टुडे न्यूज़संपादकीय

कांग्रेस को नकारा कहने वाले रामबिलास जी गेस्ट टीचर से पूछो कौन है नकारा ? मिलेगा मजेदार जवाब

संपादकीय महेश मेहता

हिसार टुडे

भिवानी में शिक्षा मंत्री राम बिलास शर्मा ने जुबान खोली और कहा कि भाजपा आज चुनावों में सबसे आगे है। जबकि उनके सामने नकारा नेता हैं। इतना ही नहीं यह आग यहीं शांत नहीं हुई। उन्होंने कांग्रेस को नेता व नीति विहिन पार्टी करार दिया और कहा कि टिकट ना मिलने से नाराज नेताओं को हम जल्द मना लेंगें। वाह भाई वाह। रामबिलास शर्मा जी आप वही नेता है न जिसने कहा था 2014 चुनाव के पहले की गेस्ट टीचरों का मसला हल कर देंगे। भाईसाहब आप दूसरी पार्टी में लांछन लगाने के पहले यह बताओ कि उन वादों का आपने क्या किया ? याद है कि 2019 चुनाव आते ही भूल गए। दोष उनका नहीं बल्कि उन लोगों का है जो ऐसे वादाखिलाफी के खिलाफ चुप रहते हैं और सोशल मीडिया में आवाज उठाते हैं। अभी तो उनके पास असली मौका आया है यह पूछने का कि वादों का क्या? लोकतंत्र में आज हक की आवाज उठाना जरुरी है।

खैर बात करते है रामबिलास शर्मा जी की। काफी शिक्षित हैं। हमेशा कांग्रेस पर निशाना साधने का गुर उनमें कूट-कूट कर भरा हुआ है। ऐसे में रामबिलास शर्मा के हर वक्तत्व सुर्खियां बनना लाजमी हैं। ऐसे में जब विधानसभा चुनाव का दंगल शुरू हो गया है। कुछ चुनावी पहलवान मैदान में लड़ने के लिए तैयार हैं तो कुछ तैयारी में हैं। इस चुनावी दंगल में जबरदस्त मुकाबला होने वाला है, लेकिन शिक्षा मंत्री मुकाबले की बजाय भाजपा की एकतरफा जीत मान कर चल रहे हैं। यही नहीं उनका कहना है कि उनसे सामने वाले पहलवान रूपी नेता नकारा हैं। नकारा कौन है शायद यह “गेस्ट टीचर और कम्प्यूटर शिक्षक” भली भांति जानते हैं। आप जानना चाहते हैं तो उनके पास जाइये – धीरे से पूछिए कौन है नकारा ? जवाब आपको मिल जायेगा। गेस्ट टीचर जवाब ही नहीं देते, बल्कि आपको घर पर बिठाकर इस सवाल को पूछने की हिम्मत करने पर आपको चाय पिलाये बिना वापस नहीं भेजेंगे।

वैसे बात करें रामबिलास शर्मा की तो वह जब मीडिया से रूबरू हुए तो कहने लगे कि भाजपा ने 78 उम्मीदवारों को मैदान में उतार दिया है। उन्होंने यह भी दावा किया कि चुनावों में भाजपा सबसे आगे चल रही है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हमारे सामने वाले नेता नकारा हैं। उन्होंने हुड्डा व शैलेजा की जोड़ी पर कहा कि कांग्रेस नेता व नीति विहीन पार्टी है। अब आप ही बताये कि जो व्यक्ति 2 बार हरियाणा का मुख्यमंत्री रहा, जो प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा राजयसभा सांसद है उन्हें कोई नकारा कह सकता है? नकारा कहने वाले यह वही शक्श हैं जो खुद को भाजपा पार्टी की तरफ से मुख्यमंत्री का अब तक दावेदार मानते थे। मगर जब दाल गली नहीं तो शांत रहना ही मुनासिब समझा।

रामबिलास शर्मा ने लोकसभा चुनाव में पुलवामा का मुद्दा उठाया था और भाजपा की तरफ लोगों का वोट मांगा, मगर इस विधानसभा चुनाव में उन्होंने मोदी व शाह की जोड़ी की तारीफों के कसीदे कसते हुए कहा कि 370 व 35-ए हटाकर शहीदों का सम्मान किया है और देश भक्ति का परिचय दिया है। यानी कि इस बार भी विधानसभा में हरियाणा के भाजपा नेता अपने काम के लिए नहीं बल्कि 370 पर वोट मांगेंगे। रामबिलास शर्मा कहते हैं कि टिकट ना मिलने से नाराज नेताओं को जल्द मना लेंगें। भाईसाहब आप कैसे मना लेंगे। आपकी पार्टी में दूसरी पार्टी से आए लोगों के ही टिकट काट कर उनको अपने कार्यकर्ताओं के बीच मुँह दिखाने के लायक नहीं छोड़ा। आज वह अपने कार्यकर्ताओं के बीच किस मुँह से जाएंगे।

इनमें कितने ऐसे कार्यकर्ता हैं जिन्होंने अपने चुनाव प्रचार के लिए गाड़ियों और ऑटो रिक्शा की बुकिंग करके रख दी। मगर नतीजा क्या हुआ? अब पैसे भी लग गए और कार्यकर्ता भी। वो कार्यकर्ता क्या बोलेंगे जो आपके आगे पीछे चक्कर काटा करते थे। अब किसे लेकर वह घूमेंगे और कोई क्यों आएगा आपके साथ। रामपाल माजरा और स्वाति यादव की तो वैसे में सोशल मीडिया में फजीहत निकल रही है। ऐसे में जिनकी टिकट कटी है वह ही बता सकते हैं कि कौन है “नकारा।”

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close