बूढ़े नहीं हैं, पर इसका ये मतलब नहीं है कि आपको बचत की शुरुआत नहीं करनी चाहिए। अपने सेविंग अकाउंट में तीन-से छह माह के खर्च के बराबर राशि बनाए रखना किसी भी आपदा के समय आपके बहुत काम आएगा।

30 की उम्र में योग्य बनें

आप जो सोच रही हैं, उसे कहें और काम में आप जिसके योग्य हैं, उसकी मांग करें। ‘‘केवल वही चीज़ें करें, जिनकी आपसे अपेक्षा की जाती है, क्योंकि इस स्टेज पर आपका समय केवल महत्वपूर्ण ही नहीं, बल्कि बहुत अनमोल भी है। उन चीजों में अपना समय बर्बाद न करें, जो आपके प्रोफ़ाइल को लाभ न पहुंचाएं,’’ अमित सलाह देते हैं।

ज्यादातर महिलाओं में घर के सभी कामों ज़िम्मेदारी उठाने की प्रवृत्ति होती है। ‘‘जब बच्चों और परिवार को आपके समय और ध्यान की जरुरत होगी, अपने प्रोफ़ेशनल जीवन में वरीयता निर्धारित करने से न डरें। कामकाज की एक प्रणाली बनाएं और ज़िम्मेदारियों को समानता से बांट दें।’’
ऐसे किसी भी बदलाव से नहीं डरें, जो करना अच्छा लगे-चाहे यह अपनी ख़ुद की कंपनी शुरू करना हो या फिर फील्ड बदलना।

बहुत-सी महिलाएं उम्र के तीसरे दशक में नौकरी छोड़ देती हैं, खासतौर पर वो, जिनके बच्चे होते हैं। यदि आपके सामने भी ऐसी स्थिति आती है तो खुद को इस खेल का हिस्सा बनाए रखें-पार्ट टाइम नौकरी करें, फ्रीलान्स करें, कंसल्टिंग करें-ताकि आपका हुनर बरकरार रहे।यह उम्र का सही दशक है, जब आप अपने सभी लोन चुका दें। क्योंकि इसके बाद आप अपना ध्यान परिवार के लिए बचत और अपने रिटायरमेंट के लिए योजना बनाने में केंद्रित कर सकेंगी।

सर्टिफाईड फायनांशियल प्लैनर से सलाह लेकर अपने रिटायरमेंट की योजना बनाएं। अपने रिटायरमेंट के लिए ज़रूरी है कि आप इस दशक में अपनी आय का 15% हिस्सा निवेश करें। वेतन में बढ़ोतरी के साथ सभी सोचते हैं कि उनके पास बड़ा घर और महंगी कार होनी ही चाहिए, लेकिन इस मनोविज्ञान के साइड इफ़ेक्ट्स के बारे में सोचें-अपनी आय से ज्याा इन चीज़ों पर खर्च न करें।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close