करियरशिक्षाहरियाणाहिसार

बीमार इन्टरनेट व्यवस्था, कैसे सफल होगी आयुष्मान भारत योजना ?

  • देश के 10.74 करोड़ परिवारों को लाभ पहुंचाने की बनाई योजना

आयुष्मान भारत योजना” भारत सरकार के “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय” की ओर से शुरू की गई स्वास्थ्य बीमा योजना है जिसकी घोषणा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं 15 अगस्त को थी। इस योजना के तहत देश भर के 10.74 करोड़ परिवारों को लाभ पहुंचाने की योजना बनाई गई है।
इस योजना का लाभ हिसार के महाराजा अग्रसेन नागरिक अस्पताल में आने वाले लाभािर्थयों को नहीं मिल पा रहा है। वैसे तो यहां पर आयुष्मान भारत योजना के तहत जानकारी के लिएकेन्द्र जरूर बना दिया गया है लेकिन इन्टरनेट की समुिचत व्यवस्था नहीं की गई है। यहां कहने को तो इन्टरनेट लगा है लेकिन ये जरूरत के समय काम ही नहीं करता। इसकी स्पीड ऐसी है कि आयुष्मान भारत योजना की साईट ही नहीं खुल पाती। इस प्रकार यहां कार्यरत कर्मचािरयों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है।

कर्मचारी मोबाईल पर खोलते हैं साईट

हिसार के नगरिक अस्पताल में आयुष्मान भारत योजना की खिड़की अक्सर लोग योजना की जानकारी के लिए आते है लेकिन यहां लगे कम्प्यूटर में लचर इन्टरनेट व्यवस्था के कारण यहां कार्यरत् कर्मचािरयों को अपने मोबाईल पर इन्टरनेट चला कर इस योजना के लाभािर्थयों को जानकारी देनी पड़ रही है। कम्प्यूटर पर नेट की समुिचत व्यवस्था नहीं होने के कारण लाभािर्थयोें को इस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

क्या है आयुष्मान भारत योजना

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महात्वकांक्षी योजना आयुष्मान भारत में देश के 10.74 करोड़ परिवारों को अस्पताल में इलाज कराने का खर्च नहीं देना होगा। ये परिवार पांच लाख रुपए तक का इलाज मुफ्त में करा सकेंगे। हर परिवार में औसतन 5 सदस्यों के हिसाब से, इस योजना से देश के 50 करोड़ से अधिक लोगों को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा गया है। आयुष्मान भारत योजना 2018 को आयुष्मान भारत बीमा योजना या आयुष्मान भारत स्कीम के नाम से भी जाना जाता है। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा दवारा शुरू की गई ऐसी ही स्वास्थ्य योजना ओबामा केयर की तर्ज पर मोदी सरकार की इस महत्वाकांक्षी येाजना को मोदी केयर भी कहा जा रहा है।

इन्हें मिलता है योजना का लाभ

• बीपीएल या गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले।
• बेघर व्यक्ति
• निराश्रित व्यक्ति
• भिक्षा मांगकर आजीविका चलाने वाला
• साफ सफाई करने वाले परिवार
• आदिम जनजातीय परिवार
• बंधुआ मजदूरी से मुक्त कराए गए व्यक्ति

कैशलेस व पोर्टेबल इलाज की व्यवस्था

  •  इस योजना के तहत देश के किसी भी हिस्से में इलाज करावाया जा सकता है।
  • सारा इलाज न सिर्फ कैशलेस होगा, बल्कि पेपरलेस भी होगा ताकि अस्पताल निर्धारित दरों से अधिक न वसूल सकें।
  • बीमा योजना के माध्यम से मिलने वाली स्वास्थ्य सेवा पूरे देश में पोर्टेबल भी होगी, यानी कि किसी भी एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल में इलाज को ट्रांसफर कराया जा सकता है।

कैसे होगा प्रधानमंत्री का सपना साकार

इस योजना का लाभ जरूरतमंद परिवारों तक पहुंचाने के लिए पूरे देश में 1.5 लाख केन्द्र खोले जाने हैं जहां ये केन्द्र खोले गए है उन पर किस प्रकार से काम हो रहा है उसकी एक बानकी हिसार के महाराजा अग्रसेन नागरिक अस्पताल में दखने को मिल ही रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का इस योजना को लेकर यही सपना है कि भारत में सभी लोग स्वस्थ हो और यदि उन्हें किसी भी प्रकार की बीमारी है तो उन्हें उिचत उपचार मिल सके। उपचार भी ऐसा जो उनकी जेब पर भारी न हो। ये बीमािरयां ही तो है जो परिवारों की स्थिति खराब कर देते हैं। कभी कभी तो एेसा भी होता है कि ईलाज इतना मंहगा होता है कि उपचार न करवा पाने के कारण मरीज को अपनी जान भी गंवानी पड़ती है।

हमने यहां इन्टरनेट की व्यवस्था करवाई हुई है। मेरी जानकारी में तो यहां सब ठीक चल रहा है। यदि फिर भी कोई समस्या आ रही है तो उसे ठीक करवा दिया जाएगा।
डॉ. दयानन्द, मुख्य चिक्तिसा अिधकारी, नागरिक अस्पताल,हिसार

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close